पंडित रूपचंद






प्रस्तुति-- राजेश सिन्हा, शैली सिन्हा


भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
  • पंडित रूपचंद (जन्म 1908 ई.) पंजाब के क्रांतिकारी थे। पंडित रूपचंद का जन्म 1908 ई. में अविभाजित हिन्दुस्तान के रावलपिंड़ी ज़िले में हुआ था।
  • उन्होंने औपचारिक शिक्षा मैट्रिक तक ही पाई थी किंतु स्वाध्याय से वे सुपठित व्यक्ति थे।
  • लाला लाजपतराय के विचारों का उन पर बड़ा प्रभाव पड़ा।
  • जार्ज बर्नाड शॉ, रवीन्द्रनाथ ठाकुर, शरतचंद्र चट्टोपध्याय उनके प्रिय लेखक थे।
  • उन्होंने कुछ दिन लाहौर के प्रताप पत्र में काम किया और इस बीच हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी नामक क्रांतिकारी संगठन में सम्मिलित हो गए।
  • 1929 ई. में लार्ड डरर्विन की ट्रेन को उड़ाने के प्रयत्न में उनका भी हाथ था।
  • सरदार भगतसिंह को जेल से छुड़ाने के जो प्रयत्न 1930 ई. में किए गए, पंडित रूपचंद उसमें भी सम्मिलित थे।
  • पुलिस को भयभीत करने के लिए पंजाब में उन लोगों ने एक दिन में 6 स्थानों पर बम विस्फोट किए थे। पुलिस इनके पीछे पड़ी थी।
  • अगस्त 1930 ई. में इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।
  • मुकदमे में आजीवन कारावास की सज़ा हुई और लगभग 16 वर्ष जेलों में बंद रहने के बाद वे 1946 ई. में रिहाई के बाद कांग्रेस में सम्मिलित हो गए थे।
 




पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार

प्रारम्भिक



माध्यमिक



पूर्णता



शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ


लीलाधर, शर्मा भारतीय चरित कोश (हिन्दी)। भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: शिक्षा भारती, 449।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईर्ष्यालु बहनों की कहानी / अलिफ लैला

दो सौ पौराणिक कथाएं

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?