बनारसी दास चतुर्वेदी








भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
लेख का ड्राफ़्टलेख (प्रतीक्षित)



बनारसीदास चतुर्वेदी
बनारसीदास चतुर्वेदी
पूरा नाम
बनारसीदास चतुर्वेदी
जन्म
जन्म भूमि
मृत्यु

कर्म-क्षेत्र
पत्रकारिता, स्वतंत्र लेखन
मुख्य रचनाएँ
राष्ट्रभाषा, फिजी द्वीप में मेरे 21 वर्ष, हमारे आराध्य, सेतुबन्ध, संस्मरण, रेखाचित्र आदि
भाषा
नागरिकता
भारतीय
अन्य जानकारी
पत्रकार के रूप में गणेश शंकर विद्यार्थी को अपना आदर्श मानते थे।
इन्हें भी देखें
बनारसीदास चतुर्वेदी (अंग्रेज़ी: Banarasidas Chaturvedi, जन्म- 24 दिसम्बर, 1892, फ़िरोजाबाद; मृत्यु- 2 मई, 1985) प्रसिद्ध पत्रकार और शहीदों की स्मृति में साहित्य प्रकाशन के प्रेरणास्त्रोत थे। उनकी गणना अग्रगण्य पत्रकारों और साहित्यकारों में की जाती है। यद्यपि हिन्दी साहित्य के प्रति अनुराग और लेखक की अभिरुचि के लक्षण उनमें पत्रकार बनने से पहले ही दिखाई दे चुके थे। सन 1914 से ही वे प्रवासी भारतीयों की समस्याओं पर लिखने लगे थे। बनारसीदास बारह वर्ष तक राज्य सभा के सदस्य भी रहे थे।

विषय सूची

जन्म तथा शिक्षा

बनारसीदास चतुर्वेदी का जन्म 24 दिसम्बर, 1892 को फ़िरोजाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1913 में अपनी इंटर की परीक्षा पास की थी। इसके बाद उन्होंने कुछ समय तक फर्रूखाबाद के हाईस्कूल में अध्यापन कार्य किया। फिर इंदौर के डेली कॉलेज में अध्यापक बन गए। उस समय डॉ. सम्पूर्णानंद भी वहाँ अध्यापक थे। उन्हीं दिनों इंदौर में गांधी जी की अध्यक्षता में हिन्दी साहित्य सम्मेलन का वार्षिक अधिवेशन हुआ। तभी बनारसीदास चतुर्वेदी जी को गांधी जी तथा प्रमुख साहित्यकारों के संपर्क में आने का अवसर मिला। पत्रकार के रूप में वे गणेश शंकर विद्यार्थी को अपना आदर्श मानते थे।

पत्रकारिता

बनारसीदास जी का पत्रकारिता जीवन 'विशाल भारत' के सम्पादन से आरम्भ हुआ। स्वर्गीय रामानन्द चटर्जी, जो 'मॉडर्न रिव्यू' और 'विशाल भारत' के मालिक थे, वे बनारसीदास जी की सेवा भावना और लगन से बहुत प्रभावित थे। कलकत्ता में रहते हुए उनका प्रमुख राष्ट्रीय नेताओं से परिचय हुआ था। प्रवासी भारतीयों की समस्या में इनकी विशेष दिलचस्पी पहले से ही थी। इसके कारण ही महात्मा गांधी, सी. एफ़. एंड्रूज और श्रीनिवास शास्त्री के ये कृपापात्र बन गए थे। इन महानुभावों का प्रवासी भारतीयों की समस्या से विशेष सम्बन्ध था। बनारसीदास चतुर्वेदी जी सी. एफ. एड्रूज के साथ 'शांतिनिकेतन' चले गए। फिर वहाँ से गांधी जी के कहने पर 'गुजरात विद्यापीठ' के अध्यापक बन कर अहमदाबाद पहुँचे। वहाँ भी अधिक दिनों तक नहीं टिके। उन्होंने 1920 में अध्यापक कार्य त्याग दिया। बनारसीदास जी ने 'विशाल भारत' को एक साहित्यिक और सामान्य जानकारी से परिपूर्ण मासिक पत्रिका बना दिया। इसके स्तम्भों में प्राय: सभी प्रमुख लेखकों की रचनाएँ प्रकाशित होती थीं।

