गुरुवार, 24 जुलाई 2014

युवा कवि सुरेश कुमार वशिष्ठ की खासियत





मन की देहरी पर गहन आत्मीयता के साथ कह जाना युवा कवि सुरेश कुमार वशिष्ठ की खासियत है। इनकी कविताएं पढ़कर संबंधों के प्रति लगाव का एहसास होता है। युवा कथाकार आकांक्षा पारे काशिव के शब्दों में, "सुरेश की कविताएं पढ़कर लगता है कि अभी कविता के दिन बाकी हैं।" सच में सुरेश ने कविता को न सिर्फ रचा है बल्कि उसे अपने तरीके से हमारे सामने रखा है-- गुनगुनी धुप में घास पर चमकते ओस की ताज़गी हर शब्द में है। जैसे बरस चुके बरसात के बाद मौसम की अंगराई, नरम माटी, गीले पत्ते और पेड़ों से उसकी तरुणाई की कच्ची कुवारी गंध। शब्द कभी बेजान नहीं लगते।
Suresh Kumar Vashishth, आमोद महेश्वरी, Rajkamal Prakashan Samuh, Suraj Kumar, Nalin Chauhan, Pramod Chauhan
Photo: मन की देहरी पर गहन आत्मीयता के साथ कह जाना युवा कवि सुरेश कुमार वशिष्ठ की खासियत है। इनकी कविताएं पढ़कर संबंधों के प्रति लगाव का एहसास होता है। युवा कथाकार आकांक्षा पारे काशिव के शब्दों में, "सुरेश की कविताएं पढ़कर लगता है कि अभी कविता के दिन बाकी हैं।" सच में सुरेश ने कविता को न सिर्फ रचा है बल्कि उसे अपने तरीके से हमारे सामने रखा है-- गुनगुनी धुप में घास पर चमकते ओस की ताज़गी हर शब्द में है। जैसे बरस चुके बरसात के बाद मौसम की अंगराई, नरम माटी, गीले पत्ते और पेड़ों से उसकी तरुणाई की कच्ची कुवारी गंध। शब्द कभी बेजान नहीं लगते।     
Suresh Kumar Vashishth, आमोद महेश्वरी, Rajkamal Prakashan Samuh, Suraj Kumar, Nalin Chauhan, Pramod Chauhan
Like

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...