पोस्ट

अक्तूबर, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

करवा चौथी महिलाओं के नाम

चित्र
गिरीश पंकज (करवा चौथ के पावन-पर्व पर संस्कृति का सम्मान करने वाली दुनिया की समस्त स्त्रियों को समर्पित)  त्याग है नारी, प्यार है नारी / ईश्वर का उपहार है नारी पार लगाती जो दुनिया को / वो अद्भुत पतवार है नारी देह नहीं है ये नादानो / हम सब पे उपकार है नारी सबका दुःख बन जाता उसका / एक महा किरदार है नारी बिन इसके घर भूत का डेरा / घर के गले का हार है नारी मुक्ति जहां से हो कर मिलती / वो इक पावन द्वार है नारी इस पर अत्याचार न करना / देवी का अवतार है नारी बिगड़ी सदा बनाने वाली / जादू का संसार है नारी लगे फूल -सी कोमल है पर / वक्त पड़े तलवार है नारी उसे हराना मुश्किल है पर / खुद ही जाती हार है नारी एक पंक्ति में बोलूं तो फिर / धरती का श्रृंगार है नारी तेरे कारण दुनिया सुन्दर / बार-बार आभार है नारी पुरुष सदा पत्थर है 'पंकज' / पर निर्मल जलधार है नारी

सुभद्राकुमारी चौहान

चित्र
सुभद्राकुमारी चौहान www.kavitakosh.org/subhadrakumari जन्म: 16 अगस्त 1904 निधन: 15 फ़रवरी 1948 जन्म स्थान ग्राम निहालपुर, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश , भारत कुछ प्रमुख कृतियाँ त्रिधारा, ‘मुकुल’ (कविता-संग्रह), ‘बिखरे मोती’ (कहानी संग्रह), ‘झांसी की रानी’ इनकी बहुचर्चित रचना है। विविध ‘मुकुल’ तथा ‘बिखरे मोती’ पर अलग-अलग सेकसरिया पुरस्कार। जीवनी सुभद्राकुमारी चौहान / परिचय कविता कोश पता www.kavitakosh.org/subhadrakumari कविताएँ झांसी की रानी / सुभद्राकुमारी चौहान मेरा नया बचपन / सुभद्राकुमारी चौहान जलियाँवाला बाग में बसंत / सुभद्राकुमारी चौहान साध / सुभद्राकुमारी चौहान यह कदम्ब का पेड़ / सुभद्राकुमारी चौहान ठुकरा दो या प्यार करो / सुभद्राकुमारी चौहान कोयल / सुभद्राकुमारी चौहान पानी और धूप / सुभद्राकुमारी चौहान वीरों का कैसा हो वसंत / सुभद्राकुमारी चौहान खिलौनेवाला / सुभद्राकुमारी चौहान उल्लास / सुभद्राकुमारी चौहान झिलमिल तारे / सुभद्राकुमारी चौहान मधुमय प्याली / सुभद्राकुमारी चौहान मेरा जीवन / सुभद्राकुमारी चौहान झाँसी की रानी

श्याम नारायण पाण्डेय

चित्र:श्याम940.jpg वीर रस के कवि श्याम नारायण पाण्डेय (1907-1991) श्याम नारायण पाण्डेय (1907 - 1991) वीर रस के सुविख्यात हिन्दी कवि थे। वह केवल कवि ही नहीं अपितु अपनी ओजस्वी वाणी में वीर रस काव्य के अनन्यतम प्रस्तोता भी थे। अनुक्रम 1 जीवनी 2 कृतियाँ 3 उदाहरण 4 सन्दर्भ 5 इन्हें भी देखें 6 बाहरी कड़ियाँ जीवनी श्याम नारायण पाण्डेय का जन्म श्रावण कृष्ण पंचमी सम्वत् 1964, तदनुसार ईसवी सन् 1907 में ग्राम डुमराँव, मऊ, आजमगढ़ ( उत्तर प्रदेश ) में हुआ। आरम्भिक शिक्षा के बाद आप संस्कृत अध्ययन के लिए काशी चले आये। यहीं रहकर काशी विद्यापीठ से आपने हिन्दी में साहित्याचार्य किया। द्रुमगाँव (डुमराँव) में अपने घर पर रहते हुए ईसवी सन् 1991 में 84 वर्ष की आयु में उनका निधन हुआ। मृत्यु से तीन वर्ष पूर्व आकाशवाणी गोरखपुर में अभिलेखागार हेतु उनकी आवाज में उनके जीवन के संस्मरण रिकार्ड किये गये। कृतियाँ श्याम नारायण पाण्डेय जी ने चार उत्कृष्ट महाकाव्य रचे, जिनमें हल्दीघाटी (काव्य) सर्वाधिक लोकप्रिय और जौहर (काव्य) विशेष चर्चित हुए। हल्दीघाटी में

