सोमवार, 16 जनवरी 2023

आपका तो वक्त आया हमारा तो दौर आयेगा! /........

 कुछ देर की खामोशी है फिर शोर आएगा

आपका तो वक्त आया हमारा तो दौर आयेगा!


हस्ताक्षर के साथ हर माह खूबसूरत लम्हें बनते हैं और लम्हों में शामिल वो सपने जो सच हुए है । पहली हस्ताक्षर पत्रिका के बनते वक्त "सहायक संपादक" का पद लेकर जिस जिम्मेदारी के साथ आगे बढ़े थे कदम , वही कदम कुछ महीनों के बाद मिली  पदोन्नती "प्रधान संपादक" से सम्मान और जिम्मेदारियों को थामें कुछ और आगे बढ़ते आए ।  मेरे लिए हस्ताक्षर और रुचि बाजपेयी शर्मा जी का साथ हर नई उपलब्धि के साथ साथ 

चलता है और आगे बढ़ जाने को प्रेरित करता है  ।  जनवरी अंक मेरे  लिए एक और खूबसूरत सा नए वर्ष का तोहफा एक और पदोन्नति को साथ लाया, मुझे पत्रिका में संपादक के पद से सम्मानित किया गया। मुझ पर इतना विश्वास रुचिपब्लिकेशन की टीम ने किया,जिस टीम की मैं खुद भी डायरेक्टर हूँ। इस पत्रिका के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूर्ण समर्पण के साथ निभाने का प्रयास करती रहूंगी। सभी हस्ताक्षर सहयोगियों का बहुत बहुत आभार और धन्यवाद।

  नए पथ पर मित्रों का स्नेहयुक्त आशीष अपेक्षित है।  💐💐




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

श्याम बेनेगल और रीति कालीन कवि भूषण

 श्याम बेनेगल ने अपने मशहूर सीरियल “भारत एक खोज” में जिस अकेली हिंदी कविता का स्थान दिया है वह है रीतिकाल के कवि भूषण की। कहा जाता है कि भूष...