शनिवार, 19 सितंबर 2020

लघुकथा के साहनी / सुभाष नीरव

लघुकथा संसार 

 कथाकार मित्र सुकेश साहनी मुझसे बेशक आयु में तीन वर्ष छोटे हों, पर लेखक के तौर पर मेरे अग्रज और वरिष्ठ हैं। मुझे साहनी जी की लघुकथाएं प्रारम्भ से प्रभावित करती रही हैं और मैं इनकी अनेक लघुकथाओं को लघुकथा के मानक के रूप में  लेता रहा हूं। लघुकथा में  बारीकी और उसकी गुणवत्ता को कैसे अपने रचनात्मक कौशल से रचा - बुना जा सकता है, यह मैंने सुकेश साहनी की लघुकथाओं से सीखने की कोशिश की। कुछ नाम और हैं जैसे रमेश बतरा,  भगीरथ, सूर्यकांत नागर, बलराम अग्रवाल जिनकी लघुकथाओं ने मुझे सीखने - समझने की भरपूर ज़मीन दी। सुकेश भाई की न केवल लघुकथाएं, बल्कि इनकी कहानियां भी मुझे उद्वेलित और प्रेरित करती रही हैं। इनके भीतर का कथाकार ' कहानी ' और ' लघुकथा ' दोनों को साधने में सिद्धहस्त है। यही कारण है कि सुकेश मुझसे उम्र में छोटे होने के बावजूद मुझसे बड़े हैं। इनकी विनम्रता का तो मैं कायल हूं। बहुत से लघुकथा सम्मेलनों में मिलने और एक साथ मंच साझा करने का मुझे अवसर मिला है।  इनकी नई आलोचना पुस्तक "लघुकथा : सृजन और रचना - कौशल" कल मुझे डाक में मिली।     इसमें लघुकथाओं, लघुकथा संकलनों, लघुकथा संग्रहों को लेकर और विशेषकर कथादेश की अखिल भारतीय लघुकथा प्रतियोगिताओं को लेकर समय - समय पर लिखे आलेख संकलित किए गए हैं। ये सभी महत्वपूर्ण आलेख इधर - उधर बिखरे हुए थे, उन्हें एक जगह एक किताब में उपलब्ध कराया गया है, जिसे मैं ज़रूरी भी मानता हूं।  

इस किताब को हमारे प्यारे मित्र भूपाल सूद (अयन प्रकाशन, महरौली, नई दिल्ली) ने छापा है। वह आज हमारे बीच नहीं हैं, पर न जाने क्यों सुकेश भाई की अयन प्रकाशन से छप कर अाई इस किताब को छुआ, तो यूं लगा जैसे भूपी भाई को छुआ हो, यह छुअन बहुत अपनी सी लगी, जैसे वह जब मिलते थे, मुस्कराते हुए हाथ बढ़ाकर सीधे गले लगा लेते थे, ठीक वैसी ही आत्मीय सी छुअन ! 

हार्ड बॉन्ड में 150 पेज की इस किताब की कीमत 300 रुपए है।

बहरहाल, भाई सुकेश साहनी जी को दिल से बधाई। 

- सुभाष नीरव

19 सितम्बर 2019

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...