रविवार, 23 जनवरी 2022

रवि अरोड़ा की नजर से....

 आपने कभी देखी / रवि अरोड़ा



किसी फिल्म का तो याद नहीं मगर जहां तक साक्षात दर्शन की बात है तो मुझे अभी तक लैंबोर्गिनी कार के दीदार नहीं हुए । करोड़ों रुपयों की इस कार में सवारी तो कभी सपने में भी नसीब नहीं हुई । क्या करूं मेरे सभी लोग हैं ही गरीबडे , एक बढ़िया कार तक नहीं खरीद सकते । अपने शहर की बात करूं तो यहां भी सब फक्कड़ ही हैं । एक लैंबोर्गिनी भी पूरे शहर में नहीं है । बड़े बड़े धन्ना सेठ घूम रहे हैं मगर हैं सब हवा हवाई ही । असली माल तो दिल्ली, मुंबई और बंगलुरू जैसे शहरों के लोग लिए बैठे हैं । इस कोरोना काल में मोदी जी की सलाह का असली पालन भी उन्होंने ही किया और आपदा में अवसर पैदा कर लिया । 


आज सुबह ही अखबार में पढ़ा कि देश में पिछले साल लैंबोर्गिनी की बिक्री में रिकार्ड तोड़ वृद्धि हुई है । यह वृद्धि 86 फीसदी आंकी गई । कंपनी के इतिहास में ऐसा 59 साल बाद हुआ । कोरोना में पूरा देश तबाह हो गया मगर कुछ लोगों पर लक्ष्मी इतनी मेहरबान हुई कि उनके छप्पर ही नोटों की बरसात से फट गए । लैमोर्गिनी बनाने वाली कंपनी ने अपनी सालाना रिपोर्ट जारी करते हुए बताया है कि उसकी दुनिया भर में बिक्री दर सबसे अधिक भारत में बढ़ी है । आलम यह है कि 2021 ही नही 2022 के लिए भी बुकिंग फुल हो गई है । अब जिसे यह कार चाहिए उसे 2023 तक का इंतजार करना पड़ेगा । जी नहीं , यह कोई ऐसी वैसी कार नहीं है । इसका सस्ते से सस्ता मॉडल भी साढ़े तीन करोड़ रुपए का है । ऊंचा मॉडल चाहिए तो साढ़े पांच करोड़ खर्च करने पड़ेंगे ।

उधर दुनिया की सबसे महंगी कार रॉल्स रॉयस की भी यही कहानी है । उसकी भी भारत में रिकॉर्ड तोड बिक्री हुई है । अब ऐसा हो भी क्यों नहीं , देश तरक्की की राह पर कुलांचें जो भर रहा है । पिछले हफ्ते ही अखबार में खबर थी कि कोरोना काल में अडानी की संपत्ति दोगुनी हो गई । अंबानी ने भी अपने पैसे डेढ़ गुना कर लिए । देश में इतने नए अरबपति बन गए जितने सत्तर सालों में नहीं बने ।

 सरकार भी कह रही है कि हम अगले कुछ सालों में दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेंगे । देखा है न खुशखबरी ?


मगर पता नहीं क्यों कुछ लोग हमारी खुशियों से जलते हैं और सुबह शाम आएं शाएं बकते हैं । पता नहीं कौन अखबारों में छपवा रहा है कि देश की 57 फीसदी संपत्ति 10 फीसदी लोगों के पास है । वैश्विक असमानता रिपोर्ट में भी न जाने किसने डलवा दिया कि गरीब अमीर के बीच असमानता बढ़ने के मामले में भारत दुनिया का अगुआ देश बन रहा है । नीति आयोग में भी कुछ विघ्न संतोषी बैठे हैं जो दावा कर रहे हैं कि भारत का हर तीसरा आदमी गरीब है । पार्वटी एंड शेयर्ड पोस्पैरिटी रिपोर्ट भी पता नही इस साल किसने तैयार की और लिख दिया कि भारत में पिछले 45 सालों में जितने गरीब बड़े उतने पिछले एक साल में बढ़ गए । सरकारी आंकड़ा 2019 तक 36 करोड़ गरीब लोगों का था मगर कुछ खुराफातियों ने सरकार से 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज बंटवा कर इस आंकड़े को भी पलीता लगा दिया । न जाने कौन खुराफाती हैं जो कह रहे हैं कि देश गरीब हो रहा है और लोग अमीर हो रहे हैं । बेरोजगारी  और भुखमरी के आंकड़े भी घर में बैठ कर ही किसी ने जारी कर दिए । मेरे खयाल से हमारे सिस्टम में कुछ बिगाड़ खाते वाले लोग हैं । उन्हें देश की तरक्की दिखाई ही नहीं देती ।

 न जाने कहां कहां से लाकर न जाने किस किस की रिपोर्ट छपवा देते हैं । चलिए जाने दीजिए उन्हें । आप बताइए क्या आपने कभी देखी है लिंबोर्गिनी कार ?


🙏🏿✌🏾️

शनिवार, 22 जनवरी 2022

भानगढ़ की सच्ची कहानी

 #pratilipihindi #freeread #goodread

 'भारत एक अद्भुत और रहस्यमई देश है' यह बात पूरा विश्व जानता है। आज भी यहां पर ऐसे अनेक तहखानों के बंद दरवाजे पड़े हैं जिनमें कोई ताला नहीं है, कोई जंजीर नहीं है ! सिर्फ मंत्रों की ताकत से बंधे अपने सीने में न जाने कितने अनजाने राज छुपाए हैं। कुछ इसी तरह की रहस्यमई किंवदंतियों के कारण भानगढ़ का किला हमेशा से चर्चा का विषय रहा है। भानगढ़ दुर्ग राजस्थान के अलवर जिले में सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान के पास में स्थित है। जिसका निर्माण राजा भान सिंह ने करवाया था। उन्होंने अपने पूरे शासनकाल तक यहां सुख पूर्वक शासन किया था। उनके बाद उनके पुत्र भगवंत दास ने गद्दी संभाली। भगवंत दास के भी दो पुत्र हुए... जिनका नाम मानसिंह व माधो सिंह था। माधो सिंह के 3 पुत्र हुए ...सुजान सिंह, छत्र सिंह और तेज सिंह.. माधो सिंह के बाद छत्र सिंह वहां के राजा बने।इसके बाद छत्र सिंह के पुत्र अजब सिंह हुए जिन्होंने मानगढ़ से दूर अजबगढ़ (अपने नाम पर) बसाया। इसके बाद अजब सिंह के दो पुत्र हुए...काबिल सिंह और हरि सिंह। काबिल सिंह अजबगढ़ में ही रह गए, लेकिन हरि सिंह ने पुनः भानगढ़ को स्वीकार किया।उसके बाद हरी सिंह के दो बेटों ने डर वस या लालच वस औरंगजेब के शासनकाल में इस्लाम स्वीकार कर लिया। लेकिन अभी भी भानगढ़ पर उनका अधिकार था। औरंगजेब के शासनकाल के बाद मुगल शक्ति कमजोर पड़ गई और सवाई जय सिंह जी ने भानगढ़ पर विजय हासिल करके अपना अधिकार जमा लिया...!!अभी तक भानगढ़ में सुख शांति और समृद्धि का राज्य था। अभी तक सब खुशहाल थे.....भानगढ़ के रहस्यमई और निर्जन होने के पीछे मुख्य रूप से दो कहानियां मिलती हैं। जिन्हें मैं अपनी शैली में लिखने का प्रयास करता हूँ। 

 

 पहली कहानी

 

 प्रथम कथा के अनुसार भानगढ़ दुर्ग के समीप एक सन्यासी तपस्वी रहते थे। जिनसे अनुनय विनय करके राजा भान सिंह ने वहां पर दुर्ग बनाने की अनुमति तो ले ली ! लेकिन साथ में यह शर्त स्वीकार करना पड़ा कि किसी भी हालत में दुर्ग की परछाई उस ऋषि की कुटिया तक नहीं पहुंचनी चाहिए.... और प्रारंभ में ऐसा ही था ! किंतु आगे चलकर उनके पुत्र भगवंत दास ने 1683 में दुर्ग का पुनर्निर्माण करवाया और ऊंचाई बढ़ जाने के कारण उसका बिंब उस ऋषि की कुटिया तक पहुंचने लगा....ऋषि ने क्रोधित होकर श्राप दे दिया कि," शीघ्र ही इस दुर्ग का विनाश हो जाएगा और यहां पर प्रेत आत्माएं वास करेंगी।" लेकिन यहां पर थोड़ा सा मतभेद है। यदि दुर्ग की ऊंचाई बढ़ जाने पर श्राप दिया गया तो फिर लगभग 200 साल तक वहां पर सुख समृद्धि का राज्य कैसे था ? इसलिए दूसरी कहानी अधिक महत्व रखती है... आइए उसके बारे में पढ़ते हैं।

 

 भानगढ़ के रहस्य के बारे में दूसरी कथा

 

 इस कहानी के अनुसार भानगढ़ के इतिहास में अचानक अद्भुत सुंदरी और बुद्धिमान राजकुमारी रत्नावती का नाम आता है। राजकुमारी रत्नावती की सुंदरता की चर्चा पूरे भारत में हो रही थी। कहा जाता है कि रानी पद्मावती से भी अधिक सुन्दर राजकुमारी रत्नावती का रूप था। जो भी उन्हें देखता था मानो सम्मोहित सा हो जाता था। एक बार की बात है राजकुमारी रत्नावती पास के बाजार में अपनी दासी के साथ घूमने गई थी। जैसे पूर्णिमा का चांद सारे तारों की रोशनी को फीका कर देता है, उसी प्रकार आज सारे बाजार में रत्नावती के अलावा कुछ भी दर्शन के योग्य नहीं था। संयोगवश उसी बाजार में तांत्रिक सिंघवी पहुंच गया था ! जो कि मानगढ़ की पहाड़ियों के दूसरी छोर पर अपनी कुटिया बनाकर तंत्र साधनाएं करता था...सिंघवी एक उच्च कोटि का तांत्रिक और तंत्र साधनाओं में पूरी तरह निपुण था। "स्त्री का सौंदर्य जगत की सबसे बड़ी शक्ति होती है।" आज यह परिभाषित हो रहा था... मनस्वी और संयमी सिंघवी आज रत्नावती को देखते ही अपना सब कुछ न्योछावर करने के लिए तैयार था। आज उसे बोध हो रहा था कि संसार में साधना से भी अधिक आकर्षक कुछ हो सकता है। यूँ तो तंत्र जगत की साधनाओं का नियम है सिद्धि हमेशा परोपकार के लिए की जाती है। लेकिन आज वह सब कुछ भूल कर बावरा हो गया। रत्नावती एक पल के लिए उसकी हो जाए, बदले में उसकी जान भी चली जाए तो उसे कोई पछतावा नहीं होगा। "जब पुरुष के हृदय पर स्त्री का आकर्षण हावी हो जाता है, तो उसे अपना सर्वस्व त्याग देने में जरा भी संकोच नहीं होता। फिर ऐसी परिस्थिति में राजा, योद्धा , तपस्वी अथवा फकीर सब एक जैसे हो जाते हैं उस परम मधु की एक बूंद को पाने के लिए।" सिंघवी उसी तरह राजकुमारी के पीछे पीछे चलने लगा जैसे हवा के साथ पेड़ के सूखे पत्ते उड़ते जाते हैं। कुछ देर बाद राजकुमारी एक इत्र की दुकान पर रूकती है, और कुछ खास प्रकार की इत्र को परखने के बाद अपनी दासी को इत्र लेने के लिए इशारा करती है। इत्र की सुगंध सिंघवी तक पहुंचती है और अचानक उसकी तन्द्रा टूटती है। राजकुमारी ...

 आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें।

 https://pratilipi.page.link/p1PtK

बदलते परिवेश में बालक और बालसाहित्य*/ डॉ०सुरेन्द्र विक्रम*

 


मैंने बचपन में खिलौना तक कभी माँगा नहीं। .

मेरा बेटा माँगता है गोलियाँ मेरे पिता। 

                                  - माणिक वर्मा 


हमारे दौर के बच्चों को क्या हुआ लोगों 

खिलौना छोड़कर चाकू खरीद लाए हैं। 

                          - डॉ० कलीम कैसर 


मैं खिलौनों की दुकानों का पता पूछा किया

और मेरे फूल से बच्चे सयाने हो गए।

                                   - प्रभात शंकर


जुगनू को दिन के वक़्त पकड़ने की ज़िद करें 

बच्चे हमारे अहद के चालाक हो गए। 

                               - परवीन शाकिर


             आज के बच्चों का भयावह सच उजागर करती उपर्युक्त इन पंक्तियों ने अभिभावकों के मन और मस्तिष्क को झकझोर कर रख दिया है। अध्यापक/अध्यापिकाओं के सामने भी यह खुली चुनौती है। वर्षों पूर्व आयोजित राष्ट्रीय बाल भवन, नई दिल्ली की राष्ट्रीय संगोष्ठी में मैंने यह बात कही थी कि मीडिया ने आज के बच्चों को उनकी वास्तविक उम्र से कम से कम 10 वर्ष बड़ा कर दिया है। उस समय मेरी इस बात पर सहमति-असहमति के अलग-अलग स्वर उभरे थे। संगोष्ठी में उपस्थित लोगों के तरह-तरह के तर्क थे परंतु कंप्यूटर, लैपटॉप, इंटरनेट, साइबर कैफे, भूमंडलीकरण और  मीडिया आदि के बढ़ते प्रभाव ने आज के बच्चों को अपनी गिरफ़्त में लेकर मेरी उपर्युक्त बात को सच प्रमाणित कर दिया है। लखनऊ से प्रकाशित राष्ट्रीय सहारा में 4 नवंबर 2013 को संपादकीय पृष्ठ की इस रिपोर्ट ने तो उस समय लोगों की नींद उड़ा दी थी-

           *"पिछले साल (सन् 2012) चेन्नई में कक्षा 11 के 15 वर्षीय छात्र मोहम्मद इरफान ने हिन्दी की शिक्षिका उमा श्रीवास्तव की चाकू घोंपकर हत्या कर दी थी। इसके पहले वैश्विक संस्कृति की आदर्श श्रेणी में आ चुके और साइबर सिटी का मुहावरा बन चुके, दिल्ली से सटे शहर गुड़गाँव में भी आधुनिक शिक्षा की यही दुष्परिणति देखने में आई थी जहाँ के कुलीन बच्चों को विद्यार्जन कराने वाले यूरो इंटरनेशनल स्कूल के आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले दो छात्रों ने अपने ही सहपाठी की छाती गोलियों से छलनी कर दी थी। इसी तरह की एक घटना दिल्ली की है, जहाँ चोर-सिपाही का खेल खेल रहे एक 12 साल के बच्चे ने सचमुच की पिस्तौल को को खिलौना समझकर इसे अपने ही पड़ोस के एक दोस्त पर दाग दिया जिससे बच्चे की मौत हो गई। एक और घटना उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के एक गाँव की है जहाँ ग्यारहवीं के एक छात्र ने अध्यापक की डाँट से बौखलाकर उनके पेट में छुरा घोंप दिया था"*

               ऐसी घटनाएँ दिल को तो दहलाती ही हैं, आज के बच्चों के बारे में फिर से नए सिरे से सोचने के लिए भी मजबूर करती हैं। आज के बच्चों का एक नया पहलू यह भी है कि अब बच्चे आउटडोर खेल-कूद, किस्से -कहानी, रूठना-मनाना तथा हँसी-ठिठोली की मौज़-मस्ती भूल गए हैं। हम भले ही इस तथ्य को नजरअंदाज करना चाहें परंतु वास्तविकता बहुत दूर तक हमारा पीछा नहीं छोड़ती है। 

              यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व में डेढ़ करोड़ से अधिक बच्चे एड्स से पीड़ित हैं। कई हजार बच्चे विकलांगता के शिकार हैं। लाखों बच्चे खतरनाक उद्योग-धंधों में लगे हुए हैं। सिर्फ अलीगढ़ के ताला उद्योग में पच्चीस-तीस हजार से अधिक बच्चों का काम करना या अकेले दिल्ली में लगभग कई लाख बालमजदूरों का होना तथा फीरोजाबाद के चूड़ी उद्योग में बच्चों का काम करना आश्चर्य की बात नहीं है। इन उद्योग-धंधों में लगे बच्चे हों या शिवाकासी के पटाखा उद्योग में लगे बच्चे, तथ्य यही है कि गरीबी की मार झेल रहे इन बच्चों का बचपन सिसक रहा है। इन बच्चों की बेचारगी ने कवि कुँवर बेचैन को यह लिखने के लिए मजबूर कर दिया-


