पोस्ट

फ़रवरी, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महात्मा गांधी हिन्दी विश्‍वविद्यालय का दुर्लभ संग्रहालय

चित्र
translation Translate | English Spanish German Chinese स्वामी सहजानंद सरस्वती विचार मंच द्वारा प्रकाशित पत्रिका विश्‍वविद्यालय के संचार एवं मीडिया अध्‍ययन केन्‍द्र की छात्रा गुंजन राय और ऋतु राय ने स्‍वामी सहजानंद सरस्‍वती संग्रहालय को सहजानंद का भारत नामक कृषि पत्रिका की प्रवेशांक सहित दो प्रतियां सौंपी। इस पत्रिका का प्रकाशन स्‍वामी सहजानंद सरस्‍वती विचार मंच द्वारा हुआ है। इन पत्रिकाओं में किसानों की ज्‍वलंत समस्‍याओं से संबंधित आलेख संग्रहीत हैं। रामकुमार वर्मा की प्रथम प्रकाशित काव्य कृति 'गांधी गान' संग्रह में डा. राम कुमार वर्मा की कविताएं पहली बार एक साथ संकलित हो कर सामने आई थीं। 1922 में छपी इस काव्‍य पुस्तिका में दो और तत्‍कालीन युवा कवियों ' मिलाप ' और ' निर्बल ' की कविताएं भी संकलित हैं। तीन कवियों का यह संग्रह समस्‍यापूर्ति की रचनाओं से बनाई गई है। पुस्‍तक की पृष्‍ठभूमि यह है कि साहित्‍य प्रचारक कार्यालय के स्‍वामी नाथूराम रेजा नें गांधी जी पर 'विश्‍व मोह लीनो है' पंक्ति पर समस्‍यापूर्ति कर