हमसफ़र सपने / © हिमकर श्याम





Thursday, 28 August 2014


(चित्र गूगल से साभार)
अविरल घूमा करते हैं
हमारे आस-पास
तैरते हैं हर वक़्त
हमारी आँखों में
ख़्वाहिशों और कोशिशों के
एकमात्र साक्षी-सपने

बनते-बिखरते
सुलगते- मचलते
गिरते- संभलते
फूल सा महकते
काँच सा चटकते
हसरतों से तकते
ये बेज़ुबां सपने

अलग-अलग रंगों में
रूपों-आकारों में
आहों-उलाहनों में
गीतों में छंदों में
उदासियों-तसल्लियों में
देहरी पर, आँगन में
रहते हैं साथ-साथ
हैं हमसफर सपने

इन्हीं सपनों को
संजोया था हमने
कभी मन में
इन्हीं सपनों में
तलाशते रहे हम
जीवन के रंग
सपने, कभी हो न सके पूरे
रह गए हर बार अधूरे  
फिर भी बुनते रहें हम
सपनों की सतरंगी झालर
उम्मीदें चूमती रहीं
सपनों का माथा
वक़्त कतरता रहा
सपनों के पर
टूटते-दरकते रहे
सपने दर सपने
बिखरती रहीं ख़ुशियाँ तमाम
टूटते रहे धैर्य और विश्वास

ओह! ये रेज़ा-रेज़ा सपने।

© हिमकर श्याम

साभार शिराजा

टिप्पणियां

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 01 सितम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. ब्लौग फौलोवर गैजेट बटन लगायें । सुन्दर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बनते-बिगड़ते सपनो के सुन्दर प्रस्तुति ..

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

बिहारी के दोहे और अर्थ

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?