दुकानों  में  खिलौने  देखकर  मुँह फेर  लेते  हैं


किसी मुफ़लिस के बच्चों की कोई देखे ये लाचारी।

किसी दिन देख लेना वो उन्हें अंधा बना देगी

घरों में कैद कर ली है जिन्होंने रोशनी सारी। 

                 तथ्य तो यह भी है कि भारत के लगभग तीन करोड़ बच्चों में से बहुत से बच्चे आर्थिक रूप से ऐसे माहौल में रहते हैं जहाँ उन्हें बालश्रम का दंश झेलना ही पड़ता है। बालश्रम समाज में एक खौफनाक सच बन चुका है। डॉ0 आशीष वशिष्ठ की एक रिपोर्ट चौंकाने वाली है--

               *"5 से 12 साल तक की उम्र के बच्चे बालशोषण के सबसे ज्यादा शिकार होते हैं। हैरत की बात यह है कि हर तीन में से दो बच्चे कभी न कभी शोषण का शिकार रहे हैं। एक अध्ययन के दौरान लगभग 53.22% बच्चों ने किसी न किसी तरह के शारीरिक शोषण की बात स्वीकार की तो 21. 90% बच्चों को भयंकर शारीरिक उत्पीड़न का शिकार होना पड़ा। देश का हर दूसरा बच्चा भावनात्मक शोषण का भी शिकार है।"*

                 बालश्रम का फैलाव इतना अधिक है कि बच्चे दबावों के बीच में पिस रहे हैं। उनकी हालत देखकर वर्षों पूर्व लिखी गई वरिष्ठ कवि राजेश जोशी की निम्नलिखित पंक्तियाँ समाज की चेतना को बुरी तरह झकझोर देती हैं। ये पंक्तियाँ हम जब भी पढ़ते हैं तो अनायास हमारी आँखें नम हो जाती हैं। एक बहुत बड़ा सवाल हमारे सामने मुँह बाए खड़ा हो जाता है। हकीकत बयान करता यह सवाल आज भी उतना ही प्रासंगिक है जितना तब था जब ये पंक्तियाँ लिखी गई थीं-

  

  काम पर क्यों जा रहे हैं बच्चे 

  क्या अंतरिक्ष में गिर गई हैं सारी गेंदें

  क्या दीमकों ने खा लिया है 

  सारी रंग-बिरंगी किताबों को

  क्या काले पहाड़ के नीचे दब गए हैं सारे खिलौने

  क्या किसी भूकंप में ढह गई हैं 

  सारी मदरसों की इमारतें

  क्या सारे मैदान, सारे बगीचे और घरों के आँगन 

  खत्म हो गए हैं एकाएक

  तो फिर बचा ही क्या है इस दुनिया में? 

               आधुनिक कविता के प्रखर कवि राजेश जोशी ने सवाल भी उठाया और अंत तक आते-आते उसका जवाब भी दे दिया। उनका यह कहना सार्वभौमिक सच है कि अगर बच्चों से जुड़ी सारी चीजें खत्म हो गई हैं तो इस दुनिया में बचा ही क्या है? अगर बच्चे की दुनिया से उसका रंग-बिरंगा संसार, उसका खिलंदड़ापन, उसका नटखट फक्कड़पन और उसकी मौज-मस्ती गायब हो गई है तो सिवाय नीरसता के के बचा ही क्या है? 

                बच्चों के प्रिय कवि निरंकारदेव सेवक ने आज से चालीस वर्षों पूर्व लिखा था कि- *"बच्चों का संसार बड़ों के संसार से सर्वथा भिन्न होता है और उसमें रहे-बसे बिना इसका अनुभव नहीं हो सकता। बड़े होकर बच्चा बनना एक सतत् साधना और अभ्यास का काम है। आज किसे इतना अवकाश है कि इस पचड़े में पड़े। हमारे समाज में जब बच्चा ही उपेक्षित है तो उसके लिए लिखा हुआ साहित्य भी क्यों नहीं होगा।"*

          -ताम्रपर्णी: फरवरी-अप्रैल: 1978-79,पृष्ठ 4

                वरिष्ठ कवि नरेश सक्सेना तो बच्चों के प्रति हमारी मानसिकता को बड़ी व्यंग्यात्मक शैली में प्रस्तुत करते हैं-


कुछ बच्चे बहुत अच्छे होते हैं

वे गेंद और गुब्बारे नहीं माँगते मिठाई भी नहीं माँगते

जिद नहीं करते हैं 

और मचलते तो है ही नहीं

बड़ों का कहना मानते हैं

वे छोटो का भी कहना मानते हैं इतने अच्छे होते हैं

इतने अच्छे बच्चों की तलाश में रहते हैं हम 

और मिलते ही उन्हें घर ले आते हैं अक्सर तीस रुपए महीने और खाने पर। 


                 जनवादी कवि गोरख पांडेय तो बच्चों के मामले में पूरे समाज को ही कटघरे में खड़ा कर देते हैं-


बच्चों के बारे में बनाई गईं ढेर सारी योजनाएँ

ढेर सारी कविताएँ लिखी गई बच्चों के बारे में

बच्चों के लिए खोले गए ढेर सारे स्कूल

ढेर सारी किताबें बाँटी  गईं बच्चों के लिए

 बच्चे बड़े हुए

 जहाँ थे वहाँ से उठ खड़े हुए बच्चे

 बच्चों में से कुछ बच्चे

 हुए बनिया, हाकिम और दलाल हुए मालामाल और खुशहाल बाकी बच्चों ने सड़क पर कंकड़ टोड़ा

दुकानों में प्यालियाँ धोईं

साफ किया टट्टी-घर 

खाए तमाचे 

बाजार में बिके कौड़ियों के मोल गटर में गिर पड़े

 बच्चों में से कुछ बच्चों ने 

आगे चलकर फिर बनाई योजनाएँ बच्चों के बारे में कविताएँ लिखीं स्कूल खोले, किताबें बाँटी बच्चों के लिए। 


               आज का बच्चा समस्याओं से जूझ रहा है। टूटते संयुक्त परिवारों ने बच्चों के सामने अनगिनत प्रश्न खड़े कर दिए हैं। दादी-नानी के आँचल  की छाँव में पलने वाला बच्चा 'क्रेश' में आया की गोद में पल रहा है। आजीविका की आपा-धापी में दौड़ते हुए माता-पिता के पास समय का संकट है। अगर ऐसे समय में आज का  कवि -- जन्म से बोझ पा गए बच्चे, पालने में बुढ़ा गए बच्चे। -- (शिव ओम अंबर) जीवन का सच लिखते हैं तो हमें इसे स्वीकार करना ही होगा। 

                 पालने के संकट से अभी बच्चे उबर भी नहीं पाए थे कि उन्हें बस्ते के बोझ ने आक्रांत कर दिया। बोझ इतना बड़ा की बालमन कराह उठा। बस्ते के बढ़ते बोझ से होमवर्क का बढ़ना लाजमी था, जिसका परिणाम यह हुआ कि बच्चे होमवर्क से आतंकित हो गए। स्वतंत्र टिप्पणीकार पंकज चतुर्वेदी की होमवर्क के बारे में हिन्दुस्तान दैनिक के संपादकीय पृष्ठ पर छपी यह टिप्पणी बड़ी महत्त्वपूर्ण है- *"आज छोटे-छोटे बच्चे होमवर्क के आतंक में दबे पड़े हैं, जबकि यशपाल समिति की सलाह थी कि प्राइमरी कक्षाओं में बच्चों को गृहकार्य इतना दिया जाना चाहिए कि वे अपने घर के माहौल में नई बात खोजें और उन्हीं बातों को विस्तार से समझें। आज तो होमवर्क का मतलब ही पाठ्यपुस्तक के सवालों-जवाबों को काॅपी पर उतारना या उसे रटना रह गया है।"*

                बस्ते के बोझ की यह व्यथा निम्नलिखित पंक्तियों में उभरकर सामने आई है-

   

इक ऐसी तरकीब सुझाओ, तुम कंप्यूटर भैया। 

बस्ते का कुछ बोझ घटाओ, तुम कंप्यूटर भैया। 

हिंदी, इंग्लिश, जी०के० का ही,बोझ हो गया काफी 

बाहर पड़ी मैथ की कॉपी, कहाँ रखें  'ज्योग्राॅफी'। 

 रोज-रोज यह फूल-फूलकर, बनता जाता हाथी। 

कैसे इससे मुक्ति मिलेगी, परेशान सब  साथी। 

'होमवर्क' इतना मिलता है, खेल नहीं हम पाते। 

ऊपर से ट्यूशन का चक्कर, झेल नहीं हम पाते। 

पढ़ते-पढ़ते ही आँखों पर, लगा लेंस का चश्मा। 

भूल गया सारी शैतानी, कैसा अजब  करिश्मा। 

घर बाहर सब यही सिखाते, अच्छी भली पढ़ाई।

पर बस्ते के बोझ से भैया, मेरी आफत आई।


                 बच्चा अपनी समस्या का निराकरण चाहता है जिसके लिए वह कंप्यूटर की शरण में जाता है। उसकी कंप्यूटर से प्रार्थना बड़ी दिलचस्प है-


मेरी तुमसे यही प्रार्थना, कुछ भी कर दो ऐसा।

फूला बस्ता पिचक जाए, मेरे गुब्बारे  जैसा।

           - इक्कीसवीं सदी की ओर : पृष्ठ 37


               बदलते जीवन मूल्यों और सूचना-प्रौद्योगिकी से संपन्न इस युग में बच्चों के सामने समस्याओं का अंबार लगा है। समस्याओं की लंबी-चौड़ी सूची में कुछ और नई समस्याएँ जोड़ देना आसान है, परंतु उनका निराकरण करना अपने आप में बड़ा जटिल है। बालसाहित्य के सुप्रसिद्ध समीक्षक और रचनाकार डॉ0 हरिकृष्ण देवसरे ने वर्षों पूर्व यह सवाल उठाया था कि- *"हम बच्चों को कैसा भविष्य देंगे यह एक पेचीदा सवाल बन गया है। विश्व भर के बच्चे किसी न किसी  खतरे, पीड़ा या संकट से आतंकित हैं। आखिर हम उनके लिए कैसी दुनिया का निर्माण करने जा रहे हैं? यह संपूर्ण मानवता के अस्तित्व और भविष्य से जुड़ा हुआ प्रश्न है।"*

                 गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने बच्चों के बारे में बिल्कुल सही लिखा था कि-

             *"ठीक से देखने पर बच्चे जैसा पुराना और कुछ नहीं है। देश-काल, शिक्षा, प्रथा के अनुसार वयस्क मनुष्यों में कितने परिवर्तन हुए हैं, लेकिन बच्चा हजारों साल पहले जैसा था, आज भी वैसा ही है। वही अपरिवर्तनीय, पुरातन बारंबार आदमी के घर में बच्चे का रूप धर कर जन्म लेता है लेकिन तो भी सबसे पहले दिन वह जैसा नया था, जैसा सुकुमार था, जैसा भोला था, जैसा मीठा था, आज भी ठीक वैसा ही है। इस जीवन  चिरंतनता का कारण यह है कि शिशु प्रकृति की  सृष्टि है जबकि वयस्क आदमी बहुत अंशों में आदमी की अपने हाथ से रचना होता है।"*

          - रवीन्द्रनाथ के निबंध :422, 23

इसे और आगे स्पष्ट करते हुए रवींद्रनाथ नाथ टैगोर कहते हैं कि- *"बालक की प्रकृति में मन का प्रताप बहुत क्षीण होता है। जगत, संसार और उसकी अपनी कल्पना उस पर अलग-अलग आघात करती है। एक के बाद दूसरी आकर उपस्थित होती है। मन का बंधन उसके लिए पीड़ाजनक होता है। सुसंलग्न कार्य-कारण सूत्र पकड़कर चीज को शुरू से लेकर आखिर तक पकड़े-पकड़े चलना उसके लिए दुस्साध्य होता है "*

                   - वही :पृष्ठ 427


               कुछ नए की तलाश आज के बच्चों की आवश्यकता है। पुरानी चीजों का मोहभंग उनकी नियति में शामिल हो गया है। ऐसे में बालसाहित्य से जुड़े लेखकों, संपादकों, प्रकाशकों  और अभिभावकों की भूमिका चुनौतीपूर्ण है। यदि हम ऐसे माहौल में भी हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे और बच्चों के लिए तथा उनके परवरिश के बारे में कुछ नया और महत्त्वपूर्ण नहीं सोचा तो वह दिन दूर नहीं जब बच्चा भविष्य के लिए एक चुनौती बन जाएगा। परंपरागत और बासी हो चुके बालसाहित्य को नई-नई प्लेट में सजाकर (भले ही वही सजी-धजी हो) परोसते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब बच्चा-

   लोरी नहीं सुनाओगे तो रोएगा

   वही चाँद दिखाओगे तो रोएगा

   वही खिलौने दोगे तो रोएगा

   वही दूध भात खिलाओगे तो रोएगा

   बच्चा कुछ नया चाहता है

   नहीं पाएगा तो रोएगा। 


                आज समाज में बच्चों और बालसाहित्य से जुड़े हुए लोगों के सामने समस्याओं से जूझते हुए तथा अनंत संभावनाओं से परिपूर्ण बच्चों को हँसाने की चुनौती है, नए और पुराने के संक्रमण की चुनौती है, बाजार की चकाचौंध से बाहर निकलने की चुनौती है, और चुनौती है कुछ नया कर दिखाने की। आजकल पत्रिका के संपादक प्रवीण उपाध्याय के स्वर में स्वर  मिलाते हुए कहें तो- *"बच्चे में हर पल नई-नई बातें सीखने और देखने की ललक होती है। वह बहुत जल्दी पुरानी चीजों से ऊब जाता है। आज विज्ञान ने पूरी दुनिया की रफ़्तार तेज कर दी है। हर पल कुछ न कुछ नया करने की होड़ मची हुई है। सूचना-क्रांति के चलते पूरी दुनिया सूचना पर आधारित होती जा रही है। बच्चों के सामने टेलीविजन और इंटरनेट पर दुनिया भर की सूचनाएँ उपलब्ध हैं। बाजार की चकाचौंध है। शिक्षा और ज्ञान भी बाजार के फार्मूले पर तैयार किया जाने लगा है। ऐसे में यदि बच्चे किताबों की ओर से विमुख हो रहे हैं, तो दोष न तो बच्चों का है और न ही आधुनिकता के बढ़ते प्रभाव का। इसके लिए तो बालसाहित्य के रचनाकारों प्रकाशकों और बाल -विशेषज्ञों को ही रास्ता ढूँढ़ना होगा। इस आधुनिकता का लाभ उठाकर उन्हें ही कोई न कोई कोई ऐसा मार्ग तलाशना होगा जिससे बच्चों में बालसाहित्य के प्रति ललक कम न हो"*  

                    - आजकल (मासिक) :नवंबर सन् 2005: पृष्ठ 2


               जहाँ तक मैं समझता हूँ- आज के बच्चों में बालसाहित्य के प्रति ललक तभी बढ़ेगी, जब बालसाहित्य बच्चों से अपना रिश्ता कायम करेगा, और यह रिश्ता जैसे-जैसे प्रगाढ़ होगा, बच्चों का साहित्य के प्रति वैसे-वैसे अनुराग बढ़ता जाएगा। बालसाहित्य को बच्चों की दुनिया में पैठ बनाकर उनके मन की साँकल को खटखटाना होगा, उनके विचारों के दरवाजों को खोलना होगा और करना होगा उनसे आत्म साक्षात्कार, तभी डॉ० सुभाष रस्तोगी की निम्नलिखित  पंक्तियाँ सच साबित होंगी-

   

