पोस्ट

सब कुछ बदल रहा है / व्हाट्सप्प

 *दादी से पोती तक* मेरी दादी आई थी अपने ससुराल पालकी में बैठकर, माँ आई थी बैलगाड़ी में, मैं कार में आई,  मेरी बेटी हवाईजहाज से, मेरी पोती हनीमून की ट्रिप पर उड़गई अंतरीक्ष में। कच्चे मकान में दादी की जिंदगी गुजर गई पक्के मकान में रही माँ मुझे मिला मोजाइक का घर बेटी के घर में मार्वल पोती के घर में स्लैब लगे हैं ग्रेनाईट के। दादी पहनती थी खुरदरे खद्दर की साड़ी माँ की रेशमी और संबलपुरी मैंने पहनी हर तरह की फैशनेबुल साड़ियाँ बेटी की हैं सलवार-कमीज, जीन्स और टॉप्स मेरी पोती पहन रही स्किन फिटिंग टी-शर्ट और शर्ट्स। लकड़ी के चूल्हे में खाना पकाती थी दादी माँ की थी कोयले की सिगड़ी और हीटर  मेरे हिस्से में आया गैस का चूल्हा, जहाँ बेटी की रसोई होती माइक्रोवेव ओवन से पोती आधे दिन घर चलाती  डिब्बे के खाने से। दादा जी से कुछ कहने को दादी इंतजार करती थी सबेरे लालटेन के बुझने तक, माँ बात करती पिता जी से ऐसे मानो दीवार से बोल रही, मैं इनसे बात करती "अजी सुनते हो", मेरी बेटी दामाद जी को नाम से बुलाती, पोती आवाज लगाती दामाद को, "हाय हनी"। दादी बतियाती थी दादा जी से आधी बात सीने में दबाकर मा

कवि राजेश जोशी से मुकेश प्रत्यूष की बातचीत

 प्रिय कवि राजेश जोशी  से बात करना  हमेशा रूचिकर होता है।  बात से बात निकलती चली जाती है।  लगभग दो दशक पूर्व ऐसे  ही एकबार हमने लंबी बातचीत की थीी। टेप रिकार्डर आन था। बाद में यह कई पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई । पुराने कागजों में आज वह मिला। काफी लंबा है। कुछ अंश,  जो आज भी प्रासंगिक हैं, दे रहा हूं।    हिन्दी का  क्या भविष्य दिखता है आपको? जब नई अवधारणाएं आती हैं, नए तकनीक आते हैं, समाज में नए परिवर्तन होते हैं तो नए शब्द आते ही हैं। यह भाषा का विस्तार है। हिन्दी के बारे में पवित्रतावादी ढंग से सोचने की आदत को बदलना चाहिए और थेाडा लचीला रुख अपनाना चाहिए। रही बात हिन्दी के भविष्य की तो बाजार के पास हिन्दी केा अपनाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।  आज बाजार की नियामक शक्तियां आम आदमी की चेतना को कुंठित कर रहीं हैं। उसे उसकी वर्गीय चेतना और संघर्ष से दूर ले जा रहीं हैं। ऐसी स्थिति में  एक  रचनाकार होने के नाते आप किस भूमिका का निर्वाह कर रहे हैं?  बाजार शब्द बहुत व्यापक है।  हम इसके इस्तेमाल से यह नहीं बता पाते कि हमारा विरोध बाजार से नहीं, नए बाजार से है,  जो हमारा बाजार नहीं है। ह

खूब लड़ी मर्दानी वो तो...../ सुभद्रा कुमारी चौहान

इमेज
   सुभद्रा कुमारी चौहान भारतीय कवि किसी अन्य भाषा में पढ़ें डाउनलोड करें ध्यान रखें संपादित करें     सुभद्रा कुमारी चौहान  ( १६ अगस्त   १९०४- १५ फरवरी   १९४८ )  हिन्दी  की सुप्रसिद्ध कवयित्री और लेखिका थीं। उनके दो कविता संग्रह तथा तीन कथा संग्रह प्रकाशित हुए पर उनकी प्रसिद्धि  झाँसी की रानी (कविता)  के कारण है। ये राष्ट्रीय चेतना की एक सजग कवयित्री रही हैं, किन्तु इन्होंने स्वाधीनता संग्राम में अनेक बार जेल यातनाएँ सहने के पश्चात अपनी अनुभूतियों को कहानी में भी व्यक्त किया। वातावरण चित्रण-प्रधान शैली की भाषा सरल तथा काव्यात्मक है, इस कारण इनकी रचना की सादगी हृदयग्राही है। Subhadra Kumari Chauhan सुभद्रा कुमारी चौहान सुभद्रा कुमारी चौहान जन्म 16 अगस्त 1904 इलाहाबाद ,  संयुक्त प्रान्त आगरा व अवध ,  ब्रिटिश भारत के प्रेसीडेंसी और प्रांत मृत्यु 15 फ़रवरी 1948 (उम्र 43) [1] सिवनी ,  भारत व्यवसाय कवयित्री भाषा हिन्दी राष्ट्रीयता भारतीय अवधि/काल 1904–1948 विधा कविता विषय हिन्दी जीवनसाथी ठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान सन्तान 5 जीवन परिचय कथा साहित्य सम्मान कृतियाँ कहानी संग्रह बिखरे मोती (१९३२) उन्

महिला साहित्यकार

इमेज
  यह भारतीय महिला साहित्यकार (कवि, उपन्यासकार, पटकथा लेखक, नाटककार, पत्रकार आदि)से संवंधित श्रेणी है, जो या तो भारतीय मूल की हैं या उन्हें भारतीय नागरिकता मिली हुई है या फिर दोनों. उपश्रेणियाँ इस श्रेणी में निम्नलिखित 2 उपश्रेणियाँ हैं, कुल उपश्रेणियाँ 2 अ ►  अमृता प्रीतम ‎  (4 पृ) भ ►  भारतीय आदिवासी महिला साहित्यकार ‎  (8 पृ) "भारतीय महिला साहित्यकार" श्रेणी में पृष्ठ इस श्रेणी में निम्नलिखित 66 पृष्ठ हैं, कुल पृष्ठ 66 L झुम्पा लाहिड़ी S सरोजिनी साहू मृदुला सिन्हा अ अंजुम हसन अजीत कौर अनीता नायर अपर्णा वैदिक अमृता प्रीतम अलका सरावगी अशिता इ एम॰के॰ इंदिरा इन्दिरा दाँगी ए एम॰ लीलावती एलिस एक्का क कपिला वात्स्यायन कमला लक्ष्मण कमला सुरय्या कृष्णा अग्निहोत्री ख खादीज़ा मुमताज़ ग ग्रेस कुजूर च चित्रा मुद्गल इस्मत चुग़ताई लक्ष्मी कुमारी चूड़ावत ज जूलिया स्ट्रैची ज्योतिर्मयी देवी ड शोभा डे त तरन्नुम रियाज़ तेमसुला आओ द एम॰के॰ बिनोदिनी देवी निर्मला देशपांडे सुनीता देशपांडे न नंदिनी साहू नयनतारा सहगल नालापत बालमणि अम्मा निर्मला पुतुल प पी॰ वलसला ब सुष्मिता बनर्जी बर्निता बागची बसंता