रविवार, 25 दिसंबर 2022

प्रेम_कविताएँ .../ अनामिका_चक्रवर्तीअनु

 

प्रेम करके कविताएँ लिखना आसान है

कविताएँ लिखकर प्रेम करना नहीं


कविता लिखना आसान है

प्रेम करना नहीं 


तो प्रेम कविताएं, 

प्रेम करके लिखी गई 

या कविता लिखते लिखते प्रेम हो गया


या अपने अनुत्तरित प्रश्न के साथ

प्रेम और कविताएं

साथ साथ जीते मरते रहे


फिर भी सत्य यही है

कितनी सहजता से हो जाता है प्रेम

और समय के साथ

कठिन हो जाती है कविताएं


शायद इसी तरह प्रेम , कविताएं

और कविताएं, प्रेम हो जाती हैं।


तुम्हारे प्रेम में मुझे लिखनी हैं कविताएं

ताकि कविताओं में तुमसे प्रेम कर सकूं।


#अनामिका_चक्रवर्तीअनु


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...