पलकें / संतोष अग्निहोत्री

 _पलकें / संतोष  अग्निहोत्री 


तुम बिन 

बारिश भी सूखी सी🌫


तुम बिन

हवा चले रूठी सी😔


तुम बिन

खुशबू भी फीकी सी🌹


तुम बिन

हँसी भी झूठी सी🙂


तुम बिन

तारे कम हैं चमके⭐


तुम बिन

फूल नहीं हैं महके🌻


तुम बिन

पलकें भी हैं बोझिल😞


तुम बिन

कुछ कहना है मुश्किल🤐


सच्ची..................


❤❤❤❤

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?

हातिमताई के किस्से कहानी