मंगलवार, 4 सितंबर 2012

पथ के साथी - महादेवी वर्मा



मुक्त ज्ञानकोष विकिपीडिया से

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पथ के साथी  
Pathkesathi.jpg
लेखक महादेवी वर्मा
देश भारत
भाषा हिंदी
विषय संस्मरण
प्रकाषक राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली
प्रकाषन कि तिथी 1956
पन्नें 92
आई.एस.बी.एन HB-04755
पथ के साथी महादेवी वर्मा द्वारा लिखे गए संस्मरणों का संग्रह हैं, जिसमे उन्होंने अपने समकालीन रचनाकारों का चित्रण किया है। जिस सम्मान और आत्मीयतापूर्ण ढंग से उन्होंने इन साहित्यकारों का जीवन-दर्शन और स्वभावगत महानता को स्थापित किया है वह अपने आप में बड़ी उपलब्धि है। 'पथ के साथी' में संस्मरण भी हैं और महादेवी द्वारा पढ़े गए कवियों के जीवन पृष्ठ भी। उन्होंने एक ओर साहित्यकारों की निकटता, आत्मीयता और प्रभाव का काव्यात्मक उल्लेख किया है और दूसरी ओर उनके समग्र जीवन दर्शन को परखने का प्रयत्न किया है।
'पथ के साथी' में निम्नलिखित 11 संस्मरणों का संग्रह किया गया है-
  • दद्दा (मैथिली शरण गुप्त)
  • निराला भाई
  • स्मरण प्रेमचंद
  • प्रसाद
  • सुमित्रानंदन पंत
  • सुभद्रा (कुमारी चौहान)
  • प्रणाम (रवींद्रनाथ ठाकुर)
  • पुण्य स्मरण (महात्मा गांधी)
  • राजेन्द्रबाबू (बाबू राजेन्द्र प्रसाद)
  • जवाहर भाई (जवाहरलाल नेहरू)
  • संत राजर्षि (पुरुषोत्तमदास टंडन)



पृष्ठ मूल्यांकन देखें
इस पन्ने का मूल्यांकन करें।
विश्वसनीय
निष्पक्षता
पूर्ण
अच्छी तरह से लिखा हुआ।


हम आपको एक पुष्टिकरण ई-मेल भेज देंगे। हम आपका पता किसी के साथ साझा नहीं करेंगे।गोपनीयता नीति

सफलतापूर्वक सहेजा गया
आपके मूल्यांकन अभी तक जमा नहीं किये गये।
आपके मूल्यांकन की अवधि समाप्त हो गयी है।
कृपया इस पृष्ठ को पुन जाँचकर अपना मूल्याँकन जमा करे।
कोई त्रुटि उत्पन्न हुई। कृपया बाद में पुन: प्रयास करें।
धन्यवाद! आपका मूल्याँकन सहेजा गया।
कृपया एक संक्षिप्त सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए एक क्षण लें
धन्यवाद! आपका मूल्याँकन सहेजा गया।
क्या आप एक खाता बनाना चाहते हैं?
एक खाता से आपको आपके संपादन के ट्रैक रखने, विचार विमर्श में शामिल होने और समुदाय का एक हिस्सा बनने में मदद मिलेगी।
या
धन्यवाद! आपका मूल्याँकन सहेजा गया।
क्या आप जानते थे कि आप इस पृष्ठ को संपादित कर सकते हैं?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्यार

  प्रस्तुति - रेणु दत्ता / आशा सिन्हा  एक नदी किनारे एक पेड़ था, और पास के गांव का एक बच्चा, अपनी स्कूल की छुट्टी के बाद..रोज उस पेड़ के पास...