       कविता बाइस्कोप नहीं है

       कि बच्चे उससे एकदम खिंचे आएँ

       और नाचते-गाते बच्चों की 

       एक पूरी दुनिया सामने देख

       अपना दुख भूल जाएँ।      

        *********************

        इसलिए मैं चाहता हूँ 

        बच्चों से रिश्ता कविता का

        साफ-साफ तय हो। 

        मैं चाहता हूँ 

        कविता अगर बच्चों के साथ

        बढ़ाएं दोस्ती की पींग

        तो चिड़ियों/फलों/रंगों के साथ ही 

        स्लेट /पेंसिल /नेकर और कमीज 

        की भी बात करें। 

                - जागृति :सितंबर-दिसंबर, सन् 1992: पृष्ठ 24


               इक्कीसवीं सदी इस दृष्टि से उल्लेखनीय है कि इसकी शुरुआत धमाकेदार हुई। चर्चा में आए हैरी पॉटर ने एक बार फिर बालसाहित्यकारों के बीच में, बच्चों के लिए लिखने की चुनौती सामने रखी। सोई हुई संवेदनाओं को झकझोरा--- बच्चे मीडिया के लिए चर्चा में आ गए। हैरी पॉटर की लोकप्रियता ने कई सवाल भी खड़े किए। हैरी पॉटर के तथ्यों, कथावस्तु का विश्लेषण, बच्चों की ग्राह्यता और मानसिक स्थिति, मीडिया हाइप, मार्केटिंग स्ट्रेटजी, जादू-टोना, भूत-प्रेत, तंत्र-मंत्र, अंधविश्वास और तिलिस्म जैसे सवाल इतने वर्षों बाद आज भी तैर रहे हैं। 

                डॉ० हरिकृष्ण देवसरे ने उस समय यह टिप्पणी की थी थी कि- *"हैरी पॉटर तो तिलिस्मी पाॅप बालसाहित्य है जो हवा के झोंके की तरह आकर चला जाने जाने वाला है।"*

             - नवभारत टाइम्स: 8 सितंबर, सन 2005:पृष्ठ 10


                डाॅ०क्षमा शर्मा ने यह लिखकर हैरी पॉटर की पूरी श्रृंखला को ही कटघरे में खड़ा कर दिया था कि- *" मीडिया हाइप के कारण एक किताब बिना पढ़े हिट हो गई।"*  

                - हिंदुस्तान, 23 सितंबर, सन 2005 :पृष्ठ 8


                डाॅ० श्रीप्रसाद ने भी यह अभिमत व्यक्त किया था कि- *" हैरी पॉटर को महत्त्वपूर्ण कृति की अपेक्षा जादुई आकर्षण की कृति के रूप में अधिक पढ़ा गया।********* ********* *हैरी पॉटर को बालउपन्यास की दिशा मानना भूत-प्रेतों और भयावह स्थितियों की दुनिया में संक्रमण करना है, जो तार्किक बालसाहित्य सृजन की दिशा नहीं है।"*

                 - आजकल: नवंबर, सन 2005: पृष्ठ 37, 38


                आश्चर्यजनक तथ्य यह भी है कि इसके बावजूद हैरी पाॅटर

छपती रही और उसने बिक्री के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। जे0के0 रोलिंग न केवल रातोंरात सुपरहिट हो गईं बल्कि अथाह संपत्ति की मालकिन भी हो गईं। हैरी पाॅटर के सभी प्रकाशित सातों खण्ड, उसके वीडियो तथा उसके पात्रों से बच्चों की ऐसी दोस्ती हुई कि बच्चे बड़ी जल्दी ही तिलिस्म की दुनिया में डूब गए। यहाँ एक तथ्य अवश्य जोड़ना चाहूँगा कि हैरी पाॅटर के बहाने ही सही बच्चों के विकास में स्वस्थ बालसाहित्य की भूमिका की न केवल जोरदार ढंग से चर्चा हुई बल्कि बच्चों के लिए लिखने, उन पर चर्चा करने तथा उनका स्वस्थ मनोरंजन करने की कवायद भी लगातार होती रही। बालसाहित्यकार डाॅ0 क्षमा शर्मा ने न केवल बच्चों से बालसाहित्य और चंदामामा के रिश्तों पर सवाल उठाए बल्कि दो टूक शब्दों में कह दिया था कि- *"बच्चे वैसी यथार्थ कथाएँ तो कतई नहीं पढ़ना चाहते, जिनमें पहली पंक्ति से ही कथा के अंत का बोध हो जाए। पूरी कहानी में उपदेशों की भरमार हो और मनोरंजन नदारद। इनमें न कब-क्यों-कहाँ जैसी जिज्ञासा जगाने वाली बातें होती हैं, न हीं आगे क्या हुआ के प्रति कोई उत्सुकता जगती है। कार्टून, जिन्हें बच्चे बेहद पसंद करते हैं, वे भी एक तरह से से परीकथाएँ ही हैं। कई सभा-सेमिनारों में चंद्रमा के बारे में बताया जाता है कि अब तो छुटपन से ही बच्चे चंद्रमा के बारे में जान जाते हैं कि वहाँ न पानी है और न ऑक्सीजन। वहाँ कोई नहीं रहता, चरखा कातने वाली वह बुढ़िया भी नहीं, जिसकी कहानी बच्चे अब तक सुनते आए हैं। तो क्या बच्चों की दुनिया में चाँद से जुड़ी सारी कहानियाँ या तमाम कथाओं में आने वाले चाँद के जिक्र या लोककथाएँ खारिज कर दी जाए? क्या चाँद से बच्चों का चंदामामा दूर के वाला करीबी रिश्ता बिल्कुल भुला दिया जाए?"*

              -दैनिक जागरण :4 अप्रैल 2018 :पृष्ठ 8


                यह सच है कि बच्चों को संस्कारित कर सही दिशा प्रदान करना बालसाहित्य का प्रमुख उद्देश्य है, मगर इसमें भी उतनी ही सच्चाई है कि मात्र कल्पनाओं के सब्ज़बाग दिखाकर बच्चों को भटकने के लिए छोड़ देना बाल साहित्य का उद्देश्य कदापि नहीं होना चाहिए। सच तो यह है कि बालसाहित्यकार बच्चों के लिए अपनी रचनाओं के माध्यम से ऐसे रास्ते का निर्माण करें जिसमें उतार-चढ़ाव के खतरे तो हो सकते हैं परंतु उन पर चलकर मंजिल आसानी से प्राप्त की जा सके। इक्कीसवीं शताब्दी इस दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण है कि इस परिवेश में  बच्चों के मन में उठने वाली हिलोरें बालसाहित्य में साफ़-साफ़ सुनाई दे रही हैं। बच्चा आनंदित और पुलकित होकर सुरीली ध्वनि में अपनी तान छेड़ रहा है-


      फीड करेंगे कंप्यूटर में, अपना  भारी बस्ता। 

     अब तक जिसको ढोते-ढोते, हालत मेरी खस्ता। 

     ट्यूशन से भी मुक्ति मिलेगी, खेलेंगे  मैदान में। 

     गाएंगे मिल सा रे गा मा, बैठ सुरीली तान में। 


                 उपर्युक्त कविता का उद्देश्य बच्चों को आने वाले बदलावों की एक तस्वीर दिखाकर उन्हें आगे के लिए तैयार करना था। अब बच्चे इक्कीसवीं शताब्दी में आकर पाठ्यक्रमों से इतर बालसाहित्य के उन्नयन  की दिशा में हो रहे बदलावों से भी अच्छी तरह परिचित हो रहे हैं। बच्चों के विकास के लिए समर्पित संस्था यूनिसेफ द्वारा संचालित अनेक योजनाओं में बच्चों की बराबर भागीदारी हो रही है। 

                  चिंतन की दृष्टि से बालसाहित्य पर पुनर्विचार  इसलिए भी आवश्यक है कि आज बच्चों की सोच में आमूलचूल परिवर्तन हो गया है। मेरा मानना है कि बालसाहित्यकारों को अपनी रचनाधर्मिता की कसौटी बच्चों के इस स्तर पर देखने की जरूरत है-  बच्चों के बदलते मनोविज्ञान से जुड़ा  बालसाहित्य क्योंकि इसका सृजन उन्हीं के लिए किया जाता है। बालसाहित्यकारों के स्तर पर क्योंकि वही बालसाहित्य का सर्जक हैं। उन माता-पिता और अभिभावकों के स्तर पर जो बच्चों को बाल साहित्य खरीद कर उपलब्ध कराते हैं, वे अपने विवेक से उनके लिए पढ़ने की सामग्री का चयन भी करते हैं। 

               इन बिंदुओं पर गहराई से विचार करें तो निम्नलिखित बातें हमारे सामने आती हैं। आज इस तरह का बालसाहित्य लिखा ही जाना चाहिए जिसमें बच्चा अपने को प्रतिबिंबित पाए। उसकी जो भी समस्याएँ हैं वह सही परिप्रेक्ष्य में उसका प्रतिनिधित्त्व करें तथा सबसे महत्त्वपूर्ण बिंदु यह है कि बच्चे बालसाहित्य से अपनी समस्याओं पर काबू पाना सीख सकें। 

                 विगत तीन-चार दशकों के बालसाहित्य पर व्यापक स्तर से विचार करें तो यह बात स्पष्ट रूप से उभरकर सामने आती है कि विविध विधाओं में व्यापक सृजन के साथ-साथ, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों-सेमिनारों, शताधिक शोध-कार्यों, व्यापक विचार-विमर्शों तथा लगातार चार विश्व हिन्दी सम्मेलनों में बालसाहित्य पर केन्द्रित सत्रों के बल पर समकालीन बालसाहित्य ने इस भ्रम को तोड़ा है कि हिंदी में बालसाहित्य का अभाव है या स्तरीय बालसाहित्य नहीं लिखा जा रहा है।अब उनकी बातें जाने दीजिए जो अपनी दोनों आँखें मूँदे हुए हैं और उनके दोनों कान भी बंद हैं, जब भी बालसाहित्य की बात आती है तो वह उसकी प्रगति की ओर ओर निहारना ही नहीं चाहते हैं नहीं चाहते हैं ऐसे लोगों का अरण्यरुदन तो पहले भी था, आज भी है और आगे भी जारी रहेगा।


*- डॉ०सुरेन्द्र  विक्रम*

एसो० प्रोफेसर एवं अध्यक्ष

हिन्दी विभाग

लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज

लखनऊ (उ0प्र0)-226018


*आवास-*

सी-1245,एम0आई0जी0

राजाजीपुरम,लखनऊ (उ0प्र0) -226017

मोबाइल नंबर-

08960285470

09450355390

07618867609

ई-मेल- vikram.surendra7@gmail.com

पुरानी डायरी से ../ प्रवीण_परिमल

 

गाँव की चिट्ठी शहर के नाम 


आगे का समाचार यह है 

कि अब यहाँ जी नहीं लगता। 


कोई छोटी-मोटी नौकरी का जुगाड़ हो सके 

तो लिखना, चला आऊँगा। 


गर्मी की छुट्टियों में 

जब तुम बच्चों के साथ आते थे 

तो कितना अच्छा लगता था--

तुम्हें भी, मुझे भी और बच्चों को भी। 


तुम सोचते होगे --

आम का बगीचा

जामुन का पेड़ 

ताड़ के कोए

इमली और खजूर की फलियाँ आदि

आज भी 

बच्चों की राह देख रहे होंगे

तो जान लो

अब ऐसा बिल्कुल नहीं है!


हालात बदल चुके हैं

गाँव के अब।


अब गाँव वो गाँव नहीं रहा!


बच्चों से कहना

टूटी हुई दीवार फाँदकर

खँढ़ी में घुस आई बकरियों के 

दूध दूहने के रोमांच को

भूल जाएँ अब।


नदी में

जाँघ भर पानी वाले घाट पर

घंटों नहाते हुए मटरगश्ती करना

फटी हुई मच्छरदानी के टुकड़े से

छोटी-छोटी मछलियाँ पकड़ना

-- जानता हूँ

बच्चे ये सब 'मिस' करते होंगे!


कोलसार से उठती

गर्म- गर्म बन रहे गुड़ की गमक

बच्चों के नथुनों को 

अब भी  

बेचैन तो ज़रूर करती होगी!

 

भरी नदी में

नाव पर सवार होकर

झिंझरी खेलने के रोमांच को तो

बच्चे भूल गये होंगे अब!


अच्छा है

याद करने लायक 

अब रहा भी नहीं कुछ यहाँ। 


टीवी क्या आया गाँव में

देश को विदेश के 

और गाँव को शहर के 

क़रीब ला दिया 

मगर आदमी को 

आदमी से दूर कर दिया।


तुम्हें पता न हो शायद

होली के अवसर पर

अब दो-दो अगजे जलाए जाते हैं यहाँ --

बड़जातियों का अलग

छुटजातियों का अलग। 

 

लुकवारी भाँजते हुए

इस गाँव से उस गाँव तक 

जाने की बात तो छोड़ो

इस टोले से 

उस टोले तक जाने में भी 

डर लगता है।


दहशत इतनी 

कि चार- चार, छह- छह लोगों की टीमें

रात-रात भर जागकर

पहरेदारी करती हैं

टोलों की।


गदहबेर में ही

संझा-पराती के फ़ौरन बाद

दरवाजों के पट

बंद हो जाते हैं।


बैकवर्ड - फॉरवर्ड

पार्टी- पाॅलिटिक्स

दल- गुट का खेला

अब जोरों पर है यहाँ!


टटके भिनसहिरा में

दिसा-मैदान के लिए

नदी की तरफ़ निकलना भी

कम हो गया है।


होरहा लगाने के लिए

एक- दो मुट्ठा चना कबारने

या खाने के लिए

खेत से दो-चार हरी मिर्ची तोड़ लेने पर

खून-खराबा हो जाना 

अब आम बात है यहाँ।


गाँववालों के स्वागत में

हरदम बाँहें फैलाए रहनेवाले

लालाजी के दालान पर भी 

सिर्फ सन्नाटों का ही राज है अब।


आपसी बतकही से

पहर भर रात बीतने तक 

गुलज़ार रहनेवाला

बुधन साव का ओटा भी

शाम होते ही

उदासी ओढ़ लेता है।


सोती-पिरौटा से

सियारों की डरावनी आवाज़ों का 

सुनाई देना

अब जल्दी शुरू हो जाता है।


कीर्तन- फगुआ

नाटक- नौटंकी

हलवा- मलीदा

ताजिया- जुलूस

-- सबके इलाके घोषित कर दिए

 गये हैं।


शादी- विवाह की कौन कहे

मरनी- जीनी तक में

शामिल होनेवाले लोग

शामिल होने से ज्यादा

चौकन्ने रहने पर

ध्यान रखते हैं अब।


कौन जाने

कब, किधर से

हथियारबंद लोग आएँ

और छ: इंच छोटा कर जाएँ!


अब तुम्हीं बताओ

ऐसे में जी कैसे लगेगा

और कब तक लगेगा!


इसीलिए कहा रहा हूँ ---

कोई छोटी-मोटी नौकरी का भी जुगाड़ हो सके

तो लिखना, चला आऊँगा।


कम से कम

सुकून से सो तो पाऊँगा!


