मन हमारा गर कहीं निर्मल नहीं होगा


जो खरा है वह कभी दुर्बल नहीं होगा
टूट कर सोना कभी पीतल नहीं होगा

मैं चलूँगा ज़िंदगी में ज़िद यही मेरी
गर किसी का भी मुझे सम्बल नहीं होगा

माँ तुम्हारे बिन मेरी ये ज़िंदगी क्या है
क्या करुंगा जब तेरा आँचल नहीं होगा

हर तरफ धोखाधड़ी है, इक छलावा है
कैसे कह दूँ इक भला पागल नहीं होगा

जो लगन से काम करते हैं सफल होंगे
काम सच्चा है तो फिर निष्फल नहीं होगा

कोई भी रिश्ता कभी टिकता नहीं ज़्यादा
मन हमारा गर कहीं निर्मल नहीं होगा

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?

ईर्ष्यालु बहनों की कहानी / अलिफ लैला