रविवार, 17 जुलाई 2022

आ गया फिर एकबार.../ अरविंद अकेला



आ गया फिर एकबार सावन


आ गया फिर एकबार सावन,

करके मन को पावन-पावन,

देखो कैसी रूत हुयी सुहानी,

देखकर मन हो रहा मनभावन।

     आ गया फिर एकबार...।


चहुँओर ओर हरियाली छायी,

सबके चेहरे पर खुशियाँ आयी,

गोरी का मन खिल उठा है,

आये जबसे उसके साजन।

      आ गया फिर एकबार...।


उमड़-उमड़कर बदरा छाये,

बदरा देख सबके मन भाये,

मन मयूर नाच उठा रजनी का,

आये जबसे उसके राजन।

      आ गया फिर एकबार...।


भोले भी अब लगे मुस्कुराने,

भक्त लगे अब आने-जाने,

गूँज रहा कावरियों का नारा,

प्रकृति लगने लगी  सुहावन।

      ।


सावन देख खुश हो रहा "अकेला"

छोड़कर इस दुनियाँ का झमेला,

मौसम भी अब बेईमान हुआ है,

देखकर अपना प्यारा सावन।

      आ गया फिर एकबार...।

         -----0----

      अरविन्द अकेला,

पूर्वी रामकृष्ण नगर,पटना-27

1 टिप्पणी:

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...