#प्रवीण_परिमल


इमेज गूगल से साभार

स्त्री और पुरुष

 🖖स्त्री और पुरुष के बीच मैत्री भी हो सकती है, मित्रता भी हो सकती है, यह भारतीय परंपरा का अंग नहीं रही। भारतीय परंपरा ने कभी इतना साहस नहीं किया कि स्त्री और पुरुष के बीच मैत्री की धारणा को जन्म दे सके।

और मैत्री होनी चाहिए।

🖖

 एक सुंदर, सुसंस्कृत व्यक्तित्व में इतनी क्षमता तो होनी चाहिए कि वह किसी स्त्री के साथ भी मैत्री बना सके, किसी पुरुष के साथ मैत्री बना सके। मैत्री का अर्थ है कि कोई शारीरिक लेन—देन का सवाल नहीं है, एक आत्मिक नाता है।

🖖

एक पुरुष और एक स्त्री के बीच इस तरह की दोस्ती हो सकती है जैसे दो पुरुषों के बीच होती है, या दो स्त्रियों के बीच होती है। मैत्री का आधार बौद्धिक हो सकता है। दोनों के बीच एक बौद्धिक तालमेल हो सकता है। दोनों के बीच रुचियों का एक सम्मिलन हो सकता है। दोनों में संगीत के प्रति लगाव हो सकता है। 

🖖

पश्चिम में शरीर का संबंध ही एकमात्र संबंध नहीं है। यह श्रेष्ठतर बात है, ध्यान रखना। शरीर का संबंध ही एकमात्र संबंध अगर है, तो इसका अर्थ हुआ कि फिर आदमी के भीतर मन नहीं, आत्मा नहीं, परमात्मा नहीं, कुछ भी नहीं, सिर्फ शरीर ही शरीर हैं। अगर आदमी के भीतर शरीर के ऊपर मन है और मन के ऊपर आत्मा है और आत्मा के ऊपर परमात्मा है तो इन चारों तलों पर संबंध हो सकते हैं।

🖖

मैत्री थोड़ी आध्यात्मिक बात है। थोड़े ऊंचे तल की बात है। तुम कल्पना ही नहीं कर सकते कि एक स्त्री और पुरुष में मैत्री है। कि एक स्त्री और पुरुष घंटों बैठकर दर्शनशास्त्र पर या काव्यशास्त्र पर विचार विमर्श करते हैं।


🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿

🖖

🖖

शुक्रवार, 21 जनवरी 2022

भारतीय पिता पुत्र

 भारतीय पिता पुत्र की जोड़ी भी बड़ी कमाल की जोड़ी होती है ♦️घर में दोनों अंजान से होते हैं,

एक दूसरे के बहुत कम बात करते हैं, कोशिश भर एक दूसरे से पर्याप्त दूरी ही बनाए रखते हैं। बस ऐसा समझो कि दुश्मनी ही नहीं होती।

♦️माहौल कभी भी छोटी छोटी सी बात पर भी खराब होने का डर सा बना रहता है और इन दोनों की नजदीकियों पर मां की पैनी नज़र हमेशा बनी रहती है।


♦️ऐसा होता है जब लड़का,

अपनी जवानी पार कर, 

अगले पड़ाव पर चढ़ता है, 

तो यहाँ, 

इशारों से बाते होने लगती हैं, 

या फिर, 

इनके बीच मध्यस्थ का दायित्व निभाती है माँ ।


♦️पिता अक्सर पुत्र की माँ से कहता है, 

जा, "उससे कह देना"

और, 

पुत्र अक्सर अपनी माँ से कहता है, 

"पापा से पूछ लो ना"

इन्हीं दोनों धुरियों के बीच, 

घूमती रहती है माँ । 


♦️जब एक, 

कहीं होता है, 

तो दूसरा, 

वहां नहीं होने की, 

कोशिश करता है,


शायद, 

पिता-पुत्र नज़दीकी से डरते हैं।

जबकि, 

वो डर नज़दीकी का नहीं है, 

डर है, 

माहौल बिगड़ने का । 


♦️भारतीय पिता ने शायद ही किसी बेटे को, 

कभी कहा हो, 

कि बेटा, 

मैं तुमसे बेइंतहा प्यार करता हूँ...

जबकि वह प्यार बेइंतहा ही करता है।


पिता के अनंत रौद्र का उत्तराधिकारी भी वही होता है,

क्योंकि, 

पिता, हर पल ज़िन्दगी में, 

अपने बेटे को, 

अभिमन्यु सा पाता है ।


♦️पिता समझता है,

कि इसे सम्भलना होगा, 

*इसे मजबूत बनना होगा,* 

ताकि, 

ज़िम्मेदारियो का बोझ, 

इसको दबा न सके । 


♦️पिता सोचता है,

जब मैं चला जाऊँगा, 

इसकी माँ भी चली जाएगी, 

बेटियाँ अपने घर चली जायेंगी,

तब, 

रह जाएगा सिर्फ ये, 

जिसे, हर-दम, हर-कदम, 

परिवार के लिए, अपने छोटे भाई के लिए,

आजीविका के लिए,

बहु के लिए,

अपने बच्चों के लिए, 

*चुनौतियों से, सामाजिक जटिलताओं से, लड़ना होगा ।*


♦️पिता जानता है कि, 

हर बात, 

घर पर नहीं बताई जा सकती,

इसलिए इसे, 

खामोशी से ग़म छुपाने सीखने होंगें ।


♦️परिवार और बच्चों के विरुद्ध खड़ी...हर विशालकाय मुसीबत को, 

अपने हौसले से...दूर करना होगा।


♦️कभी कभी तो ख़ुद की जरूरतों और ख्वाइशों का वध करना होगा । 

इसलिए, 

वो कभी पुत्र-प्रेम प्रदर्शित नहीं करता।


♦️पिता जानता है कि, 

प्रेम कमज़ोर बनाता है ।

फिर कई बार उसका प्रेम, 

झल्लाहट या गुस्सा बनकर, 

निकलता है, 


♦️वो गुस्सा अपने बेटे की

कमियों के लिए नहीं होता,

वो झल्लाहट है, 

जल्द निकलते समय के लिए, 

वो जानता है, 

उसकी मौजूदगी की, 

अनिश्चितताओं को । 


♦️पिता चाहता है, 

कहीं ऐसा ना हो कि, 

इस अभिमन्यु की हार, 

*मेरे द्वारा दी गई,*

*कम शिक्षा के कारण हो जाये...*


♦️पिता चाहता है कि, 

पुत्र जल्द से जल्द सीख ले, 

वो गलतियाँ करना बंद करे,

हालांकि गलतियां होना एक मानवीय गुण है,

लेकिन वह चाहता है कि *उसका बेटा सिर्फ गलतियों से सबक लेना सीख ले।*

सामाजिक जीवन में बहुत उतार चढ़ाव आते हैं, रिश्ते निभाना भी सीखे,


♦️फिर, 

वो समय आता है जबकि, 

पिता और बेटे दोनों को, 

अपनी बढ़ती उम्र का, 

एहसास होने लगता है, 

बेटा अब केवल बेटा नहीं, पिता भी बन चुका होता है, 

कड़ी कमज़ोर होने लगती है।


♦️पिता की सीख देने की लालसा, 

और, 

बेटे का, 

उस भावना को नहीं समझ पाना, 

वो सौम्यता भी खो देता है, 

यही वो समय होता है जब, 

*बेटे को लगता है कि,*

*उसका पिता ग़लत है,* 

बस इसी समय को समझदारी से निकालना होता है, 

वरना होता कुछ नहीं है,

बस बढ़ती झुर्रियां और बूढ़ा होता शरीर जल्द बीमारियों को घेर लेता है । 

फिर, 

*सभी को बेटे का इंतज़ार करते हुए माँ तो दिखती है,* 

पर, 

*पीछे रात भर से जागा,*

*पिता नहीं दिखता,* 

जिसकी उम्र और झुर्रियां, 

और बढ़ती जाती है, बीमारियां भी शरीर को घेर रहीं हैं।


*पिता अड़ियल रवैए का हो सकता है लेकिन वास्तव में वह नारियल की तरह होता है।*


कब समझेंगे बेटे, 

कब समझेंगे बाप, 

     कब समझेगी दुनिया ????


पता है क्या होता है, 

उस आख़िरी मुलाकात में, 

जब, 

जिन हाथों की उंगलियां पकड़, 

पिता ने चलना सिखाया था, 

वही हाथ, 

लकड़ी के ढेर पर पड़े

पिता को 

लकड़ियों से ढकते हैं,

उसे घी से भिगोते हैं, 

और उसे जलाते हैं, *इसे ही पितृ ऋण से मुक्ति मिल जाना कहते हैं।*


ये होता है,

हो रहा है, 

होता चला जाएगा ।


जो नहीं हो रहा,

और जो हो सकता है,

वो ये, 

कि, 

*हम जल्द से जल्द,*

*कहना शुरु कर दें,*

*हम आपस में,* 

*कितना प्यार करते हैं?*

और कुछ नहीं तो कम से कम घर में हंस के मुस्कुरा कर बात तो की ही जा सकती है,सम्मान पूर्वक।

*समस्त पिता एवं पुत्रो को समर्पित🙏❤️

बाल साहित्य पर हो रहें शोध की सूची- सुरेंद्र विक्रम



हिन्दी बालसाहित्य में मेरी जानकारी के अनुसार इस समय 100 से अधिक शोधार्थी कार्यरत हैं। मैंने इनकी सूची, शोध विषय, विश्वविद्यालय तथा शोध विवरणिका सहित बनाने का प्रयास किया, मगर लाख प्रयत्न के बाद 50 शोधकर्ताओं की सूची ही तैयार कर पाया जिसे मैंने अपनी पुस्तक---हिन्दी बालसाहित्य: शोध के बढ़ते चरण में विस्तार से प्रस्तुत किया है।


शोधकर्ता बीच-बीच में सामग्री के लिए संपर्क करते रहते हैं।शोधार्थियों की सुविधा के लिए पिछले दो वर्षों में अपने उन प्रकाशित आलेखों की सूची विवरण सहित इस पटल पर दे रहा हूँ ताकि वे लाभान्वित हो सकें।

1. हिन्दी बालसाहित्य

      न‌ई धारा : जून-जुलाई 2020

2.कविताओं में बालक

     न‌ई धारा: अक्तूबर-नवंबर 2020

3. हिन्दी बालसाहित्य और भारतीय संस्कृति

     रिमझिम: महात्मा गांधी संस्थान,माॅरीशस की पत्रिका

4. हिन्दी बालसाहित्य और डॉ० रामकुमार वर्मा

   अभिदेशक: जून-अगस्त 2020

5.बहुत उपयोगी हैं हिन्दी में लिखी जीवनियाँ

    सोच-विचार: नवंबर 2020

6.हिन्दी बालसाहित्य: इतिहास के आइने में

    हिन्दुस्तानी: जनवरी-मार्च 2021

7.हिन्दी बालसाहित्य में शोध ( इक्कीसवीं शताब्दी के      प्रारंभ से अब तक) 

    शोध दिशा (अंक 54) अप्रैल- जून 2021

8.हिन्दी बालसाहित्य में शोध ( आरंभ से बीसवीं शताब्दी के अंत तक)

     शोध दिशा ( अंक 56) अक्टूबर-दिसंबर 2021

9.बालसाहित्य के संदर्भ में

   साक्षात्कार: नवंबर-दिसंबर 2020

10.रवीन्द्रनाथ टैगोर का बालसाहित्य

    वीथिका:  सितंबर 2021

11.हिन्दी बालसाहित्य: चुनौतियाँ, संभावनाएँ और भविष्य

   साहित्य अमृत: नवंबर 2021

12.हिन्दी बालसाहित्य की छवियाँ

    आजकल: नवंबर 2021

13.हिन्दी बालसाहित्य: कुछ मेरे अनुभव

   हिन्दी जगत: अक्तूबर-दिसंबर 2021

14.हिन्दी बालसाहित्य: कुछ बिंदु कुछ विचार

     कृतिका: जनवरी-दिसंबर 2021

15.इक्कीसवीं सदी में हिन्दी बालकविता

     साहित्य भारती: अक्तूबर-दिसंबर 2021

#प्रेम और #मोह ..प्रेम..!!!/ ओशो

 


आखिर क्या है यह प्रेम..

और क्या है यह मोह...? 

कितने लोग इसके बीच का फर्क समझते हैं ??


'प्रेम' और 'मोह' यह दो ऐसे शब्द है 

जिनके बीच जमीन और आसमान का फर्क है ..!


अर्थात - प्रेम वह जिसमें पाने की कोई चाह नहीं होती... और मोह वह जो पाने के लिए विवश कर दे ...

जब व्यक्ति किसी इंसान से या किसी भी वस्तु से प्रेम करता है तो उसे पाने के लिए 

न जाने वह क्या-क्या करता है ..

पर असल में वह व्यक्ति की चाहत बन जाती है ....

और चाहत कब मोह का रूप ले लेती है ..

यह व्यक्ति समझ ही नहीं पाता 

और उस पाने की चाह को ही प्रेम समझ बैठता है.. 

किंतु जब हम किसी से सच में प्रेम करते हैं 

तो हम बस उसको खुश देखना चाहते हैं 

उसकी खुशी में ही स्वयं की खुशी ढूंढ लेते हैं..!


मनुष्य की सबसे प्रिय चीज होती है उसकी " स्वतंत्रता "


जब हम किसी व्यक्ति को जिससे हम कहते हैं 

कि हम बहुत प्रेम करते हैं 

उसको बांधने की कोशिश करते हैं ...

उसको समझते नहीं ..

उसको उसकी जिंदगी अपने हिसाब से 

नहीं जीने देते ..

उससे बहुत सी उम्मीदें करते हैं 


परंतु क्या यह सच में प्रेम है ...?


जिससे आप प्यार करते हो उसको पाना ..

अपना बनाना या खुद से बांध कर रखना 

क्या यह प्रेम है ..? 


नहीं असल में यह मोह है ...

इंसान मोह को प्रेम का नाम दे देता है 

क्योंकि जब आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं 

तो उसको आजाद छोड़ देते हैं 

क्योंकि आपको उस पर भरोसा होता है 

कि वह व्यक्ति विशेष चाहे कुछ भी करें परंतु 

वह रहेगा आपका ही होकर हमेशा ...


विश्वास है एक ऐसी डोर होती है ..

जो किसी भी रिश्ते के लिए बहुत जरूरी होती है ....

यदि आपको अपने रिश्ते पर भरोसा नहीं होगा तो 

रिश्ता कामयाब नहीं होगा..

अतः यदि प्रेम है तो भरोसा भी करना पड़ेगा 

तभी रिश्ते की डोर मजबूत बनेगी ...!


हम स्वयं क्यों नहीं यह बात आजमा कर देखते .. 

जब वह व्यक्ति जिसे आप प्रेम करते हो 

वह जरूरत से ज्यादा आप को बांधकर रखें 

हमेशा अपनी इच्छाओं का पालन करवाएं 

बजाए आपकी इच्छाओं को महत्व देने के 

और आपसे प्रत्येक क्षण पर सवाल करें 

और उस मोह को प्रेम का नाम दें 

तो कैसा महसूस होता है ..?


बहुत सीधा सा जवाब है 

जाहिर सी बात है हमें पसंद नहीं आता ..क्यों ? 


क्योंकि हमें आजादी की आदत होती है ...

हम सभी को अपनी जिंदगी अपने 

तरह से जीने की आदत होती है 

ठीक उसी प्रकार सामने वाला भी है 

यदि आप उसको सच में प्रेम करते हैं 

तो उसको समझना सीखिए 

उस पर भरोसा करना सीखिए 

जरूरी नहीं आप जिससे प्रेम करो 

उसको अपना बनाओ तभी वह प्रेम है.. 


अतः प्रेम वह है जो निस्वार्थ भाव से किया जाए, 

प्रेम जिससे आप प्यार करो उसकी खुशी ही 

आपके लिए सब कुछ हो वह खुश तो आप खुश...

रिश्ते में मोह होगा तो कभी भी रिश्ता कामयाब नहीं होगा रिश्ता चाहे कोई भी हो 

अगर उसे प्यार के पानी से सिंचा जाएगा 

तभी वह खिलेगा..

मजबूत बनेगा ..

अतः मोह के बंधन में 

बंधा होगा तो टूट जाएगा..!


अतः जिससे आप प्रेम करते हैं, 

उसको स्वतंत्र छोड़ दीजिए 

मोह हट जाएगा तो 


#__प्रेम स्वयं ही बढ़ जाएगा ..!

