गुरुवार, 9 अप्रैल 2020

हम लडकियां / मनोज कुमार




बिना  टिप्पणी

ल से लड़ना सीखना
चाहती हैं हम लड़कियां
ल से नहीं लड़ती हैं लड़कियां
ल से लजाती हैं लड़कियां
ल से लज्जा है उनका आभूषण
बचपन से मां ने  सिखाया है

ल से लडक़ी भी है मां
मां ने भी सीखा था
अपने दिनों में
ल से लज्जा है आभूषण
लड़कियों का
ल से नहीं लड़ती है लड़कियां
काश
ल से लडऩा सिखा देती
बचपन में मां
आज दरिन्दों को सबक
सीखा देती हम लड़कियां

हां, एक बात जरूर
कहती हूं मां

मां, तू आज से ल की
परिभाषा बदल दे
ल से लडऩे दे
लड़कियों को

बिसरा दे ल से
लज्जा की भाषा
ये आभूषण नहीं,
बंधन है
आज से कर दे हम
लड़कियों को आजाद
ल से लडऩा सीखना
चाहती हैं हम लड़कियां

मनोज कुमार

26 नवंबर 2017 को लिखा था

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...