साहित्य का अध्ययन

'विशाल भारत' छोड़ने के बाद बनारसीदास जी ने टीकमगढ़ से 'मधुकर' का सम्पादन शुरू किया। ओरछा नरेश इनका विशेष आदर करते थे और हिन्दी प्रेमी थे। बनारसीदास ने वास्तव में जीवन भर पढ़ने और लिखने के अतिरिक्त कुछ नहीं किया। उनका अध्ययन हिन्दी, संस्कृत और भारतीय साहित्य तक ही सीमित नहीं था। अंग्रेज़ी के माध्यम से उन्होंने पाश्चात्य साहित्य का भी गहरा अध्ययन किया था। उनकी अपनी शैली थी, जो बातचीत की भाषा के निकट होते हुए भी ओजपूर्ण तथा प्रांजल है और आकर्षक है। निबन्ध, रेखा चित्र, वर्णन आदि के लिए उनके लेख-शैली विशेष रूप से उपयुक्त हैं। उनकी रचनाओं में 'रेखाचित्र' (1952), 'साहित्य और जीवन' (1954), 'सत्यनारायण कविरत्न', 'भारतभक्त एंड्रुज', 'संस्मरण' आदि अधिक प्रसिद्ध हैं।

भारतीयों के हितेषी

तोताराम सनाढ्य से उनके फीजी द्वीप के अनुभव सुनकर बनारसीदास ने तोताराम जी के नाम से 'फिजी में मेरे 21 वर्ष' नामक जो पुस्तक तैयार की, उससे प्रवासी भारतीयों की दशा की ओर देश भर का ध्यान आकृष्ट हुआ। बनारसीदास चतुर्वेदी ने स्वयं भी 'प्रवासी भारतवासी' नामक पुस्तक की रचना की। वर्ष 1924 में कांग्रेस ने उन्हें अपना प्रतिनिधि बनाकर पूर्वी अफ्रीका भेजा था। अपने लेखों और सहानुभूतिपूर्ण आलोचना द्वारा उन्होंने अनेक तरुण लेखकों को प्रोत्साहित किया था। बनारसीदास जी ने जीवन को निकट से देखा था, इसीलिए उनके रेखाचित्र सजीव हैं। वे चलते-फिरते दिखाई देते हैं और बोलते से सुनाई पड़ते हैं। रेखाचित्रों के क्षेत्र में उनका कार्य बहुत ही महत्त्वपूर्ण है।

विदेश यात्रा

बनारसीदास जी का एक प्रमुख कार्य शहीदों की स्मृति में ग्रंथमाला प्रकाशित कराना रहा है। कई साहित्यकारों के अभिनंदन ग्रंथ प्रकाशित कराने का श्रेय भी उनको है। बनारसीदास जी कभी-कभी अपनी डायरी भी लिखा करते थे, जिसका सम्पूर्ण प्रकाशन हिन्दी साहित्य में अवश्य ही महत्त्वपूर्ण होगा। वे रूसी लेखक संघ के आमंत्रण पर रूस की सैर दो बार कर चुके थे। वहाँ से लौटकर उन्होंने सुन्दर लेखमाला लिखी थी। दिल्ली में वे साहित्यिक संस्थाओं से किसी न किसी रूप से सम्बन्द्ध रहे।

राज्य सभा सदस्य

बनारसीदास चतुर्वेदी बारह वर्ष तक राज्य सभा के सदस्य भी रहे थे। यह सम्मान उन्हें अपनी हिन्दी सेवा के कारण ही मिला था। संसद सदस्य के रूप में दिल्ली निवास की अवधि में वे सभी साहित्यिक हलचलों के प्रमुख सूत्रधारों में रहे थे। 'संसदीय हिन्दी परिषद', 'हिन्दी पत्रकार संघ' आदि संस्थाओं के संचालन में रुचि लेने के साथ-साथ बनारसीदास जी को दिल्ली में 'हिन्दी भवन' खोलने का श्रेय भी प्राप्त है।

