रविवार, 29 नवंबर 2015

मीराबाई के दोहे


मीराबाई

मीराबाई, मीरा
Mirabai.jpg
जन्म: 1498
निधन: 1547
उपनाम
गुजराती नाम મીરાંબાઈ
जन्म स्थान
ग्राम चोकड़ी, जोधपुर, राजस्थान, भारत
कुछ प्रमुख कृतियाँ
विविध
मीराबाई की अधिकांश रचनाएँ उनके कृष्ण प्रेम से ओत-प्रोत हैं। इनका विवाह उदयपुर के महाराणा कुमार भोजराज जी के साथ हुआ था। ये बचपन से ही कृष्णभक्ति में रुचि लेने लगी थीं। विवाह के थोड़े ही दिन बाद आपके पति का देहांत हो गया था। इसके पश्चात् इनकी भक्ति दिन-प्रतिदिन बढ़ती गई। ये मंदिरों में जाकर वहां मौजूद कृष्णभक्तों के सामने कृष्णजी की मूर्ति के आगे नाचती रहती थीं। मीराबाई का नाचना और गाना राज परिवार को अच्छा नहीं लगा। उन्होंने कई बार मीराबाई को विष देकर मारने की कोशिश की। परेशान होकर ये द्वारका और वृंदावन गई।
जीवन परिचय
अभी इस पन्ने के लिये छोटा पता नहीं बना है। यदि आप इस पन्ने के लिये ऐसा पता चाहते हैं तो kavitakosh AT gmail DOT com पर सम्पर्क करें।

प्रमुख संग्रह

  • बरसी का मायरा / मीराबाई
  • गीत गोविंद टीका / मीराबाई
  • राग गोविंद / मीराबाई
  • राग सोरठ / मीराबाई

पदावली

प्रतिनिधि रचनाएँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...