सोमवार, 14 अगस्त 2023

🔸मैं राजा बेटा🔸/ डा बीना सिंह "रागी "

 🔸मैं राजा बेटा🔸



सुनो ना मम्मी  सब कहते हैं

मैं   घर का  राज   दुलारा हूं

मां बाबाके आंखो का तारा हूं

दादा दादीजी का मैं  प्यारा हूं

हांमैं राजाबेटा राज दुलारा हूं


मुझे  पापा जैसा ही बनना है

सारे  बोझ  उठाकर सहना है

शायद इसीलिए बड़ा न्यारा हूं

जग के लिए जवाब करारा हूं

हांमैं राजाबेटा राज  दुलारा हूं


बीबी कागर पति बन जाता हूं 

मां के लिए अति  हो जाता हूं 

श्रवण राम दोनों  ही  बनना है

हमको तोयूं ही जीना मरना है

क्या करूं बेटा बस बेचारा  हूं 

हां मैं राजाबेटा राज दुलारा हूं 


मां कहें संभालो जिम्मेदारी है

तेरी  बहन तो अबला नारी है

त्यौहार पेद्वार पर जाना होगा

भैया का  फर्ज  निभाना होगा

मैं बेटा सबकेकर्ज का मारा हूं 

हांमैं राजा बेटा राज दुलारा हूं


डा बीना सिंह "रागी "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रवीण परिमल की काव्य कृति तुममें साकार होता मै का दिल्ली में लोकार्पण

 कविता के द्वार पर एक दस्तक : राम दरश मिश्र  38 साल पहले विराट विशाल और भव्य आयोज़न   तुममें साकार होता मैं 💕/ प्रवीण परिमल   --------------...