मंगलवार, 14 मार्च 2023

🌷🍎 श्री साहित्य कुंज राँची चतुर्थ वार्षिकोत्सव

 श्री साहित्य कुंज राँची के चतुर्थ वार्षिकोत्सव में पुस्तक विमोचन सह सम्मान समारोह आयोजित किया गया

    

**********************

श्री साहित्य कुंज "राँची" का वार्षिकोत्सव होटल सिटी पैलेस लालपुर में धूमधाम से मनाया गया। इसमें दो साझा संकलन काव्य गुंजना व नटखट बचपन के साथ वार्षिक पत्रिका "साहित्य संवाहक" का लोकार्पण किया गया। राँची की तीन रचनाकार  निर्मला कर्ण को "कथा एक मासूम की" ,कविता रानी को कहानी संकलन " रिश्तें " के लिये व विभा वर्मा जी को काव्य पुस्तक "काव्यारूण " और जमशेदपुर की आरती श्रीवास्तव विपुला जी को उनकी पुस्तक "स्वारग" के लिये "साहित्य नवप्रभा पुस्तक सम्मान" से सम्मानित किया गया। मंच के वार्षिक प्रतियोगिता के सम्मान पत्र का भी वितरण किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जमशेदपुर की वरिष्ठ साहित्यकार  प्रतिभा प्रसाद कुमकुम ने की।

मुख्य अतिथि के रूप में डा. हरेराम चेतन त्रिपाठी व मधु मसूरी हसमुख ने मंच की शोभा बढ़ाई। विशिष्ट अतिथि के रूप में जमशेदपुर तुलसीभवन के मानद सचिव प्रसेनजीत तिवारी ,आर्य युवासमाज मध्य प्रदेश के डॉ.भानुप्रताप वेदालंकार, राजवीर सिंह,प्रशांत कर्ण, रेणु झा रेणुका, वीणा पांडेय भारती की गरिमामय उपस्थिति ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।जमशेदपुर से कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिये अति विशिष्ट अतिथियों में  निवेदिता श्रीवास्तव,पदमा प्रसाद ,माधवी उपाध्याय,रीना सिन्हा,रीना गुप्ता आई । सरस्वती वंदना माधवी उपाध्याय ने किया। मंच के सभी सक्रिय सदस्यों को मोमेंटो और अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया। ऋतुराज वर्षा को मीडिया प्रभारी का विशेष सम्मान प्रदान किया गया। मंच संचालन खुशबू बरनवाल ने किया व पुस्तक समीक्षा मंच की अध्यक्ष प्रतिमा त्रिपाठी ने की। धन्यवाद ज्ञापन संस्थापिका मनीषा सहाय 'सुमन ने किया।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेमचंद / जयचन्द प्रजापति

 कलम के जादूगर-मुंशी प्रेमचंद्र ++++++++++++++++++ आजादी के पहले भारत की दशा दुर्दशा देखकर सबका कलेजा फट रहा था.दयनीय हालत हमारे देश के समाज...