बुधवार, 7 दिसंबर 2022

दिनेश श्रीवास्तव के गीत-

 गीतिका/सजल


                  *रोक दो!*


संस्कृतियों का क्षरण रोक दो!

अंधकार आवरण रोक दो!!


बिन विवाह सहवास के लिए,

किसी पुरुष का वरण रोक दो!


पश्चिम की सभ्यता विषैली,

संबंधों का मरण रोक दो!


'श्रद्धा-आफताब' से सीखो,

ऐसा हर आचरण रोक दो!


वृत्ति-आसुरी और राक्षसी,

करना सीता-हरण रोक दो!


हरी-भरी हो धरती सारी,

दूषित पर्यावरण रोक दो!


कवियों! ऐसी कलम चलाओ,

मानवता पर ग्रहण रोक दो!


              

               


 *लिव-इन को है मिली मान्यता,फिर क्यों रोना-धोना*


साथ-साथ रहना खाना है, पाणिग्रहण बिन सोना।

संस्कृतियों का क्षरण यही है, संस्कार का खोना।

संबंधों के पैंतिस टुकड़े, कर जंगल में बोना।

लिव-इन को है मिली मान्यता, फिर क्यों रोना-धोना।।


छोड़ दिए तुम मात-पिता को, कथित प्रेम में पड़कर।

अनजानी राहों के राही,बने हुए हो भगकर।

कैसे भूल गए घर सुंदर, अपना सुखद सलोना।

लिव-इन को है मिली मान्यता, फिर क्यों रोना-धोना।।


माना प्रेम सरस होता है, पर जब पावन होता।

गंगा जल- सा प्रेमी जन का, तन-मन सदा भिंगोता।

देह-यष्टि का आकर्षण तो,मात्र मोह का होना।

लिव-इन  को है मिली मान्यता, फिर क्यों रोना-धोना।।


प्रेमपाश में अगर फँसाने, लव-जेहादी आएँ।

सावधान तुम रहो बेटियों!, तुमको लुभा न पाएँ

भौतिकता की आँधी में मत, अपना आपा खोना।

लिव-इन को है मिली मान्यता, फिर क्यों रोना-धोना।।


      *दिनेश श्रीवास्तव*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...