रविवार, 12 अप्रैल 2020

मेरा इंडिया भारत बन रहा है / कवि अनाम




*_मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_*


_सुबह डीजे नही रामधुन सुन रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_हाथ मिलना और हेलो हाय भूल नमस्ते कर रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_मेड कल्चर ख़त्म हो गया घर में सबका काम बंट रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_पिज़्ज़ा बर्गर सब छोड़ के दाल रोटी चुन रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_प्रदुषण भी कम हो गया खुला आसमान दिख रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_बिगबॉस देखना बंद है हर घर में रामायण चल रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_भागती हुई ज़िन्दगी में जैसे अब हर कोई रुक रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_जरूरत सारी सिमट गई है थोड़े में भी काम चल रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_लौटा है किस्से कहानी का दौर बड़ों के साथ बचपन खेल रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_अपने घर के साथ साथ दूसरों के  लिए भी दीप जल रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_नई पीढी में संस्कार दिख रहे गली गली जरूरी सामान पहुंच रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_

_दर्द सबका एक है भूखा रहे न कोई सनातन धर्म की सुन रहा है, मेरा इंडिया भारत बन रहा है।_
😷🙏

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...