मेहनत का ज्ञान

 *मेहनती इंसान*

*🕉️🌄🌅शुभ प्रभात🌅🌄🕉️*


एक दुकानदार बड़ा दुखी रहता था। क्यूंकी उसका बेटा बहुत आलसी था। वह अपने पुत्र को एक मेहनती इंसान बनाना चाहता था। एक दिन उसने अपने पुत्र से कहा कि आज तुम घर से बाहर जाओ और शाम तक कुछ अपनी

मेहनत से कमा के लाओ नहीं तो आज शाम को खाना नहीं मिलेगा -

 लड़का पहुत परेशान हो गया वह रोते हुए अपनी माँ के पास गया और उन्हें रोते हुए सारी बात बताई माँ का दिल पासीज गया और उसने उसे एक सोने का सिक्का दिया कि जाओ और शाम को

पिताजी को दिखा देना। शाम को जब पिता ने

पूछा की क्या कमा कर लाए हो तो उसने वो सोने का सिक्का दिखा दिया यह देखकर उसने पुत्र से वो सिक्का कुएँ मे डालने को कहा, लड़के ने खुशी खुशी सिक्का कुएँ में फेंक दिया

 अगले दिन पिता ने माँ को अपने मायके भेज दिया और लड़के को फिर से कमा के लाने को कहा। अबकी बार लड़का रोते हुए बड़ी बहन के पास गया तो बहन दस रुपये दे दिए। लड़के ने फिर शाम को पैसे लाकर पिता को दिखा दिए पिता ने कहा कि जाकर कुएँ में डाल दो लड़के ने फिर डाल दिए।


अब पिता ने बहन को भी उसके ससुराल भेज दिया।

 अब फिर लड़के से कमा के लाने को कहा अब तो लड़के के पास कोई चारा नहीं था वह रोता हुआ बाजार गया और वहाँ उसे एक सेठ ने कुछ लकड़ियाँ अपने घर ढोने के लिए कहा और कहा कि बदले में दो रुपये देगा।

लड़के ने लकड़ियाँ उठाईं और चल पड़ा चलते चलते उसके पैरों में छाले पड़ गये और हाथ पैर भी दर्द करने लगे शाम को जब पिताजी ने फिर कहा की बेटा कुएँ मे डाल दो तो लड़का गुस्सा होते हुए बोला कि मैने इतनी मेहनत से पैसे कमाए हैं और आप कुएँ में डालने को

बोल रहे हैं। पिता ने मुस्कुराते हुए कहा कि यही तो मैं तुम्हें सीखाना चाहता था तुमने सोने का सिक्का तो कुएँ में फेंक दिया लेकिन दो रुपये फेंकने में डर रहे हो क्यूंकी ये तुमने मेहनत से कमाएँ हैं।

अबकी बार पिता ने दुकान की चाबी निकल कर बेटे के हाथ में दे दी और बोले की आज वास्तव में तुम इसके लायक हुए हो क्यूंकी आज तुम्हें मेहनत का अहसास हो गया है।

गुरुवार, 20 जनवरी 2022

खुसरो की जमीन पर गुलज़ार की कारीगरी / आलोक यात्री



"ज़िहाल ए मस्कीं मकुन ब रंजिश...//" यानी के खुसरो की जमीन पर गुलज़ार की कारीगरी



  आज एक ऐसे गीत जिसे अक्सर गुनगुनाता, सुनता रहता हूं से, फिर आमना-सामना हो गया। गीत अपने समय में जितना लोकप्रिय था, उतना ही लोकप्रिय आज भी है।‌ लोकप्रिय होने के साथ यह कर्णप्रिय भी है।‌ गीत के बोल काफ़ी अजीब ओ गरीब हैं। फिल्म 'गुलामी' के इस गीत को लिखा गुलज़ार साहब ने है।‌ 

  गीत के बोल "ज़िहाल ए मस्कीं मकुन ब रंजिश..." का अर्थ मालूम नहीं था। हो सकता है मेरी तरह कई अन्य लोगों को भी "ज़िहाल ए मस्कीं मकुन ब रंजिश..." का अर्थ शायद न पता हो। लिहाजा "ज़िहाल ए मस्कीं मकुन ब रंजिश..." पंक्ति का अर्थ जानने की जिज्ञासा हुई। मेरी पड़ताल आगे बढ़े उससे पहले आप उस गीत से रू-ब-रू होइए जिसकी वजह से यह बात छिड़ी है

    "जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश

    बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है

    सुनाई देती है जिसकी धड़कन

    तुम्हारा दिल या हमारा दिल है

वो आके पहलू में ऐसे बैठे

के शाम रंगीन हो गई है

जरा जरा सी खिली तबीयत

जरा सी गमगीन हो गई है

  जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश...

    कभी कभी शाम ऐसे ढलती है

    के जैसे घूँघट उतर रहा है

    तुम्हारे सीने से उठता धुआँ

    हमारे दिल से गुजर रहा है

  जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश...

ये शर्म है या हया है क्या है

नजर उठाते ही झुक गयी है

तुम्हारी पलकों से गिर के शबनम

हमारी आँखों में रुक गयी है

  जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश

  बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है..."


बाकी तो सब ठीक है। गीत भी आला-तरीन है। मामला बस "जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है..." पर ही अटका है। और यही पंक्तियां इस पूरे गीत का शबाब हैं। "जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है..." का मानी न जानते हुए भी यह गीत बार-बार सुनने की इच्छा होती है।

  फारसी की एक अदीब मित्र से "जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है..." का अर्थ पूछा तो उन्होंने इसका अर्थ कुछ यूं बताया -"गरीब की बदहाली को नजरअंदाज न करो"। एक और उस्ताद से जानना चाह तो उन्होंने इन पंक्तियों की तफसील बताते हुए कहा कि "ज़िहाल" का अर्थ होता है -ध्यान देना या गौर फ़रमाना, "मिस्कीं" का अर्थ है -गरीब, "मकुन" के मायने हैं -नहीं और "हिज्र" का अर्थ है -जुदाई। उनके अनुसार इन पंक्तियों का भावार्थ यह निकला कि "मेरे इस गरीब दिल पर गौर फरमाएं और इसे रंजिश से न देखें। बेचारे दिल को हाल ही में जुदाई का ज़ख्म मिला है।"

 लेकिन... इन पंक्तियों का यह अर्थ जान कर भी तस्ल्ली नहीं हुई तो सिरखपाई का यह सिलसिला आगे बढ़ता हुआ अमीर खुसरो तक जा पहुंचा। गुलज़ार साहब के "गुलामी" फिल्म के लिए लिखे गए इस गीत की पंक्तियां असल में अमीर खुसरो की एक कविता से प्रेरित है। जो फारसी और ब्रज भाषा के मिले-जुले रूप में लिखी गई थी। अब जरा अमीर खुसरो के लिखे पर भी गौर फ़रमाया जाए। जिसकी एक पंक्ति फारसी में तो एक ब्रज भाषा में लिखी गई है...

-"ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल

    दुराए नैना बनाए बतियां।

कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान,

     न लेहो काहे लगाए छतियां।

शबां-ए-हिजरां दरज़ चूं ज़ुल्फ़

वा रोज़-ए-वस्लत चो उम्र कोताह,

     सखि पिया को जो मैं न देखूं

     तो कैसे काटूं अंधेरी रतियां।

यकायक अज़ दिल, दो चश्म-ए-जादू

ब सद फ़रेबम बाबुर्द तस्कीं,

     किसे पड़ी है जो जा सुनावे

     पियारे पी को हमारी बतियां।


  क्या बेहतरीन प्रयोग किया है अमीर खुसरो ने फारसी और ब्रज भाषा का। "ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराए नैना बनाए बतियां। कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां"... का अर्थ समझते हैं। इसका अर्थ है -"मुझ गरीब की बदहाली को नज़रंदाज़ न करो, नयना चुरा के और बातें बना के।"


  गौरतलब है कि अमीर खुसरो मिजाज और कलाम दोनों से ही सूफियाना तुर्क वंश के खड़ी बोली हिंदी के पहले कवि हैं। मध्य एशिया की लाचन जाति के तुर्क सैफुद्दीन के पुत्र अमीर खुसरो का जन्म सन 652 हिजरी में एटा (उत्तर प्रदेश) के पटियाली नामक कस्बे में हुआ था। लाचन जाति के तुर्क चंगेज खां के आक्रमणों से पीड़ित होकर बलवन (1266 ईस्वी) के राज्यकाल में शरणार्थी के रूप में भारत में आ बसे थे। खुसरो की मां बलबन के युद्धमंत्री इमादुतुल मुलक की लड़की, एक भारतीय मुसलमान महिला थी। सात वर्ष की अवस्था में खुसरो के पिता का निधन हो गया था। खुसरो ने किशोरावस्था में कविता लिखना प्रारम्भ किया और बीस वर्ष के होते-होते वे कवि के रूप में प्रसिद्ध हो गए। 

  खुसरो ने सामाजिक जीवन की अवहेलना कभी नहीं की। खुसरो ने अपना सारा जीवन राज्याश्रय में ही बिताया। राजदरबार में रहते हुए भी खुसरो हमेशा कवि, कलाकार, संगीतज्ञ और सैनिक ही बने रहे। भारतीय गायन में क़व्वाली और सितार को इन्हीं की देन माना जाता है। इन्होंने गीत की तर्ज पर फ़ारसी में और अरबी ग़जल के शब्दों को मिलाकर कई पहेलियां और दोहे लिखे।

  खुसरो ने दिल्ली वाली बोली अपनाई जिसे कालांतर में ‘हिंदवी’ नाम दिया गया। खुसरो ने सौ के करीब पुस्तकें लिखीं। जिनमें से अब कुछ ही मौजूद हैं। लेकिन उनके गीत, दोहे, कहावतें, पहेलियां और मुकरियां उन्हें आज भी आवाम में जिंदा रखे हुए हैं। कव्वालों की कई पीढ़ियां सदियों से उन्हें गाती आ रही हैं। जीवन के बहुत सारे प्रसंगों में खुसरो रोज़ याद आने वाले कवियों में से एक हैं।

🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿🙏🏿

बुधवार, 19 जनवरी 2022

अकबर इलाहाबादी या अकबर प्रयागराजी / रेहान फ़ज़ल

 


अकबर इलाहाबादी तरक़्क़ी पंसद शायर थे।धर्म,जाति, मज़हब से ऊपर।अपनी न्याय प्रियता के लिए जाने,जाने वाले जज।

उन्होंने कभी सोचा नहीं होगा कि उनकी मौत के सौ साल बाद उनकी पहचान बदल जायगी। वे अकबर इलाहाबादी से अकबर प्रयागराजी हो जायेंगें।किसी व्यक्ति का नाम बदलना उसकी वल्दियत बदलने जैसा है।किसी का नाम बदलना उसकी निजता से खिलवाड़ तो है ही।फिर सोचने वाली बात यह भी है कि आख़िर किसका नाम बदलने की कवायद की गई? अकबर इलाहाबादी का! एक ऐसा शायर जो आज़ाद और प्रगतिशील ख्यालों की जीती जागती इबारत था। अकबर इलाहाबादी कट्टर नहीं थे। दोनों तरफ़ की रूढ़ियों पर उन्होंने हमला किया था।सबकी सुनना और सबको सुनाना उन्हें प्रिय था।

अकबर परंपरावादी थे, लेकिन वे जड़ परंपरावादी नहीं थे। वे मज़हबी थे, लेकिन मज़हबी ईमान के नाम पर चलने वाले पाखंड का मज़ाक उड़ाने से उन्हें कभी गुरेज़ नही था। तभी तो उन्होंने लिखा ‘मेरा ईमान मुझसे क्या पूछती हो मुन्नी/शिया के साथ शिया, सुन्नी के साथ सुन्नी।’   

 

उनकी लेखनी में ऐसा कीमिया था जिसके पास आज के कट्टर होते समाज का मुक़म्मल इलाज था। उन्होंने उस दौर में अपने लेखन में जिस दर्जे की आज़ाद ख्याली दिखाई, आज उसकी कोई कल्पना भी नही कर सकता। यह कल्पना से भी परे है कि आज से सवा सौ साल पहले कोई मुसलमान काबा के बारे में ऐसा लिख सकता था-

 

‘सिधारें शैख़ काबे को हम इंग्लिस्तान देखेंगे 

वो देखें घर ख़ुदा का हम ख़ुदा की शान देखेंगे।’ 

 

वे ऐसा इसलिए लिख सकते थे क्योंकि वे किसी भी तरह की रूढ़ि, तंग ख्याली या फिर संकीर्णता से कोसों दूर थे।उनकी दूरदर्शी आँखों ने आज के समाज की पहचान कोई डेढ़ सौ बरस पहले ही कर ली थी। तभी उन्होंने लिखा- 

 

‘हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम 

वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती।’

 

ये अलग बात है कि उनके चाहने वालों की आह के असर के चलते उनके नाम के क़त्ल की कोशिशों की इस कदर चर्चा हो गई कि नाम बदलने वालों को आखिरकार अपने इरादे बदलने पर मजबूर होना पड़ा। 

 

अकबर इलाहाबादी को इलाहाबाद पर नाज़ था। इलाहाबाद उनकी रगों में दौड़ता था। वे खुद को इस शहर की रूह में धँसा हुआ पाते थे।शायद तभी वे लिख गए-

 

‘कुछ इलाहाबाद में सामाँ नहीं बहबूद के 

याँ धरा क्या है ब-जुज़ अकबर के और अमरूद के।’

 

यानि इस इलाहाबाद में उनके और अमरूद के सिवा और क्या है? इस कदर वे इलाहाबाद  के साथ एकात्म हो चुके थे कि अपने वजूद को इस शहर के वजूद में घुला हुआ पाते थे।अकबर की इलाहाबाद से और इलाहाबाद की अकबर से पहचान हो गयी।ऐसे में इलाहाबाद को उनके नाम से अलगाना अन्याय होगा। 

इसी इलाहाबाद के बारा क़स्बे में जन्मे अकबर के वालिद तफ़ज़्ज़ुल हुसैन नायब तहसीलदार थे। आरंभिक शिक्षा घर पर हुई।आठ नौ बरस की उम्र में उन्होंने फ़ारसी और अरबी की पाठ्य पुस्तकें पढ़ लीं। आर्थिक स्थिति अच्छी न होने की वजह से उनको स्कूल छोड़कर पंद्रह साल की ही उम्र में नौकरी तलाश करनी पड़ी। उसी कम उम्र में उनकी शादी भी हो गई। उनकी बेगम ख़दीजा ख़ातून एक देहाती लड़की थीं।उनसे उनकी बनी नही। 

 

अपनी अलग ही बेख्याली की दुनिया में डूबे अकबर ने इलाहाबाद की तवाएफ़ों के कोठों के चक्कर लगाने शुरू कर दिए। कहते हैं कि इलाहाबाद की शायद ही कोई ख़ूबसूरत और दिलकश तवायफ होगी, वे जिसके ठौर से न गुजरे हों। वे एक तवायफ बूटा जान के इश्क में भी पड़े और उससे शादी भी कर ली। लेकिन उसका जल्द ही इंतक़ाल हो गया जिसका उन्हें गहरा सदमा रहा। उसी ज़माने में उन्होंने अंग्रेज़ी में कुछ महारत हासिल की और 1867 ई. में वकालत का इम्तिहान पास कर लिया। फिर जजी का लंबा दौर चला और आखिर साल 1905 ई. में वो सेशन जज के ओहदे से रिटायर हुए। फिर बाक़ी ज़िंदगी इलाहाबाद में गुज़ारी।उन्होंने अदालत की कार्यवाहियों के बहाने जिंदगी को बेहद करीब से देखा और समझा, जिसकी झलक उनकी शायरी में  दिखाई देती रही। वकीलों की बाबत लिखा उनका ये शेर उनके इसी भोगे हुए यथार्थ  का आइना था-

 

‘पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा 

लो आज हम भी साहिब-ए-औलाद हो गए।’

 

वे दुनिया की कड़वी सच्चाइयों से वाकिफ थे, मगर दुनियादारी से दूर थे। उनके शेरों में उनकी इस शख्सियत की मिसाल मिलती है। उन्होंने इस बाबत लिखा भी-

 

‘दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ।’

 

अकबर इलाहाबादी अगर आज होते तो नाम बदलने की इस कोशिश पर आदतन ही कोई लतीफ़ा पढ़ते और शायद एक बार फिर से अपना यही शेर दोहरा देते-

 

‘मज़हबी बहस मैं ने की ही नहीं 

फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं।’

 

अकबर ने उर्दू की एक पत्रिका भी निकाली।यानी वे सम्पादक की क़तार में भी शुमार हुए।पत्रकार रहते हुए पत्रकारिता के गिरते स्तर पर उनकी चोट देखिए। 


“ चोर के भाई गिरहकट तो सुना करते थे 

अब ये सुनते हैं एडिटर के बरादर लीडर“


अकबर परंपराओं के नाम पर कूढ़मगज़ी के सख्त खिलाफ थे। उन्होंने इसकी मुख़ालिफ़त की शुरूआत अपने मज़हब में फैली बुराइयों को निशाना बनाते हुए की। खासकर औरतों के मामले में वे उन्हें पर्दे के पीछे रखने या फिर दोयम दर्जा देने की दक़ियानूसी सोच के 

खिलाफ थे। उनकी तरक्की पसंद शायरी में आज का नारी स्वातन्त्र्य आन्दोलन समाया हुआ था जो आज के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की बानगी है। परदे, घूंघट, बुरके को महिलाओं की तरक्की की राह का पत्थर बताते हुए वे आज से सवा सौ साल पहले लिख गए-  

 

‘बेपर्दा नज़र आईं जो कल चंद बीवियां

अकबर ज़मीं में हैरते क़ौमी से गड़ गया

पूछा जो उनसे आपका परदा वो क्या हुआ

कहने लगीं कि अक्ल पे मर्दों की पड़ गया।’

 