योगदान

'हिन्दी भवन' की स्थापना में बनारसीदास जी का प्रमुख योगदान था। यह राजधानी की साहित्यिक गतिविधि का केन्द्र बन चुका है। 'हिन्दी भवन' (दिल्ली) के अतिरिक्त सम्मेलन में 'सत्यनारायण कुटीर', कुण्डलेश्वर टीकमगढ़ में 'गांधी भवन' अंतर्जनपदीय परिषद, ब्रजसाहित्यमण्डल तथा शांतिनिकेतन में 'हिन्दी भवन' की स्थापना कर उन्होंने हिन्दी साहित्य को समृद्ध करने का अथक प्रयास किया। साहित्य सेवा के साथ-साथ सामाजिक सेवा भी बनारसीदास जी का जीवन व्रत रहा था। सन 1914 से 1936 तक उन्होंने पूरी निष्ठा के साथ प्रवासी भारतीयों की सेवा की थी।

कृतियाँ

श्रमजीवी पत्रकारों को संगठित करने में भी बनारसीदास चतुर्वेदी ने अग्रणी काम किया। रेखाचित्रों की रचना में वे सिद्धहस्त माने जाते थे। उनकी प्रमुख रचनाएँ निम्नलिख्त हैं-
  1. 'राष्ट्रभाषा' - 1919
  2. 'कविरत्न सत्यनारायण जी की जीवनी' - 1906
  3. 'संस्मरण' - 1952
  4. 'रेखाचित्र' - 1952
  5. 'फिजी द्वीप में मेरे 21 वर्ष' - 1918
  6. 'प्रवासी भारतवासी' - 1928
  7. 'केशवचन्द्र सेन'
  8. 'फिजी में भारतीय'
  9. 'फिजी की समस्या'
  10. 'हमारे आराध्य'
  11. 'सेतुबन्ध'
  12. 'साहित्य और जीवन'
  बनारसीदास चतुर्वेदी जी लगनशील पत्र-लेखक और पत्रों के संग्रहकर्ता भी थे। वे हर रोज दर्जनों पत्र लिखते थे। उनके पास विशिष्ट व्यक्तियों से पत्राचार का दुर्लभ संग्रह था, जो अंत में उन्होंने विभिन्न संग्रहालयों में सुरक्षित करवा दिये।

निधन

अपनी पत्रकारिता और लेखन के माध्यम से हिन्दी साहित्य की सेवा करने वाले इस महापुरुष का 2 मई, 1985 ई. को निधन हुआ। किसी भी विषय को लेकर संकलन अथवा प्रकाशन के कार्य में जहाँ कहीं भी कठिनाई होती थी, वहाँ बनारसीदास चतुर्वेदी हमेशा एक सहायक के रूप में तैयार रहते थे। इसका उदाहरण स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों की जीवनियों का प्रकाशन है। शहीदों के श्राद्ध पर वे ग्रंथों तथा विशेषांकों के रूप में 22 चीज़ें निकाल चुके थे। सामग्री का संकलन उन्होंने स्वयं ही किया और इस कार्य का कार्यालय उनका अपना घर ही था। इस प्रकार वे निशिदिन हिन्दी भाषा और साहित्य के निर्माण में सदा संलग्य रहे।  
पन्ने की प्रगति अवस्था












टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख



पुरुष
अयोध्यासिंह उपाध्याय · अनंतमूर्ति · अनंत गोपाल शेवड़े · आर. के. नारायण · अकिलन · आग़ा हश्र कश्मीरी · जयशंकर प्रसाद · प्रेमचंद · जैनेन्द्र कुमार · अब्दुल क़ादिर बदायूँनी · भारतेन्दु हरिश्चंद्र · रबीन्द्रनाथ ठाकुर · लल्लू लालजी · शिवपूजन सहाय · शिवराम कारंत · सूर्यकान्त त्रिपाठी 'निराला' · रामधारी सिंह 'दिनकर' · हज़ारी प्रसाद द्विवेदी · गोकुलचन्द्र · हरिशंकर परसाई · रामचन्द्र शुक्ल · श्यामसुन्दर दास · राय कृष्णदास · महावीर प्रसाद द्विवेदी · डी. आर. बेंद्रे · गणेश प्रसाद सिंह 'मानव' · विश्वनाथ प्रसाद मिश्र · विनोद शंकर व्यास · माधवराव सप्रे · लाला भगवानदीन · विनायक कृष्ण गोकाक · अमृतलाल नागर · अम्बिका प्रसाद दिव्य · रामअवध द्विवेदी · गणेशशंकर विद्यार्थी · पीताम्बर दत्त बड़श्वाल · सदल मिश्र · नागार्जुन · पाण्डेय बेचन शर्मा 'उग्र' · श्यामकृष्णदास · सुधाकर पाण्डेय · केशव प्रसाद मिश्र · पारसनाथ मिश्र सेवक · लोकनाथ श्रीवास्तव · हरिकृष्ण 'जौहर' · करुणापति त्रिपाठी · राधाकृष्णदास · पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी · बजरंगबली गुप्त विशारद · रामविलास शर्मा · पण्डित गंगाधर मिश्रा · कुंवर नारायण · सुरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव · पद्मनारायण राय · अमरनाथ झा · दुर्गा प्रसाद खत्री · नाथूराम प्रेमी · सत्यजीवन वर्मा 'भारतीय' · बच्चन सिंह · अम्बिका प्रसाद गुप्त · भोलाशंकर व्यास · किशोरी लाल गुप्त · हर्षनाथ · वाचस्पति पाठक · यादवेन्द्र शर्मा 'चन्द्र' · ज्योति प्रसाद अग्रवाल · गोपाल चंद्र प्रहराज · गोदावरीश मिश्र · उपेन्द्रनाथ अश्क · शिवनारायण श्रीवास्तव · चन्द्रशेखर पाण्डे · पण्डित कृष्ण शुक्ल · कुशवाहा कान्त · विष्णु प्रभाकर · अगरचन्द नाहटा · कुसुम चतुर्वेदी · पण्डित सीताराम चतुर्वेदी · रमेश चन्द्र दत्त · अमर गोस्वामी · राजा शिव प्रसाद · बज्ररत्न दास अग्रवाल · रामचन्द्र वर्मा · दामोदर पण्डित · राजेन्द्र अवस्थी · अशोक कुमार सिंह · क्षितिजमोहन सेन · रघुनन्दन प्रसाद शुक्ल 'अटल' · गोविंद शंकर कुरुप · अज्ञेय · रमा शंकर व्यास · अमरकांत · देवनारायण द्विवेदी · रामनरेश त्रिपाठी · विद्यानिवास मिश्र · विजयानन्द त्रिपाठी · श्रीकांत वर्मा · प्रताप नारायण मिश्र · बालकृष्ण भट्ट · द्वारका प्रसाद मिश्रा · प्रभाकर मिश्र · धीरेन्द्र वर्मा · अवनीन्द्रनाथ ठाकुर · सत्येन्द्रनाथ ठाकुर · चन्द्रबली सिंह · राहुल सांकृत्यायन · ई. एम. एस. नंबूदरीपाद · गोपबंधु दास · रामप्रसाद विद्यार्थी · वृंदावनलाल वर्मा · इंशा अल्ला ख़ाँ · भीष्म साहनी · निहाल चन्द वर्मा · बाबू गुलाबराय · यशपाल · भगवतीचरण वर्मा · बालकृष्ण शर्मा नवीन · हरिशंकर शर्मा · शरत चंद्र चट्टोपाध्याय · पंडित श्रद्धाराम शर्मा · अरविंद कुमार · सुकुमार राय · अमृतराय · अमृतलाल चक्रवर्ती · तकषी शिवशंकर पिल्लै · अम्बाप्रसाद 'सुमन' · डॉ. नगेन्द्र · अम्बाशंकर नागर · अम्बिकादत्त व्यास · अम्बिकाप्रसाद वाजपेयी · रामकुमार वर्मा · रामवृक्ष बेनीपुरी · माखन लाल चतुर्वेदी · माइकल मधुसूदन दत्त · भाई परमानन्द · अयोध्याप्रसाद गोयलीय · एस.एल. भयरप्पा · काका कालेलकर · ठाकुर शिव कुमार सिंह · भट्टोजिदीक्षित · जानकी प्रसाद · भर्तु प्रपंच · भर्तुमित्र · भृतहरि · हरिवंश राय बच्चन · पांडुरंग वामन काणे · विजयशंकर मल्ल · रघुवीर, डॉ. · मयूर भट्ट · चतुरसेन शास्त्री · इलाचन्द्र जोशी · सआदत हसन मंटो · चन्द्रबली पाण्डेय · गजानन त्र्यंबक माडखोलकर · गंगानाथ झा · कंबन · देवकीनन्दन खत्री · झबेरचंद · मोहन राकेश · कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी · कन्हैयालाल मिश्र प्रभाकर · कामिल बुल्के · मुक्तिबोध · कमलेश्वर · अभिमन्यु अनत · गिरिराज किशोर · धर्मवीर भारती · चन्द्रधर शर्मा गुलेरी · अन्नपूर्णानन्द · फ़क़ीर मोहन सेनापति · नर्मद · उदय प्रकाश · नरेन्द्र कोहली · सुधीश पचौरी · विष्णु सखाराम खांडेकर · वासुदेव शरण अग्रवाल · शमशेर बहादुर सिंह · श्रीलाल शुक्ल · राही मासूम रज़ा · राधानाथ राय · सुखलाल कायस्थ · रघुवीर सहाय · मोटूरि सत्यनारायण · वासुदेव महादेव अभ्यंकर · रांगेय राघव · फणीश्वरनाथ रेणु · निर्मल वर्मा · खुशवंत सिंह · मास्ति वेंकटेश अय्यंगार · किशोरी दास वाजपेयी · जानकी वल्लभ शास्त्री · मनोहर श्याम जोशी · सियारामशरण गुप्त · सर्वेश्वर दयाल सक्सेना · बनारसीदास चतुर्वेदी · सुदर्शन · कृश्न चन्दर · ज्ञानरंजन · असग़र वजाहत · शिवाजी सावंत · गुरुजाडा अप्पाराव · गुणाढ्य · केदारनाथ अग्रवाल · केदारनाथ सिंह · राजेंद्र यादव · विजयदान देथा · हरिकृष्ण देवसरे · अन्नाराम सुदामा · विश्वनाथ सत्यनारायण · टी. पी. मीनाक्षीसुंदरम · एस. के. पोट्टेक्काट्ट · भगवतशरण उपाध्याय · राधाकृष्ण · परशुराम चतुर्वेदी · राजनाथ पांडेय · किशोरीदास वाजपेयी · श्रीमन्नारायण अग्रवाल · कैलाशचंद्र देव वृहस्पति · झाबरमल्ल शर्मा · भुवनेश्वर


