मंगलवार, 26 जुलाई 2016

नखरे किसी के व्यर्थ उठाया न कीजिये





गिरीश पंकज

इन आंसुओं को इस तरह जाया न कीजिये
लोगों के तंज दिल में बसाया न कीजिये
कुछ लोग यही चाहते हैं सब दुखी रहें
उनको कोई भी ज़ख्म दिखाया न कीजिये
जिनसे हमें धोखा मिलें उनसे रहें बच कर
भूले से उनसे हाथ मिलाया न कीजिये
क्या ज़िंदगी का कोई भरोसा भला कहो
इस बात को कभी भी भुलाया न कीजिये
जितने हैं लोग ओछे 'शो-बाज़' है बड़े
नखरे किसी के व्यर्थ उठाया न कीजिये
कब कौन कहाँ आपकी बातों को खोल दे
यूं हालेदिल सभी को बताया न कीजिये
कब कौन-सी लहर उसे ले जाये बहा कर
ऐसे घरोंदे आप बनाया न कीजिये



वायरल  को इस तरह अपने सिर पर चढाया न कीजिे सर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रवीण परिमल की काव्य कृति तुममें साकार होता मै का दिल्ली में लोकार्पण

 कविता के द्वार पर एक दस्तक : राम दरश मिश्र  38 साल पहले विराट विशाल और भव्य आयोज़न   तुममें साकार होता मैं 💕/ प्रवीण परिमल   --------------...