रविवार, 13 फ़रवरी 2022

अरुण कमल का लेखन संसार / शांतनु चक्रवर्ती

 🙏 आज 'अपने प्रिय कवि' स्तंभ में उस प्रगतिशील लेखक की बात करेंगे जो आधुनिक हिंदी कविता के कमल हैं। जी हां ,आज बात अरुण कमल की। अरूण कमल का वास्तविक नाम 'अरुण कुमार' है। साहित्यिक  लेखन के लिए उन्होंने  'अरुण कमल' नाम अपनाया और आज‌ वे‌ इसी नाम से साहित्य जगत में जाने जातें हैं।उनका  जन्म 15 फरवरी 1954 ई० को बिहार के रोहतास जिले के नासरीगंज में हुआ ।  वे पटना विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में प्राध्यापक रहे हैं।

अरूण कमल निर्विवाद रूप से समकालीन हिन्दी साहित्य की एक  प्रखर प्रगतिशील विचारधारा संपन्न  कवि  हैं,  जिनकी कविताएं सहज भाषा विन्यास में रचित होते हुए भी‌ आधुनिक जीवन और राजनीति की जटिलताओं की गहरी पड़ताल करती है। 

साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त इस कवि ने  जीवन और कविता ‌के बीच के सामिप्य को अविश्वसनीय रूप से बढ़ाया है। वह जीवन को जैसे जीतें है ‌कविता को उसी सांचे में ‌ढाल देते हैं। उन्होंने कविता के अतिरिक्त आलोचनाएं भी लिखी हैं, अनुवाद कार्य भी किये हैं तथा लंबे समय तक वाम विचारधारा को फ़ैलाने वाली साहित्यिक पत्रिका आलोचना का संपादन भी किया है।

अरुण कमल साठोत्तरी लेखन का अराजक दौर चुक जाने के बाद सक्रिय प्रमुख कवियों में से एक हैं।  

उनकी पहली पुस्तक 'अपनी केवल धार'  ने उन्हें समकालीन दौर के एक महत्त्वपूर्ण कवि के रूप में स्थापित कर दिया था और इस पुस्तक की 'धार' शीर्षक कविता की पंक्ति हर पाठक की जुबान पर अंकित हो गया था।

सामान्य जन के सर्वहारा होते जाने के बावजूद उनमें निहित आंतरिक शक्ति तथा परिवर्तन की संभावना का सहज कलात्मक परिचय देने वाली यह  कविता पुस्तक अत्यधिक लोकप्रिय हुई। सन् 1989 में उनका दूसरा संग्रह 'सबूत' प्रकाशित हुआ और 1996 में तीसरा संग्रह 'नये इलाके में' जिसके लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

उन्होंने कविता के लेखन ‌के‌ साथ साथ अनुवाद भी किया है। 

वियतनामी कवि 'तो हू' की कविताओं-टिप्पणियों की एक अनुवाद पुस्तिका, मायकोव्स्की की आत्मकथा का अनुवाद तथा अंग्रेजी में 'वॉयसेज़' नाम से भारतीय युवा कविता के अनुवादों की पुस्तक प्रकाशित हो चुकी है। किपलिंग की जंगल बुक का अनुवाद भी उन्होंने किया है। इसके अतिरिक्त देश एवं विदेश के अनेक साहित्यकारों की कविताओं तथा लेखों के हिंदी अनुवाद विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। वे प्रभात खबर (राँची) में हर पखवाड़े 'अनुस्वार' नामक एक अनुवाद-स्तंभ लिखते रहे हैं। बीच में उन्होंने नवभारत टाइम्स (पटना) के लिए 'जन-गण-मन' स्तंभ में सामयिक टिप्पणियाँ भी लिखीं तथा इंटरनेट पत्रिका 'लिटरेट वर्ल्ड' के लिए भी स्तंभ-लेखन किया।


