बुधवार, 15 जून 2022

मौसमी-कविता :/ सलिल पाण्डेय

 

--

*बादल-परिवार का मौनव्रत*

-

'न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी'

मुहावरे के 'ऐप' को 

बादलों ने भी अपने 'लैपटॉप' में

'डाऊनलोड' कर लिया

कटते हरे-भरे पेड़ों को

'गूगल' में देख-देख कर

पथरा गईं बादल-परिवार की आंखें

धरती को सूरज के हवाले कर

'मौन के योगाभ्यास' के लिए 

तान ली चादर

न झूमेंगे, न बरसेंगे

और न बहेगी ठंडी-ठंडी हवा

जीने के लिए 

मिल तो जाएगा ही इंजेक्शन और दवा।

-

*सलिल पांडेय, मिर्जापुर।*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मुक़ाबला / कृष्ण मेहता

 🐃मुसीबत का सामना🐃 जंगली भैंसों का एक झुण्ड जंगल में घूम रहा था , तभी एक  बछड़े (पाड़ा) ने पुछा , ” पिताजी, क्या इस जंगल में ऐसी कोई चीज है ...