औरतों को पर्दे में रखने के हिमायती मर्दों को उन्होंने सिलसिलेवार तरीके से बेनकाब करने का अभियान जारी रखा।इस बाबत सवाल उठाते हुए उन्होंने यहां तक पूछा-

 

‘बिठाई जाएंगी परदे में बीबियां कब तक 

बने रहोगे तुम इस मुल्क में मियां कब तक।’

 

‘मियां से बीबी हैं, परदा है उनको फ़र्ज़ मगर 

मियां का इल्म ही उट्ठा तो फिर मियां कब तक।’

 

अकबर इलाहाबादी एक ऐसी दुनिया का तसव्वुर करते थे जो बुद्धि और तर्क की नींव पर बनी हो। जहां किसी भी तरह की कट्टरता या संकीर्ण सोच की कोई जगह न हो।जहां खुलकर सवाल पूछे जाएं और नए विचारों के लिए हमेशा जगह बनी रहे। उन्होंने ऐसे ही एक बार  चार्ल्स डार्विन के विकासवाद के सिद्धांत को भी सवालों के कटघरे में खड़ा किया-

 

‘डार्विन साहब, हकीकत से निहायत दूर थे

हम न मानेंगे कि मूरिस(पूर्वज) आपके लंगूर थे।’

 

अकबर इलाहाबादी की प्रगतिशील सोच का ये आलम था कि वे भाषा के प्रयोग में भी किसी भी तरह की कट्टरता को बर्दाश्त नही करते थे। उस दौर में मुस्लिम कट्टरपंथी उर्दू ज़ुबान की शुद्धता के हिमायती थे। वे इस बात को बर्दाश्त नही कर सकते थे कि उर्दू की शेरो शायरी में कोई दूसरी ज़ुबान के शब्द पिरोए जाएं। मगर अकबर इलाहाबादी ने इस सोच से खुलकर बगावत की। उन्होंने ऐसे कट्टर शुद्धतावादियों को ठेंगा दिखाते हुए उर्दू शायरी में अंग्रेज़ी शब्दों का पहले पहल और जमकर इस्तेमाल किया।उर्दू शायरी में अंग्रेज़ी के प्रयोग की उनकी पहल ने शायरी की दुनिया में बवंड़र ला दिया। शुद्धतावादियों ने बहुत हो हल्ला काटा पर अकबर टस से मस न हुए। उनके इस तरह के कुछ प्रयोग देखिए-

 

‘लिपट जा दौड़ के 'अकबर' ग़ज़ब की ब्यूटी है

नहीं नहीं पे न जा, ये हया की ड्यूटी है।’

 

‘कोट और पतलून जब पहना तो मिस्टर बन गया 

जब कोई तक़रीर की जलसे में लीडर बन गया।’

 

‘मैं भी ग्रेजुएट हूँ तुम भी ग्रेजुएट 

इल्मी मुबाहिसे हों ज़रा पास आ के लेट।’

 

अंग्रेजी ही नही, बल्कि उन्होंने हिंदी की भी जमकर हिमायत की और हिंदी के विरोधियों को भी कटघरे में खड़ा किया।उन्होंने लिखा-

 

‘दोस्तों तुम कभी हिंदी के मुख़ालिफ़त न बनो।

बाद मरने के खुलेगा कि ये थी काम की बात।’

 

आईसीएस अफ़सरों के लिए लोगों की उतावली को देखते हुए। उनका शेर देखिए।  


शौके लैलाए सिविल सर्विस ने मुझ मज़नू को 

इतना दौड़ाया लंगोटी कर दिया पतलून को ।।


हमें उनकी तरक्की पसंद सोच से सीख लेनी चाहिए। अकबर इलाहाबादी की यही ताकत  है कि वे जितने प्रासंगिक अपने दौर में थे, उससे कहीं ज्यादा प्रासांगिक आज हो चले हैं। वे गजब की ज़िंदादिल शख्सियत थे। उनके क़िस्से बेहद मशहूर हैं। इन क़िस्सों में उनकी हाज़िर जवाबी और मौके से फूट पड़ने वाली सहज शायरी मिसालें हैं। इलाहाबाद से जुड़ा उनका एक ऐसा ही मशहूर क़िस्सा है। एक बार गायिका गौहर जान जानकी बाई के साथ ठहरी थीं। रुखसती के वक़्त  उन्होंने अपनी मेज़बान से कहा कि, “मेरा दिल ख़ान बहादुर सय्यद अकबर इलाहाबादी से मिलने को बहुत चाहता है।” मेजबान जानकी-बाई ने कहा कि, “आज मैं वक़्त मुक़र्रर कर लूंगी, कल चलेंगे।”

 

अगले दिन दोनों अकबर इलाहाबादी के यहाँ जा पहुँचीं। जानकी-बाई ने तआ’रुफ़ कराया और कहा, ‘ये कलकत्ता की निहायत मशहूर-ओ-मा’रूफ़ गायिका गौहर जान हैं। आपसे मिलने का बेहद इश्तियाक़ था, लिहाज़ा इनको आपसे मिलाने लायी हूँ ‘।

 

अकबर इलाहाबादी ने जवाब दिया, “ज़ह-ए-नसीब, वर्ना मैं न नबी हूँ न इमाम, न ग़ौस, न क़ुतुब और न कोई वली जो क़ाबिल-ए-ज़यारत ख़्याल किया जाऊं। पहले जज था अब रिटायर हो कर सिर्फ अकबर रह गया हूँ। हैरान हूँ कि आपकी ख़िदमत में क्या तोहफ़ा पेश करूँ। ख़ैर एक शे’र बतौर यादगार लिखे देता हूँ।”

 

ये कह कर मुंदरजा ज़ैल शे’र एक काग़ज़ पर लिखा और गौहर जान के हवाले किया।

 

‘ख़ुशनसीब आज भला कौन है गौहर के सिवा

सब कुछ अल्लाह ने दे रखा है शौहर के सिवा।’

 

उनकी इसी हाज़िरजवाबी ने उनके क़द्रदानों की अच्छी खासी फौज जमा कर दी थी। उनकी पहली नौकरी भी इसी हाज़िरजवाबी की देन थी। उस वक्त वे मैट्रिक पास थे। अट्ठारह साल का नौजवान अकबर हुसैन रिज़वी अर्ज़ी-नवीस की नौकरी की तलाश में अपनी अर्ज़ी लेकर कलक्टर साहब के पास उनके किसी दोस्त का सिफ़ारिशी ख़त लेकर गया.। कलक्टर साहब ने उसकी अर्ज़ी और अपने दोस्त का ख़त लेकर अपने कोट की जेब में रखकर उसे एक हफ़्ते बाद मिलने के लिए कहा। एक हफ़्ते बाद जब अकबर हुसैन ने पहुंचकर कलक्टर साहब को सलाम किया तो वो उसे देखकर बोले –

 

‘तुम्हारी अर्ज़ी मैंने कोट की जेब में तो रक्खी थी पर वो कहीं गुम हो गयी। ऐसा करो, तुम मुझे दूसरी अर्ज़ी लिखकर दे दो।’

 

अगले दिन अकबर हुसेन अख़बार के पन्ने की साइज़ की अर्ज़ी लिखकर कलक्टर साहब के पास पहुंचा। कलक्टर साहब ने हैरानी और नाराज़ी के स्वर में पूछा — ‘ये क्या है?’ अकबर हुसैन ने बड़े अदब से जवाब दिया — ‘हुज़ूर, ये अर्ज़ी-नवीस की नौकरी के लिए मेरी अर्ज़ी है। आपकी जेब में यह गुम न हो जाय इसलिए इसको इतने बड़े कागज़ पर लिखकर लाया हूँ।कलक्टर साहब अकबर हुसैन के जवाब से इतने खुश हुए कि उन्होंने उसे फ़ौरन अर्ज़ी-नवीस की नौकरी दे दी। 

 

अकबर इलाहाबादी तालीम के जमकर हिमायती थे मगर उनकी नज़र में तालीम डिग्रियों का कोई कारख़ाना नही थी। इसीलिए वे डिग्री की धौंस दिखाने वालों को हमेशा ही क़ाबू में रखते थे। एक हजरत उनके घर पहुंचे। उनके पास अंग्रेजी में छपा विजिटिंग कार्ड था जिसमें नीचे फाउंटेन पेन से लिखा था बीए पास। वे अकबर साहब के घर में विजिटिंग कार्ड भेजकर इंतजार करने लगे। थोड़ी देर में अंदर से एक पर्ची आई। उसमें लिखा था-

 

‘शेख जी निकले न घर से और ये फरमा दिया

आप बीए पास हैं तो बंदा बीवी पास है।’

 

अकबर इलाहाबादी देखते ही देखते अदब की दुनिया का चमकता सितारा बन चुके थे। उनके लिए जिंदगी ज़िंदादिली का दूसरा नाम थी। उनके लतीफ़ों की चर्चा हर तरफ थी। ऐसे में कई ऐसे भी लोग थे जिन्होंने खुद को उनका उस्ताद घोषित कर दिया। ऐसे ही एक शख्स हैदराबाद में थे। जब अकबर तक ये खबर पहुँची कि  हैदराबाद में उनके एक उस्ताद का ज़ुहूर हुआ है, तो कहने लगे, “हाँ मौलवी ‎साहब का इरशाद सच है। मुझे याद पड़ता है मेरे बचपन में एक मौलवी साहब इलाहाबाद में ‎थे। 

 

‘वो मुझे इल्म सिखाते थे और मैं उन्हें अ’क़्ल, मगर दोनों नाकाम रहे। न मौलवी साहब ‎को अ’क़्ल आई और न मुझको इल्म।”‎

 

एक बार अकबर इलाहाबादी से उनके एक दोस्त मिलने आए। अकबर ने पूछा, “कहिए आज ‎इधर कैसे भूल पड़े।” उन्होंने जवाब दिया, “आज शब-ए-बरात है। लिहाज़ा आपसे शबराती ‎लेने आया हूँ।” अकबर इलाहाबादी ने ऐसा जवाब दिया, कि वे लाजवाब हो गए- 

 

‘तोहफ़ा-ए-शबरात तुम्हें क्या दूँ‎

जान-ए-मन तुम तो ख़ुद पटाखा हो।’

 

उनकी पैनी दृष्टि छोटी से छोटी और आमफहम चीज़ तक जाती थी और वे उसमें भी शायरी की संभावनाएं खोज लेते थे। उन दिनो दाढ़ी मुंडवाने का रिवाज हिंदुस्तान में आ’म था। लेकिन लार्ड कर्ज़न जब हिंदुस्तान आए तो ‎उनकी देखा-देखी मूँछ भी सफ़ाया होने लगी। अकबर इलाहाबादी की कलम ने इस नए रिवाज़ को भी नही बख्शा। उन्होंने लिखा-  

 

‘कर दिया कर्ज़न ने ज़न मर्दों को सूरत देखिए ‎

आबरू चेहरे की सब फ़ैशन बनाकर पोंछ ली ‎

सच ये है इंसान को यूरोप ने हल्का कर दिया ‎

इब्तिदा डाढ़ी से की और इंतिहा में मूँछ ली।’

 

उनके लिए शायरी का कोई अलग वक्त मुक़र्रर न था बल्कि ये रोज़मर्रा की ज़िंदगी और घटनाओं से उपजती थी।एक बार अकबर इलाहाबादी दिल्ली में ख़्वाजा हसन निज़ामी के यहाँ मेहमान थे। सब लोग खाना खाने ‎लगे तो आलू की तरकारी अकबर को बहुत पसंद आयी। उन्होंने ख़्वाजा साहबकी दुख़्तर हूर ‎बानो से (जो खाना खिला रही थी) पूछा कि बड़े अच्छे आलू हैं, कहाँ से आए हैं? ‎उसने जवाब दिया कि मेरे ख़ालू बाज़ार से लाए हैं। इस पर अकबर ने ये शे’र पढ़ा-

 

‘लाए हैं ढूंढ के बाज़ार से आलू अच्छे ‎

इसमें कुछ शक नहीं हैं हूर के ख़ालू अच्छे।’


 

1907 ई. में फ़िरंगी सरकार ने अकबर को “ख़ान बहादुर” का ख़िताब दिया और उनको इलाहाबाद युनिवर्सिटी का फ़ेलो भी बनाया गया। 9 सितंबर 1921 ई. को इस महान शायर का इंतकाल हो गया। सोचने वाली बात यह है कि जिस शिक्षा विभाग को चाहिए था कि वो अकबर इलाहाबादी के तरक्की पसंद विचारों से हर तालिबे इल्म के ज़ेहन को रौशन करने की कवायद करे, उसने उनका नाम ही बदल डाला। हालाँकि अगर अकबर इलाहाबादी आज होते तो नाम बदलने पर हुए इस हंगामे का भी मज़ा लेते और अपनी मशहूर ग़ज़ल के चंद शेर पढ़ देते-

 

‘हंगामा है क्यूं बरपा, थोड़ी सी जो पी ली है

डाका तो नही डाला, चोरी तो नही की है।’

 

अकबर इलाहाबादी आज भी हमारे बीच मौजूद हैं। अपनी लिखे के जरिए। अपने विचारों के जरिए। अपनी सोच के जरिए।उनकी सोच जो हमें सिखाती है कि नाम बदलने से इतिहास नही बदलता।समय नाम बनाने वालों का इस्तक़बाल करता है और इसीलिए इलाहाबाद रहे न रहे अकबर इलाहाबादी का नाम इतिहास में अमर रहेगा।  


जय जय

प्रेरणादायक दंड /

 

अमेरिका में एक पंद्रह साल का लड़का था, स्टोर से चोरी करता हुआ पकड़ा गया। पकड़े जाने पर गार्ड की गिरफ्त से भागने की कोशिश में स्टोर का एक शेल्फ भी टूट गया। 


जज ने जुर्म सुना और *लड़के* से पूछा,


 "तुमने क्या सचमुच ब्रैड और पनीर का पैकेट" चुराया था ?


लड़के ने नीचे नज़रें कर के जवाब दिया। ;- हाँ'।

जज,:- 'क्यों ?'

लड़का,:- मुझे ज़रूरत थी।

जज:- 'खरीद लेते।

लड़का:- 'पैसे नहीं थे।'

जज:- घर वालों से ले लेते।'

लड़का:- 'घर में सिर्फ मां है।

बीमार और बेरोज़गार है, ब्रैड और पनीर भी उसी के लिए चुराई थी

जज:- तुम कुछ काम नहीं करते ?

लड़का:- करता था एक कार वाशिंग प्वाइंट में।

मां की देखभाल के लिए एक दिन की छुट्टी की थी, तो मुझे निकाल दिया गया।'

जज:- तुम किसी से मदद मांग लेते?

लड़का:- सुबह से घर से निकला था, तकरीबन पचास लोगों के पास गया, बिल्कुल आख़िर में ये क़दम उठाया।


जिरह ख़त्म हुई, जज ने फैसला सुनाना शुरू किया, चोरी और पनीर ब्रैड की चोरी बहुत शर्मनाक जुर्म है । और इस जुर्म के हम सब ज़िम्मेदार हैं। 'अदालत में मौजूद हर शख़्स मुझ सहित सब मुजरिम हैं, इसलिए यहाँ मौजूद हर शख़्स पर दस-दस डालर का जुर्माना लगाया जाता है। दस डालर दिए बग़ैर कोई भी यहां से बाहर नहीं निकल सकेगा।'


ये कह कर जज ने दस डालर अपनी जेब से बाहर निकाल कर रख दिए और फिर पेन उठाया लिखना शुरू किया:- इसके अलावा मैं स्टोर पर एक हज़ार डालर का जुर्माना करता हूं कि उसने एक भूखे बच्चे से ग़ैर इंसानी सुलूक करते हुए पुलिस के हवाले किया।

अगर चौबीस घंटे में जुर्माना जमा नहीं किया तो कोर्ट स्टोर सील करने का हुक्म दे देगी।'

जुर्माने की पूर्ण राशि इस लड़के को देकर कोर्ट उस लड़के से माफी तलब करती है।


फैसला सुनने के बाद कोर्ट में मौजूद लोगों के आंखों से आंसू तो बरस ही रहे थे, उस लड़के के भी हिचकियां बंध गईं। वह लड़का बार बार जज को देख रहा था जो अपने आंसू छिपाते हुए बाहर निकल गये।


क्या हमारा समाज, सिस्टम और अदालत इस तरह के निर्णय के लिए तैयार है ?


