गुरुवार, 26 मई 2022

पूर्व के पाप से हरिचर्चा नहीं सुहाय।

 "तुलसी पूर्व के पाप से हरिचर्चा नहीं सुहाय।
जैसे ज्वर के जोर से भूख विदा हो जाय।।"🚩

मनुष्य के पूर्वजन्मों के पापों की वजह से बहुत से लोगो को हरी के कीर्तन, हरि की चर्चा, हरि का भजन। चौपाइयां आदि अच्छे नही लगते क्योकि पूर्वजन्म के पाप  उन्हें हरि के नज़दीक नही जाने देते।।।जैसे मनुष्य को बुखार आने पर भूख नही लगती। चाहे आप उसे कितने ही पकवान क्यो न खिलाये भूख विदा हो जाती है। वैसे ही पूर्व जन्म के पापों की वजह भगवान की चर्चा अच्छी नही लगती।


  सनमुख होइ जीव मोहि जबहीं।

                 जन्म कोटि अघ नासहिं तबहीं।।🚩


भगवान राम कहते है । जीव ज्यों ही मेरे सन्मुख होता है, त्यों ही उसके करोड़ो जन्मो के पाप नष्ट हो जाते हैं।


अच्छे कर्म करे। हो सके तो संतो का संग करे , गलत संगत से बचे। अच्छे लोगो का संग करे।।

पापो से दूरी वनाकर रखे। ये जीवन अगले जीवन की तैयारी है। पिछले जीवन को अब हम भोग रहे है।। अब जो करेंगे वो अगले जन्म में काम आयेगा।।


🙏🙏।।मेरे प्रभु राम।। जय हो राजाराम की।🙏🙏

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्यार

  प्रस्तुति - रेणु दत्ता / आशा सिन्हा  एक नदी किनारे एक पेड़ था, और पास के गांव का एक बच्चा, अपनी स्कूल की छुट्टी के बाद..रोज उस पेड़ के पास...