रविवार, 20 अगस्त 2023

कर दो मेरा उद्धार / अरविंद अकेला


कर दो मेरा जीवन आलोकित 

कर दो मेरा उद्धार 

कर दो मुझको चंदन- चंदन 

आकर मेरे घर-द्वार ।

      कर दो मेरा जीवन...I 


तुम बिन मैं हूँ अधूरा 

अधूरा मेरा घर-परिवार 

तुम बिन अधुरी जिन्दगी 

अधुरा यह रचनाकार। 

      कर दो मेरा जीवन...I 


आँखों की थोड़ा काजल दे दो

कर दूँ तेरा रूप श्रृंगार 

काजल का तुझे टीका लगाकर

कर दूँ सुरक्षित तेरा संसार। 

      कर दो मेरा जीवन...I 


थोड़ी सी मुझे मुस्कान दे दो

अपने दिल की अरमान दे दो

ले लो मेरी सारी खुशियाँ 

ले लो मेरा प्यार। 

      कर दो मेरा जीवन...I 


दे दो थोड़ी होंठो की लाली 

दे दो तुम थोड़ी हरियाली

तेरे लिए मैं जी सकूँ 

देकर खुशियाँ अपार। 

      कर दो मेरा जीवन...I 


थोड़ी सी रूप-रंग दे दो 

जीने की थोड़ी उमंग दे दो

करूँ  निसार तुमपर ये जीवन 

करूँ प्यार बेशुमार ।

      कर दो मेरा जीवन...I 

       ------0-----

      अरविन्द अकेला,पूर्वी रामकृष्ण नगर,पटना-27

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रवीण परिमल की काव्य कृति तुममें साकार होता मै का दिल्ली में लोकार्पण

 कविता के द्वार पर एक दस्तक : राम दरश मिश्र  38 साल पहले विराट विशाल और भव्य आयोज़न   तुममें साकार होता मैं 💕/ प्रवीण परिमल   --------------...