चाणक्य ने कहा है कि यदि कोई भूखा व्यक्ति रोटी चोरी करता पकड़ा जाए तो उस देश के लोगों को शर्म आनी चाहिए ।

यह रचना दिल को छू गई।

इसलिए शेयर की, आपको भी अच्छी लगी हो, तो आगे जरूर भेजिएगा।

जय हिन्द !

मंगलवार, 18 जनवरी 2022

मंटो का वो कमराआकाशवाणी भवन में / विवेक शुक्ला

 

अपनी लघु कथाओं, बू, खोल दो, ठंडा गोश्त और टोबा टेक सिंह से प्रसिद्ध हुए सआदत हसन मंटो (11 मई 1912 – 18 जनवरी 1955) को गुजरे हुए और आकाशवाणी के दिल्ली केन्द्र में काम  किए हुए एक जमाना गुजर गया। पर अब भी उनके आकाशवाणी केन्द्र के कमरे के बारे में यहां के बहुत से मुलाजिमों को पता है।  मंटो का कमरा पहली मंजिल पर नाटक विभाग में था। वे यहां 1940 से अगस्त 1942 के दरम्यान रहे। उनके साथ उर्दू के मशहूर अफसाना निगार कृश्न चंदर भी काम करते थे। 

मंटो ने आकाणवाणी दिल्ली के लिए 110 नाटक लिखे। मंटो की आज पुण्यतिथि है। उनके लिखे एक नाटक ‘दस्तावेज’ को श्रोताओं ने खूब पसंद किया था। उन्होंने यहां पर रहते हुए कृष्ण चंदर के साथ बंजारा फिल्म की कहानी भी लिखी। जिसे सेठ जगत नारायण ने खऱीदा था।


 सेठ जगत नारायण दिल्ली की बड़ी हस्ती हुआ करते थे। वे जगत,रीटज और नॉवेल्टीसिनेमा घरों के मालिक थे। लाला जगत नारायण सेठ का संबंध दिल्ली की खत्री बिरादरी से था। उनकी कटरा नील में हवेली थी!  मंटो के एक जीवनीकार जगदीश चंदर वधावन कहते हैं कि “ मंटो को आकाशवाणी में 150रुपए माह पर नौकरी मिली थी। इससे पहले वे 60  रुपए महीने की नौकरी कर रहे थे।”


किसके साथ वक्त गुजरता था मंटो का


 आप जानते हैं तीस हजारी के पास है सेंट स्टीफंस अस्पताल। इससे सटा है भैंरों मंदिर। ये भार्गव लेन पर है। इधर का 5 भार्गव लेन का घर कभी स्थायी अड्डा होता था सआदत हसन मंटो का। वे रोज ही तो यहां पर अपने मित्र कृश्न चंदर  से गुफ्तुगू करने आया करते थे। ये बातें तब की हैं जब मंटो दिल्ली में रह रहे थे। उन दिनों मंटो और  चंदर आकाशवाणी की उर्दू सेवा में काम करते थे। 


तब आकाशवाणी का एक दफ्तर अंडरहिल रोड पर भी होता था। ये जगह भार्गव लेन से दो-तीन मील की ही दूरी पर है। मंटो मुंबई  को छोड़कर दिल्ली आकाशवाणी में नौकरी करने आए तो पहला मसला छत का था। उनकी पहले ही दिन किशन चंदर से दोस्ती हो गई। कृश्न चंदर अपने नए दोस्त को अपने साथ अपने घर में ले आए। फिर मंटो इधर करीब दो हफ्ते  तक रहे।


मोरी गेट में मंटो


सआदत हसन मंटो  ने यहां नोकरी करते हुए मोरी गेट में एक घर किराए पर भी ले लिया। यहां उकी पत्नी भी आ गई। अब मंटो और कृश्न चंदर  दिल्ली की खाक छानने लगे। दिल्ली में कुछ समय तक रहने के बाद मंटो फिर से बंबई लौट गए। कृश्न चंदर का मुंबई-दिल्ली आना जाना लगा रहा। मंटो बाद में जब भी दिल्ली आए तो 5 भार्गव लेन वाले घर में ही ठहरे। इसमें कृश्न चंदर की मां और छोटे भाई रहते थे। ये घर कृश्न चंदर के परिवार के पास 1990 तक रहा। बहरहाल, देश के विभाजन के बाद मंटो पाकिस्तान चले गए। वहां पर 1955 में उनकी  मृत्यु हो गई। 


मंटो की मौत से अवाक कृश्न चंदर चंदर ने तब लिखा-"जिस दिन मंटो से मेरी पहली मुलाक़ात हुई, उस रोज मैं दिल्ली में था। जिस रोज़ वह मरा है,उस रोज़ भी मैं दिल्ली में मौजूद हूं। उसी घर में हूं, जिसमें चौदह साल पहले वह मेरे साथ पंद्रह दिन के लिए रहा था। घर के बाहर वही बिजली का खंभा है, जिसके नीचे हम पहली बार मिले थे। वह ग़रीब साहित्यकार था। वह मंत्री न था कि कहीं झंडा उसके लिए झुकता। आज दिल्ली में मिर्जा ग़ालिब पिक्चर चल रही है। इसकी कहानी इसी दिल्ली में, मोरी गेट में बैठ कर मंटो ने लिखी थी। एक दिन हम मंटो की तस्वीर भी बनाएंगे और उससे लाखों रूपए कमायेंगे। यह  मोरी गेट, जहां मंटो रहता था, यह वह जामा मस्जिद की सीढियां हैं, जहां हम कबाब खाते थे, यह उर्दू बाज़ार है। सब कुछ वही है, उसी तरह है । सब जगह उसी तरह काम हो रहा है। आल इंडिया रेडियो भी खुला है और उर्दू बाज़ार भी, क्योंकि मंटो एक बहुत मामूली आदमी था। वह ग़रीब साहित्यकार था। वह मंत्री न था कि कहीं झंडा उसके लिए झुकता।”


टोबा टेक सिंह का बिशन सिंह कहाँ 


सआदत हसन मंटो कालजयी कहानी टोबा टेक सिंह के मुख्य पात्र बिशन सिंह को दिल्ली में देखना चाहेंगे  ? मानसिक रूप से विक्षिप्त बिशन सिंह को देश के बंटवारे के चलते अपनी मिट्टी से दूर भेजा जा रहा था। ये उसे नामंजूर था। तो जो इंसान शारीरिक-मानसिक रूप से स्वस्थ है उसकी अपने घर को हमेशा-हमेशा के लिए छोड़ने की पीड़ा किस तरह की होती होगी ? बिशन सिंह से मिलते-जुलते पात्र रोज मिलते हैं राजधानी के सब-रजिस्ट्रार के दफ्तरों में।


साउथ  दिल्ली के  एक सब-रजिस्ट्रार दफ्तर में  लगभग 50 साल का इन्सान अपने आंसू पोँछ रहा है। उसके साथ पांच-छह कुलीन दिखने वाले उसके मित्र-संबंधी बैठे हैं। इनमें दो औरतें भी हैं। आप इनसे साहस जुटाकर इधर आने की वजह जानना चाहते हैं। आंसू पोँछने वाले इंसान से रोने की वजह पूछते हैं। तो उनमें से एक सज्जन बताते हैं,‘ हमने लाजपत नगर  में अपने डैडी के बनाए घर को बेच दिया है। आज अपने घर के नए मालिक के साथ सेल डीड पर साइन करने के लिए आए हैं हम सब भाई-बहन।’ इनमें एक सुबक रहा है। पर आंखें सबकी नम हैं। अब इस ग्रुप की एक महिला कहने लगती है, ‘आज बहुत कठोर दिन है। आज हमारा उस घर से नाता टूट गया जिसे हमारे मम्मी-डैडी ने बनाया था। हमने कभी नहीं सोचा था कि हमारा घर बिकेगा।’ये कहते-कहते वो भी रोने लगती है। सारा माहौल गमगीन है।


गीता कालोनी सब-रजिस्ट्रार के दफ्तर में भी होता है प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त का पंजीकरण। इधर हमेशा सन्नाटा पसरा रहता है भीड़-भाड़ के बावजूद। माहौल में उदासी है। अचानक से किसी के सुबकने की आवाज आपके कानों तक पहुंचती हैं। पांच-छह लोगों के एक समूह में एक इंसान को बाकी समझा रहे हैं। वह नाराज है। वह शख्स एक खास पेपर पर साइन करने से अंतिम क्षणों में इंकार करता है। ‘मैं नहीं करूंगा इस पेपर में साइन। तुम उस घर को बेच रहे हो जो बाऊ जी ने कितनी मेहनत से बनवाया था। मैं उस घर में ही रहूंगा’। उसके स्वर में पीड़ा और करुणा के मिले–जुले भाव हैं।


विवेक शुक्ला


नवभारत टाइम्स, 18 जनवरी, 2022

मेहनती इंसान*

 *

*🕉️🌄शुभ प्रभात🌅🌄


एक दुकानदार बड़ा दुखी रहता था। क्यूंकी उसका बेटा बहुत आलसी था। वह अपने पुत्र को एक मेहनती इंसान बनाना चाहता था। एक दिन उसने अपने पुत्र से कहा कि आज तुम घर से बाहर जाओ और शाम तक कुछ अपनी

मेहनत से कमा के लाओ नहीं तो आज शाम को खाना नहीं मिलेगा - लड़का पहुत परेशान हो गया वह रोते हुए अपनी माँ के पास गया और उन्हें रोते हुए सारी बात बताई माँ का दिल पासीज गया और उसने उसे एक सोने का सिक्का दिया कि जाओ और शाम को

पिताजी को दिखा देना। शाम को जब पिता ने

पूछा की क्या कमा कर लाए हो तो उसने वो सोने का सिक्का दिखा दिया यह देखकर उसने पुत्र से वो सिक्का कुएँ मे डालने को कहा, लड़के ने खुशी खुशी सिक्का कुएँ में फेंक दिया अगले दिन पिता ने माँ को अपने मायके भेज दिया और लड़के को फिर से कमा के लाने को कहा। अबकी बार लड़का रोते हुए बड़ी बहन के पास गया तो बहन ने दस रुपये दे दिए।

लड़के ने फिर शाम को पैसे लाकर पिता को दिखा दिए पिता ने कहा कि जाकर कुएँ में डाल दो लड़के ने फिर डाल दिए।

अब पिता ने बहन को भी उसके ससुराल भेज दिया। अब फिर लड़के से कमा के लाने को कहा अब तो लड़के के पास कोई चारा नहीं था वह रोता हुआ बाजार गया और वहाँ उसे एक सेठ ने कुछ लकड़ियाँ अपने घर ढोने के लिए कहा और कहा कि बदले में दो रुपये देगा।

लड़के ने लकड़ियाँ उठाईं और चल पड़ा चलते चलते उसके पैरों में छाले पड़ गये और हाथ पैर भी दर्द करने लगे शाम को जब पिताजी ने फिर कहा की बेटा कुएँ मे डाल दो तो लड़का गुस्सा होते हुए बोला कि मैने इतनी मेहनत से पैसे कमाए हैं और आप कुएँ में डालने को

बोल रहे हैं। पिता ने मुस्कुराते हुए कहा कि यही तो मैं तुम्हें सीखाना चाहता था तुमने सोने का सिक्का तो कुएँ में फेंक दिया लेकिन दो रुपये फेंकने में डर रहे हो क्यूंकी ये तुमने मेहनत से कमाएँ हैं।

अबकी बार पिता ने दुकान की चाबी निकल कर बेटे के हाथ में दे दी और बोले की आज वास्तव में तुम इसके लायक हुए हो क्यूंकी आज तुम्हें मेहनत का अहसास हो गया है।

सोमवार, 17 जनवरी 2022

अर्चना श्रीवास्तव,( मलेशिया) की कुछ कविताएं

--  ('तपस्या'




तपस्या से तपस्वी, साधना से साधक


है ऊंच कोटि के मुहावरे जो 


आज भी प्रासंगिक है


कल भी दैत्य-दानवों के विरुद्ध


 अडिग-शाश्वत होने का छिडा


 एकल अभियान था


आज  भी अंत-बाह्य उपस्थित, 


संकट एकसमान है


सांस्कृतिक अतिक्रमण का 


मौजूद अभेद्य-घातक हथियार हैं


लालच, भय,दबाव के डंक मारता बाजारवाद है


भीड से तन्हाई तक


वैमनस्य से प्रेम तक


स्वार्थ से परमार्थ तक


प्रगतिशीलता से पारंपारिकता तक


सत्य-मिथ्या और न्याय-अन्याय के बीच मचा


निरंतर अंदरुनी कोहराम है


गली-मुहल्ले मे ठनी प्रतिस्पर्धा का गलाफांस है


 है चुनौती अति गंभीर तमाम 


द्वंद-हामला के मध्य 


 संकल्पित रह अचल-अटल ,


एकाग्र कर्मयोगी हो ....


---------------------------------------------------




@   ((2))



-"'इतिहास"'


*°°°°°°°’°°°°°°°°°°°°°°°°°*



कबतक ढोयेंगे अतीत के काले-कलंकित खंडों को

छल-प्रपंच के भ्रामक तथ्यों और निरर्थक दांवों को

आओ मिलकर पुनः पडताल करें

अपने कुंठा और ग्लानि की आहूति देकर

स्वाभिमान की उज्ज्वल अवधारणा वरण कर

स्वर्णिम इतिहास का पुनुरूत्थान-नवनिर्माण करें....।


•••••••••••••••••••••••••••


 कहानियां-जीवनियाँ वहीं ग्राह्य-माननीय हैं

जो देशप्रेम-मातृभूमि के लिए समर्पण सीखाये

अपने विरासत और धरोहर का संरक्षक बनाये

सनातनी संस्कृति-परंपरा और मानकों पर टिककर

देश के उपलब्धियों के नित्य नये कीर्तिमान सजायें

•••••••••••••••••••••••••••••

 

जिन पन्नों से क्रुरता-वहशीपन का विवरण पडा 

तानाशाही के रक्तरंजित विभत्स चित्रण भरा

प्रण करें उन्हें मिटाने के अपने स्मृतियों से

मानवता के मुख के कालिख ,शर्मनाक तारीखों कों

जिन्हें पुनः दुहराने की न कोई साजिश करे..

•••••••••••••••••••••••••••••


वेद-पुराण, रामायण-उपनिषद का ज्ञान

सृष्टि के संपूर्ण जन-जीवन का कल्याण भाव

बुद्ध, कृष्ण, राम,नानक, तुलसी की अमृत वाणी

मानवीय गरीमा-अस्मिता को पुनर्जीवित दान

वीर योद्धाओं-विभूतियों की अमरगाथाएँ मात्र

अनुकरणीय और अनुसरणीय बने... निर्धारित हो...


$*******************************$




     ((3))



 दर्द की एक नदी थमी है


___________________________________


'दर्द की एक नदी थमी है'...इससे बेहतर

 क्या परिभाषित होगी

 एक स्त्री ..नदी ही तो है ...


जिसकी मंजिल बस सफर है

औरों के लिए निरंतर क्रियाशील

  हरपल  प्रवाहित....


ईश्वर ने स्वयं नदियाँ  नारी-स्वरूप में रची

गंगा,जमुना, सरस्वती, कृष्णा, कावेरी 

उतंग शिखर से उतरकर नीचे सबके लिए...


निर्झर, भव्य, आक्रामक तंरंगित-बौछारों को

खुबसूरती से ,सलीके से धाराओं मे  समेटकर...

संपूर्ण बिडम्बनाओं से बेपरवाह


जिस ओर  संपूर्ण, भव्यता से,एकनिष्ठ  बही..

स्नेह, करूणा की अतुल्य जलराशि से सींचित किया कण-प्राण अपने अहं की आहुति देकर..


खुद स्वेच्छा से हर्षित छोटी धाराओं को जनमीं

फिर हरबार लोग अपने दंभ,

क्षुद्र स्वार्थ और सुविधा से

इसकी धाराओं को कांटा-मोडा

बांधा मनमाने रूप में

दर्द-चुभन के अपमानित

चट्टानों से पाटा-रोका अभिसप्त कर

ओजस-स्वयंभू  बहावों को....


●••••••••••••••••••••••••••••••••••●


*******************************$




@

 

       "जिन्दगी"


*•••••••••••••••••••••••••••••••••*


कुछ कही, कुछ अनकही  दास्तां 

है ---ये जीवन-डगर

टुकडों में बटे एहसास, कुछ वहां पनपे ,

कुछ घटे यही

चाहतों की बेजोड़ उधेडबुन 

मजबूरियों की अपनी सियासत

हर वक्त एक नजर की तलाश जारी

जिन्दगी का अक्स उभर आये जिसमें...


