सोमवार, 25 जनवरी 2016

गीत वन्देमातरम





जब तलक संसार है यह
गीत वन्देमातरम
नित्य बढ़ती ही रहे यह
प्रीत वन्देमातरम।
देश मेरा धर्म है, इससे बड़ा कोई नहीं।
इसके बिन होगा कभी भी सच खड़ा कोई नहीं।
हम चलाएंगे सदा इक
रीत वन्देमातरम।
देश की मिट्टी से जिसको प्यार वो इंसान है
देश को धोखा अगर देगा कोई शैतान है।
देश मेरा है हमेशा
मीत वन्देमातरम।।
हम अभी तक चल रहे हैं और आगे जाएंगे
विश्व में इस देश का परचम हमीं लहराएंगे।
हर घड़ी अपने रहेगी
जीत वन्देमातरम।
देश से जो प्यार करते, उनका ही यह देश है,
प्रेम से मिल कर रहें हम बस यही सन्देश है
देश मेरा है मधुर
संगीत वन्देमातरम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...