गुरुवार, 31 जनवरी 2013

कुछ भूल तो है मेरी…/ ऐश्वर्य मोहन गहराना





New post on गहराना

by AishMGhrana

महीनों पहले
लंबी सड़क के बीच
दरख्तों के सहारे
चलते चलते
तुमने कहा था
भूल जाओगे एक दिन
.
.
.
याद आते हो आज भी
साँसों में सपनों में
गलीचों में पायदानों में
रोटी के टुकड़ों में
चाय की भाप में
.
.
.
तुम आज भी
हर शाम कहते हो
भूल गया हूँ मैं तुम्हें
हर रात गुजर जाती है
मेरे शर्मिंदा होने में
.
.
.
हर सुबह याद आता है
तुम्हें भूल चूका हूँ मैं
.
.
कुछ भूल तो है मेरी..

ऐश्वर्य मोहन गहराना
(१८ जनवरी २०१३ – सुबह
जागने से कुछ पहले
अचानक मन उदास सा था
करवटें बदलते बदलते
तुम्हारी याद में)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...