उम्र की आडी-तिरछी पगडंडियों पर

कभी मासूमियत से खुद को तैनात किया राहों में

तब इसके वहशी अधरों ने

निचोड लिया मेरी निश्छलता-भोलापन

लडखडाती आवाक्.. 

मैं खडी रही  

  पथराई ..स्तब्ध--


गुजरती गई मेरे सामने

उलटी-पलटी दुनिया की अजीब तसवीरें

सहसा गुजरती हवा की कहानी ,बदलते फिजा की जुबानी

आविष्कार, खोजो का विस्मयकारी सिलसिला

अनायास ही मुझे आंदोलित कर गया

सहजता से मैने ठंडी सांसे भर ,सजग हो

नयनों में माधुर्य भर चाही इसकी दोस्ती...


●•••••••••••••••●••••••••••••••••●





--किसकी मुट्ठी में है


°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°


        हाँ भिन्न-भिन्न इंसान

         देश से परदेश तक

         अनगिनत बेहिसाब                 

समुची धरती में

         अनंत आसमान तक

          फैले-सिमटे/    सुषुप्त-स्फूर्त...  

              कैसी-कैसी रस्मे /कायदे  हजार

              जीवन है–----रंग-रुप बेशुमार

            पर जीने के सलीके

            निधार्रित है सारे


              वो निर्मित करेंगे--------

              या फिर संशोधित करेंंगे

             प्रायोजित/प्रायोगिक रास्ते..

             पर चलने के ढ़ग /बढ़ाने को कदम 

             निर्देशों मे अंकित है..

          यूं तो भाषाएँ अनगिनत हैं

        यकीनन ..

            विषय-वस्तु /बोलने का लहजा

            लगभग तयकर रखा है

            पूछो तो जरा---

           सत्ता, पैसा, कौशल, तकनीक

          किसकी मुट्ठी मे है सारे...

           क्या राजतंत्र ,क्या प्रजातंत्र ..

           नहीं गुजांइश के पुल शेष ...  भ्रमण कर सके जहाँ

           स्वतंत्र सोच-इरादों के कदम


         सभी अधीन-पराधीन हुए

            किसी-न-किसी मदारी के..

      जो क्षुद्र-छद्म /मक्कार प्रपंचोंं से

          नैसर्गिक मान्यताओं-वृत्तियों  को pl

         प्रश्न चिन्ह के बाणों से बेधते

         तेरे आत्मबोध-आत्मसत्ता को

        हिचकोलों मे डूबोते

         तेरा इति क्या/अंत कब

          सब मापदंड वहीं तय करते

          वो उत्पादित करेंगें सामान 

         हमारी जरूरतों को जज्बातों मे पिरोके

          नयी चाहतो को

           इश्तहारों का सुर देकर

            पर कीमत लगाते

             अपने कायदे-कानून को

   अमिट- अकाट्य सुनिश्चित कर

      अपने अदृश्य एकछत्र सत्ता 

        स्थापित करते

              खुद के स्वार्थ मे

             परमार्थ विर्सजित कर...!!!!!

    †★******************************★†


        


        


        



    


            .


               


              


                 



-मिलकर आसां हुआ है'


*°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°*


#"मिलकर आसां हुआ है " ऐ जिन्दगी


जबसे तेरा दामन संभाला है


पहले थी नितांत अकेली ,सहमी-सिमटी सी


भीड. की नजरों से बचकर..  खुद के उधेड़बुन में


उम्मीदों से लदी...राह पर हांफती हुई..


शब्दों का एक पुल जबसे आया 


एक अदम्य चाहत-सा जागृत हो आया


भ्रमों के चंगुल से उबरकर


सहारो की आस झटककर


तमाम अवरोधों मे...


सब्र और उत्कंठा साथ लेकर


हरशैय आशंका को रौंदकर 


चलते जाने का अद्भूत सुकून..!!


जैसे जन्म हो नये एक पथिक का..


एक अनूठी यात्रा के अभियान पर 


मौसम-दर-मौसम चलना


अंतर के नब्ज टटोलते


चांद-सूरज की आंख-मिचौली मे


हवाओं का साक्षी,नदियों का हमराही


अंधेरे-उजाले के बहुरंगी सवालों में


उम्र की पगडंडियों के चहुंओर


सत्य का आलोक बिखेरने..।



●•••••••••••••••●••••••••••••••••●

अर्चना श्रीवास्तव 



मनुष्य के कर्मों का साक्षी कौन है.../ कृष्ण मेहता


मृत्युलोक में प्राणी अकेला ही पैदा होता है, अकेले ही मरता है। प्राणी का धन-वैभव घर में ही छूट जाता है। मित्र और स्वजन श्मशान में छूट जाते हैं। शरीर को अग्नि ले लेती है। पाप-पुण्य ही उस जीव के साथ जाते हैं। अकेले ही वह पाप-पुण्य का भोग करता है परन्तु धर्म ही उसका अनुसरण करता है।


‘शरीर और गुण (पुण्यकर्म) इन दोनों में बहुत अंतर है, क्योंकि शरीर तो थोड़े ही दिनों तक रहता है किन्तु गुण प्रलयकाल तक बने रहते हैं। जिसके गुण और धर्म जीवित हैं, वह वास्तव में जी रहा है।’


*पाप और पुण्य : -* वेदों में जिन कर्मों का विधान है, वे धर्म (पुण्य) हैं और उनके विपरीत कर्म अधर्म (पाप) कहलाते हैं। मनुष्य एक दिन या एक क्षण में ऐसे पुण्य या पाप कर सकता है कि उसका भोग सहस्त्रों वर्षों में भी पूर्ण न हो।


*मनुष्य के कर्म के चौदह साक्षी !!!*


सूर्य, अग्नि, आकाश, वायु, इन्द्रियां, चन्द्रमा, संध्या, रात, दिन, दिशाएं, जल, पृथ्वी, काल और धर्म–ये सब मनुष्य के कर्मों के साक्षी हैं।


सूर्य रात्रि में नहीं रहता और चन्द्रमा दिन में नहीं रहता, जलती हुई अग्नि भी हरसमय नहीं रहती; किन्तु रात-दिन और संध्या में से कोई एक तो हर समय रहता ही है। दिशाएं, आकाश, वायु, पृथ्वी, जल सदैव रहते हैं, मनुष्य इन्हें छोड़कर कहीं भाग नहीं सकता, इनसे छुप नहीं सकता। मनुष्य की इन्द्रियां, काल और धर्म भी सदैव उसके साथ रहते हैं। कोई भी कर्म किसी-न किसी इन्द्रिय द्वारा किसी-न-किसी समय (काल) होगा ही। उस कर्म का प्रभाव मनुष्य के ग्रह-नक्षत्रों व पंचमहाभूतों पर पड़ता है। जब मनुष्य कोई गलत कार्य करता है तो धर्मदेव उस गलत कर्म की सूचना देते हैं और उसका दण्ड मनुष्य को अवश्य मिलता है।


*कर्म से ही देह मिलता है !!!*


पृथ्वी पर जो मनुष्य-देह है उसमें एक सीमा तक ही सुख या दु:ख भोगने की क्षमता है। जो पुण्य या पाप पृथ्वी पर किसी मनुष्य-देह के द्वारा भोगने संभव नही, उनका फल जीव स्वर्ग या नरक में भोगता है। पाप या पुण्य जब इतने रह जाते हैं कि उनका भोग पृथ्वी पर संभव हो, तब वह जीव पृथ्वी पर किसी देह में जन्म लेता है।


कर्मों के अवशेष भाग को भोगने के लिए मनुष्य मृत्युलोक में स्थावर-जंगम अर्थात् वृक्ष, गुल्म (झाड़ी), लता, बेल, पर्वत और तृण–आदि योनि प्राप्त करता है। ये सब दु:खों के भोग की योनियां हैं। वृक्षयोनि में दीर्घकाल तक सर्दी-गर्मी सहना, काटे जाने व अग्नि में जलाये जाने सम्बधी दु:ख भोगना पड़ता है।  यदि जीव कीटयोनि प्राप्त करता है तो अपने से बलवान प्राणियों द्वारा दी गयी पीड़ा सहता है, शीत-वायु और भूख के क्लेश सहते हुए मल-मूत्र में विचरण करना आदि दारुण दु:ख उठाता है। इसी तरह से पशुयोनि में आने पर अपने से बलवान पशु द्वारा दी गयी पीड़ा का कष्ट पाता रहता है। पक्षी की योनि में आने पर कभी वायु पीकर रहना तो कभी अपवित्र वस्तुओं को खाने का कष्ट उठाना पड़ता है। यदि भार ढोने वाले पशुओं की योनि में जीव आता है तो रस्सी से बांधे जाने, डण्डों से पीटे जाने व हल जोतने का दारुण दु:ख जीव को सहना पड़ता है।


*विभिन्न पापयोनियां !!!*


इस संसार-चक्र में मनुष्य घड़ी के पेण्डुलम की भांति विभिन्न पापयोनियों में जन्म लेता और मरता है–


–माता-पिता को कष्ट पहुंचाने वाले को कछुवे की योनि में जाना पड़ता है।


–मित्र का अपमान करने वाला गधे की योनि में जन्म लेता है।


–छल-कपट कर जीवनयापन करने वाला बंदर की योनि में जाता है।


–अपने पास रखी किसी की धरोहर को हड़पने वाला मनुष्य कीड़े की योनि में जन्म लेता है।


–विश्वासघात करने से मनुष्य को मछली की योनि मिलती है।


–विवाह, यज्ञ आदि शुभ कार्यों में विघ्न डालने वाले को कृमियोनि मिलती है।


–देवता, पितर व ब्राह्मणों को भोजन न कराकर स्वयं खा लेता है वह काकयोनि (कौए) में जाता है।


*दुर्लभ है मनुष्ययोनि : -* इस प्रकार बहुत-सी योनियों में भ्रमण करके जीव किसी महान पुण्य के कारण मनुष्ययोनि प्राप्त करता है। मनुष्ययोनि प्राप्त करके भी यदि दरिद्र, रोगी, काना या अपाहिज जीवन मिले तो बहुत अपमान व कष्ट भोगना पड़ता है।


इसलिए दुर्लभ मनुष्य जन्म पाकर संसार-बंधन से मुक्त होने के लिए प्राणी को भगवान विष्णु की सेवा-आराधना करनी चाहिए क्योंकि वे ही कर्मफल के दाता व संसार-बंधन से छुड़ाने वाले मोक्षदाता हैं। भगवान विष्णु के जो-जो स्वरूप हैं, उनकी भक्ति करने से मनुष्य संसार-सागर आसानी से पार कर परमधाम को प्राप्त करता है।


भगवान विष्णु ने बताया संसार-सागर से पार होने का उपाय?


भगवान विष्णु ने संसार-सागर से पार होने का उपाय भगवान रुद्र को बताते हुए कहा कि ‘विष्णुसहस्त्रनाम’ स्तोत्र से मेरी नित्य स्तुति करने से मनुष्य भवसागर को सहज ही पार कर लेता है।


‘जिनका मन भगवान विष्णु की भक्ति में अनुरक्त है, उनका अहोभाग्य है, अहोभाग्य है; क्योंकि योगियों के लिए भी दुर्लभ मुक्ति उन भक्तों के हाथ में ही रहती है।’ (नारदपुराण)


*भक्तों की गति : -* भक्त अपने आराध्य के लोक में जाते हैं। भगवान के लोक में कुछ भी बनकर रहना सालोक्य-मुक्ति है। भगवान के समान ऐश्वर्य प्राप्त करना सार्ष्टि-मुक्ति है। भगवान के समान रूप पाकर वहां रहना सारुप्य-मुक्ति है। भगवान के आभूषणादि बनकर रहना सामीप्य-मुक्ति कहलाती है। भगवान के श्रीविग्रह में मिल जाना सायुज्य-मुक्ति है।


जिस जीव को भगवान का धाम प्राप्त हो जाता है, वह भगवान की इच्छा से उनके साथ या अलग से संसार में दिव्य जन्म ले सकता है। वह कर्मबन्धन में नहीं बंधा होता है। संसार में भगवत्कार्य समाप्त करके वह पुन: भगवद्धाम चला जाता है।


*मुक्त पुरुष : -* मनुष्य बिना कर्म किए रह नहीं सकता। कर्म करेगा तो पाप-पुण्य दोनों होंगे। लेकिन जो मनुष्य सबमें भगवत्दृष्टि रखकर भगवान की सेवा के लिए, उनकी आज्ञा का पालन करने के लिए और भगवान की प्रसन्नता के लिए कर्म करता है तो उसके कर्म भी अकर्म बन जाते हैं और कर्म-बंधन में नहीं बांधते हैं। वह संसार में रहते हुए भी नित्यमुक्त है।


तत्त्वज्ञानी पुरुष संसार के आवागमन से मुक्त हो जाते हैं। उनके प्राण निकलकर कहीं जाते नहीं बल्कि परमात्मा में लीन हो जाते हैं। सती स्त्रियां, युद्ध में मारे गए वीर और उत्तरायण के शुक्ल-मार्ग से जाने वाले योगी मुक्त हो जाते हैं।


गीता में शुक्ल तथा कृष्ण मार्ग कहकर दो गतियों का वर्णन है–


जिनमें वासना शेष है, वे धुएं, रात्रि, कृष्णपक्ष, दक्षिणायन के देवताओं द्वारा ले जाए जाते हैं। ऊर्ध्वलोक में अपने पुण्य भोगकर वे फिर पृथ्वी पर जन्म लेते हैं।


जिनमें कोई वासना शेष नहीं है, वे अग्नि, दिन, शुक्लपक्ष, उत्तरायण के देवताओं द्वारा ले जाये जाते हैं। वे फिर पृथ्वी पर जन्म लेकर नहीं लौटते हैं।


*पितृलोक : -* यह एक प्रकार का प्रतीक्षालोक है। एक जीव को पृथ्वी पर जिस माता-पिता से जन्म लेना है, जिस भाई-बहिन व पत्नी को पाना है, जिन लोगों के द्वारा उसे सुख-दु:ख मिलना है; वे सब लोग अलग-अलग कर्म करके स्वर्ग या नरक में हैं। जब तक वे सब भी इस जीव के अनुकूल योनि में जन्म लेने की स्थिति में न आ जाएं, इस जीव को प्रतीक्षा करनी पड़ती है। पितृलोक इसलिए एक प्रकार का प्रतीक्षालोक है।


*प्रेतलोक : -* यह नियम है कि मनुष्य की अंतिम इच्छा या भावना के अनुसार ही उसे गति प्राप्त होती है। जब मनुष्य किसी प्रबल राग-द्वेष, लोभ या मोह के आकर्षण में फंसकर देह त्यागता है तो वह उस राग-द्वेष के बंधन में बंधा आस-पास ही भटकता रहता है। वह मृत पुरुष वायवीय देह पाकर बड़ी यातना भरी योनि प्राप्त करता है। इसीलिए कहा जाता है–‘अंत मति सो गति।’


इसी सत्य को प्रकट करता हुआ एक सुन्दर भजन है–


*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,*

गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले,

श्रीगंगा जी का तट हो,

यमुना का वंशीवट हो,

मेरा सांवरा निकट हो,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


पीताम्बरी कसी हो,

छवि मन में यह बसी हो,

होठों पे कुछ हसी हो,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


श्रीवृन्दावन का स्थल हो,

मेरे मुख में तुलसी दल हो,

विष्णु चरण का जल हो,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


जब कंठ प्राण आवे,

कोई रोग ना सतावे,

यम दर्शना दिखावे,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


उस वक़्त जल्दी आना,

नहीं श्याम भूल जाना,

राधा को साथ लाना,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


सुधि होवे नाही तन की,

तैयारी हो गमन की,

लकड़ी हो ब्रज के वन की,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


एक भक्त की है अर्जी,

खुदगर्ज की है गरजी,

आगे तुम्हारी मर्जी,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले।।*


ये नेक सी अरज है,

मानो तो क्या हरज है,

कुछ आप का फरज है,

जब प्राण तन से निकले,

*इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निक








.

रवि अरोड़ा की नजर से....

 आपने कभी देखी / रवि अरोड़ा किसी फिल्म का तो याद नहीं मगर जहां तक साक्षात दर्शन की बात है तो मुझे अभी तक लैंबोर्गिनी कार के दीदार नहीं हुए ।...