महिला




फ़ेसबुक पर भारतकोश (नई शुरुआत)
प्रमुख विषय सूची
फ़ेसबुक पर शेयर करें


Book-icon.png

ऊपर जायें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज








2
बनारसीदास चतुर्वेदी
मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Stub icon
यह लेख एक आधार है। आप इसे बढ़ाकर विकिपीडिया की सहायता कर सकते हैं।
पण्डित बनारसीदास चतुर्वेदी प्रसिद्ध हिन्दी लेखक एवं पत्रकार थे। उनका जन्म फ़िरोजाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था। वे राज्यसभा के सांसद भी रहे। उनकी स्मृति में बनारसीदास चतुर्वेदी सम्मान दिया जाता है।
हिन्दी में श्री बनारसीदास चतुर्वेदी के सम्पादकत्व में कोलकाता से 'विशाल भारत' नामक हिन्दी मासिक निकला, जिसने न केवल विदेशों में रहने वाले भारतीयों की दुर्गति की ओर ध्यान दिलाया बल्कि संसार की प्रगतिशील विचारधारा से हिन्दी जगत को परिचित कराया। पं॰ बनारसीदास चतुर्वेदी जैसे सुधी चिंतक ने ही साक्षात्कार की विधा को पुष्पित एवं पल्लवित करने के लिए सर्वप्रथम सार्थक कदम बढ़ाया था।
उन्होने 'मधुकर' नामक पाक्षिक पत्र का भी सम्पादन १ अक्टूबर, १९४० से आरम्भ किया। श्री बनारसीदास चतुर्वेदी का योगदान बुन्देलखण्ड पत्रकारिता के क्षेत्र में अविस्मरणीय है।
उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।
बाहरी कड़ियाँ


2


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

बिहारी के दोहे और अर्थ

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?