जंगे एलाने -- मोदी जंग स्क्रिप्ट / अनामी शरणबबल





मन में लिख रहा हूं मोदी जंग का स्क्रिप्ट 
--------------------------------------------

अनामी शरण बबल 


आजादी है
हम आजाद हैं
लालकिला के
इस मौके पर भी
एक सीएम का पीएम के सामने
सोने की आजादी है
आंखे बंद कर

बैठे बैठे सो जाना / कितनी अच्छी बात है ?
कोई बकता रहे चाहे आधा सच
या
बकवास
सब माफ है।
नींद का अधिकार
केवल मेरे पास है।
 

सत्ता पाकर भी 
सुख नहीं पाने का विलाप है
सीएम की नौकरी मिली, मगर अधिकार नहीं
अपनों से गैरों से सबसे मोदी जंग कर बैठा
पर हार मिली।
 

मैं सो नहीं रहा हूं
सुन लो मेरे 
चीर चार अचिर दोस्ते दुश्मन ?
मैं सो नहीं रहा हूं
दुर्योधन सा
मेरे भाईयों बहनो का
चीर हरण की योजना बना रहा हूं ।


लाल किले की आवाज सुन रहा हूं कि किस किस को काटना है
किस किस पर करनी है वार 

किसको कब कहां और कैसे घेरा जाए
समझौता नहीं कोई
मैं केवल अड़ा रहूंगा / मोदीजी के सामने खड़ा रहूंगा।
 

70 साल से दिल्ली पर हो रहा है अत्याचार
कागजी तलवार धरा कर
दिल्ली का हो रहा है केवल संहार
सोच लो मोदी जी
मेरे को सोते देख खुश नहीं होना
कि अपना एके सो रहा है
कुछ भी बक दो चलेगा ।
तो सुनो पीएम साहेब
भले ही वजन में सीना में ताकत में ना टिक सकूं मैं
मगर लांछन लगाने में तो
मैं बहुत हूं आगे आगे और आप?

आप हो मेरे से इस मामले में 
बहुत पीछे बहुत पीछे बहुत बहुत पीछे.....
 

सुनो मोदीजी 
एक जंग/जंग से जंग हारा हूं 
मगर बेचारा नहीं हूं
देख लूंगा दिखा दूंगा
ईट से ईट बजा दूंगा
दिन में तारे दिखा दूंगा

कहीं का नहीं छोडूंगा 
दिल्ली में कमल को झाडू में मिला दूंगा
कमल को कदम दर कदम हरा दूंगा
निगम चुनाव में बता दूंगा
गोयल शाह गुप्ता उपाध्याय को भी
कहीं के लायक नहीं छोडूंगा ।
 

मोदीजी 
आपका समय खराब आने वाला है
आप की डंका से
कमल छाप लंका जलने वाला है।
कुछ इसी तरह की

मन मे, मन से मन की बात कर रहा हूं
हनुमान बन मन में
आपकी लंका में उत्पात कर रहा हूं।
अहहहहअहहहहहहहहाहाहा 


सोच लो मोदीजी
कुछ इसी तरह का मन में 
पक रहा है एंटी मोदी स्क्रिप्ट (स्क्रीप्ट) 
अब लडाई आर पार की है
पहली लडाई 70/3 की थी 

(विस चुनाव में आप 67 और कमल को केवल 3 सीटें मिली थी)
गांधी बबा के तीनों मेरी पोटली से भाग गए थे
पर इस बार देखना है कि 272 में (निगम पार्षद वार्ड)
272 की लड़ाई है।
कौन रहेगा 11 पर?
झाडू भले ही पुरानी हो चली है पर कांटों में दम है
मैं लाल किला मैदान में सोया नहीं
यह आपका केवल भ्रम और मेरी चाल है।
दुश्मन पर तब करो वार

जब सबसे खुश मस्त और खुशहाल हो ।

मेरा भी हो सकता है हाल बेहाल 
यह देखना कि 

आपके एके 49 में 
(पहली बार आप की 49 दीनिया (दिनों तक चली सरकार थी)
अब भी दम शेष है? 
 

सुनो 
सुनो दिल्ली वालों 
इस बार फिर 
आप की नहीं
आपके केजरी का संदेश है।
मै काम भले ही ना करूं या कम करूं

पर आपकी इज्जत मेरे हाथ है
हर घर से फिर अबकी झाडू का साथ है।
साथ देना साथ देना 

पहले जैसा ही
नहीं तो

केजरी एंड सपरिवार पार्टी
पहले की तरह ही

दीन हीन अनाथ है।

पर सुनो 
सुनो मेरी पीड़ा
कोई नहीं है अब आप के साथ 
कुछ भाग गए कुछ छोड़ गए
बस्स 
आपका ही आप के साथ है
नहीं तो 
आपके साथ 
जनता के सथ साथ 
एके अनाथ है। 

अनामी शरण बबल 
16082016



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?

ईर्ष्यालु बहनों की कहानी / अलिफ लैला