कविता-

अपनी केवल धार 1980

सबूत 1989 

नये इलाके में 1996 

पुतली में संसार 2004

मैं वो शंख महाशंख 

आलोचना-

कविता और समय 2002 

गोलमेज 2009 

साक्षात्कार-

कथोपकथन 2009

 अरूण कमल अफ्रोएशियाई युवा लेखक सम्मेलन, ब्राजाविले, कांगो में भारत के प्रतिभागी रहे। रूस, चीन तथा इंग्लैंड की साहित्यिक यात्राएँ कीं। वे साहित्य अकादमी की सामान्य परिषद् एवं सलाहकार समिति के सदस्य तथा हिन्दी साहित्य सम्मेलन, प्रयाग की कार्यसमिति के सदस्य भी रहे। लंबे समय तक हिंदी साहित्यिक माफिया रहे नामवर सिंह के प्रधान संपादकत्व में प्रकाशित होने वाली साहित्यिक पत्रिका 'आलोचना' के संपादन का दायित्व भी सँभाला। 'आलोचना' के सहस्राब्दी अंक 21 (अप्रैल-जून, 2005) से 51 (अक्टूबर-दिसम्बर 2013) तक का संपादन उन्होंने किया। इस अवधि में इस पत्रिका के अंक 28 के रूप में हजारी प्रसाद द्विवेदी पर केंद्रित तथा अंक 40 से 43 के रूप में शमशेर, अज्ञेय, केदारनाथ अग्रवाल एवं नागार्जुन पर केंद्रित महत्त्वपूर्ण विशेषांक प्रकाशित हुए।


सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार 1989

श्रीकांत वर्मा स्मृति पुरस्कार 1990

रघुवीर सहाय स्मृति पुरस्कार 1996

शमशेर सम्मान 1997

साहित्य अकादमी पुरस्कार 1998 ('नये इलाके में' के लिए)


अरूण कमल की कविताएं:-

______________________


संविधान का अंतिम संशोधन 

______________________

 

संसद के संयुक्त अधिवेशन ने ध्वनि मत से

संविधान का अन्तिम संशोधन पारित कर दिया

जिसके अनुसार अब से किसी भी सिक्के में

एक ही पहलू होगा

इस प्रकार सहस्रों वर्षों से चला आ रहा

अन्याय समाप्त हुआ ।


उर्वर प्रदेश

________

मैं जब लौटा तो देखा

पोटली में बँधे हुए बूँटों ने

फेंके हैं अंकूर

दो दिनों के बाद आज लौटा हूँ वापस

अजीब गन्ध है घर में

किताबों कपड़ों और निर्जन हवा की

फेंटी हुई गन्ध

पड़ी है चारों ओर धूल की एक पर्त

और जकड़ा है जग में बासी जल

जीवन की कितनी यात्राएँ करता रहा यह निर्जन मकान

मेरे साथ

तट की तरह स्थिर, पर गतियों से भरा

सहता जल का समस्त कोलाहल--

सूख गए हैं नीम के दातौन

और पोटली में बँधे हुए बूँटों ने फेंके हैं अंकुर

निर्जन घर में जीवन की जड़ों को

पोसते रहे हैं ये अंकुर

खोलता हूँ खिड़की

और चारों ओर से दौड़ती है हवा

मानो इसी इन्तजार में खड़ी थी पल्लों से सट के

पूरे घर को जल भरी तसली-सा हिलाती

मुझसे बाहर मुझसे अनजान

जारी है जीवन की यात्रा अनवरत

बदल रहा है संसार

आज मैं लौटा हूँ अपने घर

दो दिनों के बाद आज घूमती पृथ्वी के अक्ष पर

फैला है सामने निर्जन प्रान्त का उर्वर-प्रदेश

सामने है पोखर अपनी छाती पर

जलकुम्भियों का घना संसार भरे।


अपनी केवल धार

______________


कौन बचा है जिसके आगे

इन हाथों को नहीं पसारा


यह अनाज जो बदल रक्त में

टहल रहा है तन के कोने-कोने

यह कमीज़ जो ढाल बनी है

बारिश सरदी लू में

सब उधार का, माँगा चाहा

नमक-तेल, हींग-हल्दी तक

सब कर्जे का

यह शरीर भी उनका बंधक


अपना क्या है इस जीवन में

सब तो लिया उधार

सारा लोहा उन लोगों का

अपनी केवल धार ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...