शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2022

करते हैं रावण दहन / अनंग

 " करते हैं रावण दहन "


सत्ता की हनक दिखलाते हैं।

जनता  को  खूब  रुलाते हैं।।

अपने  मन  की करने  वाले। 

सब  संविधान  सुलझाते हैं।।

जीवन का मोह नहीं उनको। 

झूठे   आंसू    छलकाते   हैं।।

खेलते   सदा  जनभावों  से। 

गुंडों  का  बोझ   उठाते  हैं।।

खाकर गरीब की कुटिया में।

अरमानों  को  खा  जाते  हैं।। 

रहते हैं जबतक  कुर्सी  पर। 

मिलने  में  खूब  लजाते  हैं।।

हर  समय   लुटेरे  एक  रहे।

जनमानस  को  भरमाते  हैं।।

कल जानीदुश्मन आज मित्र।

गठबंधन - गीत   सुनाते  हैं।।

दीमक  की  तरह  धीरे-धीरे।

सबकुछ ही चटकर जाते हैं।।

इनसे  अच्छे  तो  दुश्मन हैं।

सीने  पर  बाण  चलाते  हैं।।

करते  हैं रावण  दहन स्वयं।

रावण  जैसा  बन  जाते हैं।।...

"अनंग"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...