शनिवार, 23 सितंबर 2023

मथुरा* / डॉ. वेद मित्र शुक्ल


मथुरा पर केंद्रित दो रचनाएं 🙏


 वेद मित्र शुक्ला


*1.*


कृष्ण भजन में डूबी राधे राधे जपती मथुरा प्यारी,

भोग, आरती, माखन-मिश्री की अलमस्ती मथुरा प्यारी|


पूजें पूरी ब्रज-अवनी को, पग-पग जन्मी कथा कृष्ण की,

पर, उर में तो पुण्यभूमि यह पावन धरती मथुरा प्यारी|


सजते हैं कुरुक्षेत्र मगर मत भूलें, देखो, रंगभूमि को,

युग हो कोई भी कंसों का वध तय करती मथुरा प्यारी|


साथ-साथ हैं वृंदावन, गोकुल, गोवर्धन, बरसाना सब,

हँसते-गाते यमुना के घाटों पर बसती मथुरा प्यारी|


जन्माष्टमी पर्व हो या हो लट्ठमार होली रंगीली,

'जीवन है उत्सव' संदेशा देती रहती मथुरा प्यारी|


*2.*



आसाँ कब वसुदेव-देवकी होकर तप करना मथुरा में,

समझी यह संघर्ष-कथा सो अच्छा था रुकना मथुरा में|


अपनों की कारा में घुट-घुटकर जीने से अच्छा है जो -

वह तो ही है कृष्ण-जन्म का एक रात घटना मथुरा में|


बारिश, बाढ़, अमावस हों या कंस-राज, मुश्किलें बड़ी, पर

धर्म यही वसुदेव भाँति हो क्रांति-कथा गढ़ना मथुरा में|


गोकुल औ वृंदावन माना हृदय बीच बसते हैं, लेकिन -

कृष्ण सिखाते कर्तव्यों की खातिर है बसना मथुरा में|


महसूसो वह 'जन्मभूमि' जो कारा के भीतर थी जकड़ी,

'रंगभूमि' फिर जहाँ पाप का निश्चित था मिटना मथुरा में|


(सौ.- राष्ट्रधर्म, सितंबर 2023, पृ. 10)


https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=pfbid032kgN7NYXchBaFnbQ3sdaHrkX8d6n9ieivP3T37FdbiMD4XY6E2ZE6csR7at2XMNLl&id=1113073210&mibextid=Nif5oz

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...