कार्लो गोल्दोनी

चित्र
   कार्लो गोल्दोनी पूरा नाम कार्लो ओसवाल्दो गोल्दोनी जन्म 25 फ़रवरी , 1707 जन्म भूमि वेनिस मृत्यु 6 फ़रवरी , 1793 मृत्यु स्थान पेरिस, फ़्राँस पति/पत्नी निकोलेत्ता कोनिओ कर्म भूमि वेनिस और पेरिस मुख्य रचनाएँ 'ला वेदोवा स्कल्त्रा', 'बोत्तेगा देल कफ्फे', 'लोकांदिएरा', 'इन्नमोरती', 'ई रूस्तेगी', 'ले स्मानीए देल्ला वीसेज्जातूराद' आदि। भाषा ग्रीक, लैटिन, इतालवी तथा फ़्राँसीसी। प्रसिद्धि नाटककार नागरिकता इटेलियन अन्य जानकारी 18वीं शती के इतालवी साहित्यिक जगत का बहुत ही रोचक चित्रण कार्लो गोल्दोनी के संस्मरणों में मिलता है। अपने जीवन की घटनाओं का बड़े निरपेक्ष ढंग से इन्होंने वर्णन किया है। इन्हें भी देखें कवि सूची , साहित्यकार सूची कार्लो ओसवाल्दो गोल्दोनी ( अंग्रेज़ी : Carlo Osvaldo Goldoni  ; जन्म- 25 फ़रवरी , 1707, वेनिस; मृत्यु- 6 फ़रवरी , 1793, पेरिस, फ़्राँस ) प्रसिद्ध इतालवी नाटककार थे। आरंभ से ही गोल्दोनी की रुचि रंगमंच की ओर र

सुभद्रा कुमारी चौहान

चित्र
   सुभद्रा कुमारी चौहान पूरा नाम सुभद्रा कुमारी चौहान जन्म 16 अगस्त , 1904 जन्म भूमि निहालपुर, इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश मृत्यु 15 फरवरी , 1948 मृत्यु स्थान सड़क दुर्घटना ( नागपुर - जबलपुर के मध्य) अभिभावक ठाकुर रामनाथ सिंह पति/पत्नी ठाकुर लक्ष्मण सिंह संतान सुधा चौहान, अजय चौहान, विजय चौहान, अशोक चौहानत और ममता चौहान कर्म-क्षेत्र लेखक मुख्य रचनाएँ 'मुकुल', 'झाँसी की रानी', बिखरे मोती आदि विषय सामाजिक, देशप्रेम भाषा हिन्दी पुरस्कार-उपाधि सेकसरिया पुरस्कार प्रसिद्धि स्वतंत्रता सेनानी, कवयित्री, कहानीकार विशेष योगदान राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भूमिका निभाते हुए, उस आनन्द और जोश में सुभद्रा जी ने जो कविताएँ लिखीं, वे उस आन्दोलन में स्त्रियों में एक नयी प्रेरणा भर देती हैं। नागरिकता भारतीय अन्य जानकारी भारतीय तटरक्षक सेना ने 28 अप्रॅल , 2006 को सुभद्रा कुमारी चौहान को सम्मानित करते हुए नवीन नियुक्त तटरक्षक जहाज