शुक्रवार, 31 दिसंबर 2021

नया साल क्या बेमिशाल ? / प्रियदर्शी किशोर

 आज नववर्ष है और प्रत्येक देशवासी इसे मनाने को उत्सुक है। आज लोगो ने अपनी जुबान में मिठास घोल रखी है। बधाइयों एवं शुभकामना का दौर जारी है। लेकिन किसी ने अपने ह्रदय के अंदर झाँकने की कोशिश नही की कि जिस वर्ष को हम पीछे छोड़ आये उस वर्ष के तीन सौ पैसठ दिनों में हमने कितनो का दिल तोडा ,कितनो की आहे ली और कितने लोग हमारे कर्मो के प्रति हमें कोस रहे हैं। हमने मानव धर्म को अपने ह्रदय में कितना आत्मसात किया है जरुरत है इस पर मनन करने की। आइये शुभकामना देने से पहले हम जरा इस पर विचार करें और अपने अंतर्मन को झकझोरें तथा नये वर्ष की शुरुआत नई उम्मीद, नए उमंग,सात्विक भावनाओं के साथ करें। हमारी कोशिश किसी के दुखों को साझा करने की, किसी के विश्वास को जीतने की, किसी के जीवन में खुशियां लाने की हो तभी सही मायने में हमारी शुभकामना किसी के ह्रदय को सुकून दे सकेगी। सिर्फ शुभकामना देकर औपचारिकता न निभाये आइये एक बेहतर सम्बन्ध, एक बेहतर उम्मीद और एक बेहतर भविष्य की ओर अपने क़दमों को प्रशस्त करें। 


 *अंत मे* 


सूर्य के स्वर्णिम किरण से,

प्रकृति के उन्मुक्त पवन से।

नववर्ष जीवन मे लाए,

खुशियों का पैगाम।।

🙏प्रियदर्शी🙏


है नववर्ष से मेरी प्रार्थना

नित हर सुबह ये आए।

सुख समृद्धि के फूलों से

जीवन बगिया महकाए।

🙏प्रियदर्शी🙏


नववर्ष मंगलमय,सुखद,स्वस्थ एवं प्रसन्नता से परिपूर्ण हो


नोट - उपरोक्त विचार पूर्णतः मेरे है किसी धर्म,सम्प्रदाय या व्यक्ति से इसका कोई सम्बन्ध नही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...