बुधवार, 6 मई 2020

तुझे क्या कहूँ




*तुझे क्या कहूं*
*बीमारी कहूं कि बहार कहूं*
*पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं*
*संतुलन कहूं कि संहार कहूं*
*कहो तुझे क्या कहूं*
.
*मानव जो उदंड था*
*पाप का प्रचंड था*
*सामर्थ्य का घमंड था*
*मानवता खंड-खंड था*
.
*नदियां सारी त्रस्त थी*
*सड़के सारी व्यस्त थी*
*जंगलों में आग थी*
*हवाओं में राख थी*
*कोलाहल का स्वर था*
*खतरे में जीवो का घर था*
*चांद पर पहरे थे*
*वसुधा के दर्द बड़े गहरे थे*
*फिर अचानक तू आई*
*मृत्यु का खौफ लाई*
*मानवों को डराई*
*विज्ञान भी घबराई*
.
*लोग यूं मरने लगे*
*खुद को घरों में भरने लगे*
*इच्छाओं को सीमित करने लगे*
*प्रकृति से डरने लगे*
.
*अब लोग सारे बंद है*
*नदिया स्वच्छंद है*
*हवाओं में सुगंध है*
*वनों में आनंद है*
.
*जीव सारे मस्त हैं*
*वातावरण भी स्वस्थ है*
*पक्षी स्वरों में गा रहे*
*तितलियां इतरा रही*
.
*अब तुम ही कहो तुझे क्या कहूं*
*बीमारी कहूं कि बहार कहूं*
.
*पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं*
*संतुलन कहूं कि संहार कहूं*
*कहो तुझे क्या कहूं*
.
🙏🏼🌹

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...