रविवार, 20 नवंबर 2022

साहित्य संसद के रूप में स्थापित हो रहा है कथा संवाद : सुरेश उनियाल

 


करुणा ही कहानी को श्रेष्टता की ओर ले जाती हैं : पंकज शर्मा


कथा संवाद ने पूरा किया वाचन यात्रा का वार्षिक पांचवा पड़ाव

                

  गाजियाबाद। सुप्रसिद्ध रचनाकार सुरेश उनियाल ने कहा कि "कथा संवाद" में हुआ विमर्श बताता है कि यह आयोजन साहित्य संसद का स्वरूप लेता जा रहा है। जिसके जरिए कहानी की वाचिक परंपरा समृद्ध हो रही है। उन्होंने कहा कि माना यह जाता है कि प्रकाशित हो कर ही लेखक और लेखन जनमानस में लोकप्रिय होता है।रामचरित मानस का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि वाचिक परंपरा ने ही लोक में उसे स्थापित किया है। उन्होंने कहा कि प्रकाशित रचनाओं में भी कच्चापन देखने को मिल रहा है। आज के अधिकांश संपादक प्रोफेशनल न होकर कई तरह के दबाव में काम कर रहे हैं। लेखक अपना निर्माता स्वयं होता है। लिहाजा तारीफ से प्रसन्न होने के बजाए लेखक को अपना आलोचक स्वयं बनना चाहिए।

  मीडिया 360 लिट्रेरी फाउंडेशन की ओर से होटल रेडबरी में आयोजित "कथा संवाद" में श्री उनियाल ने कहा कि सुनी गई तमाम कहानियां इस बात का सुबूत हैं कि नई पीढ़ी समाज की विसंगतियों का सूक्ष्मता से विश्लेषण कर रही हैं। मुख्य अतिथि पंकज शर्मा ने कहा कि लिख कर, सुन कर कहानीकार नहीं बना जा सकते। एक ही शब्द कहानी को बना देता है और एक ही शब्द कहानी को गिरा भी सकता है। कहानी की इस पाठशाला में सुनी गई अधिकांश कहानियां करुणा के बहुत करीब हैं। करुणा ही कहानी को श्रेष्टता की ओर ले जाती है। उन्होंने कहा कि बतौर संपादक बहुत सी अधकचरी रचनाओं को पढ़ने के लिए वह अभिशप्त हैं। लेकिन यह विमर्श नए लेखन को मांजने के साथ उन्हें गढ़ने का अभिनव प्रयोग कर रहा है। उन्होंने कहा कि नए लेखकों को धीरज और धैर्य का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए। अति विशिष्ट अतिथि योगेश अवस्थी ने कहा कि लिखने के लिए पढ़ना जरूरी है। कभी यह नहीं सोचना चाहिए कि मैंने जो लिख दिया वह श्रेष्ठ है। एक लेखक को हमेशा आलोचक की शरण में रहना चाहिए। आलोचना हजम करने की क्षमता ही रचनाकार को बड़ा लेखक बनाती है। एक बार पहचान खत्म हो जाए तो लेखक भी एक ब्रांड की तरह खत्म हो जाता है। संस्था के अध्यक्ष शिवराज सिंह ने कहा कि कथा यात्रा का यह सफर पांच वर्ष पूर्ण कर चुका है। संयोजक सुभाष चंदर ने जानकारी दी कि "कथा रंग पुरस्कार 2021-22" के लिए प्राप्त 194 प्रविष्टियों में से पुरस्कार योग्य चयनित कहानियों की घोषणा अपने चरण में है।

  कार्यक्रम का संचालन रिंकल शर्मा ने किया। कथा संवाद में मनीषा गुप्ता ने 'वासुदी', शकील अहमद ने 'बबुआ', प्रतिभा प्रीत ने 'नाइट लैंप', बीना शर्मा ने 'बत्तो' व मनु लक्ष्मी मिश्रा ने 'कल्लो' कहानी का पाठ किया। विमर्श में अशोक मैत्रेय, सुभाष चंदर, आलोक यात्री, वीणा शुक्ला, डॉ. पूनम सिंह, विपिन जैन, राष्ट्र वर्धन अरोड़ा, अनिल शर्मा, रविन्द्र कांत त्यागी, सुभाष अखिल, सत्य नारायण शर्मा, अक्षयवर नाथ श्रीवास्तव, तेजवीर सिंह, शैलजा सिंह, प्रतिमान उनियाल व सिमरन ने हिस्सा लिया। विगत कार्यक्रम में सुनी गई रिंकल शर्मा की कहानी 'प्यारा सा ठग' को "किआन कथा सम्मान" एवं रश्मि वर्मा की कहानी "फोर बैडरूम फ्लैट" को "दीप स्मृति कथा सम्मान" स्वरूप 11-11 सौ रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई। इस अवसर पर वागीश शर्मा, संजयवीर भदौरिया, तिलक राज अरोड़ा, रिशी अवस्थी, अमित जैन, राजेश कुमार, सौरभ कुमार, ओंकार सिंह, वीरेंद्र सिंह सहित बड़ी संख्या में श्रोता उपस्थित थे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...