नूर मुहम्मद चार्ली पहला कॉमेडियन

 नूर मोहम्मद चार्ली .....हिंदी फिल्मो का पहला स्टार कॉमेडियन जिसके नाम से फिल्मे बिकती थी

नूर मोहम्मद-'चार्ली ' - (1911 -1983 )


आज अगर हिंदी फिल्मो के कॉमिक स्टार की बात की जाये तो जेहन में गोप ,याकूब लाल ,राधा कृष्ण ,भगवान दादा ,जॉनी वॉकर ,महमूद आदि का नाम उभर कर सामने आता है लेकिन हिंदी फिल्मो के आरम्भिक दौर में एक ऐसा भी हास्य कलाकार था जिसे हमने लगभग भुला दिया है हम आज बात कर रहे है हिंदी सिनेमा के पहले सफल कॉमिक स्टार 'नूर मोहम्मद चार्ली 'की जिसके नाम से आज के युवा सिनेमा प्रेमी अनजान है मूक फिल्मो से लेकर सवाक फिल्मो तक अभिनय का शानदार सफर तय करने वाले नूर मोहम्मद चार्ली को भारत के पहले 'कॉमेडी किंग 'के रूप में जाना जाता हैै जिसके हास्य अभिनय की नक़ल बाद में आये सफल हास्य अभिनेताओं जॉनी वॉकर से लेकर महमूद , आई.एस जौहर , दादा कोंडके ,देवेन वर्मा तक ने की अपने ज़माने की प्रसिद्ध फ़िल्मी मैगजीन 'फिल्म इंडिया' के बाबू राव पटेल ने तो उन्हें भारत का एकमात्र हास्य अभिनेता घोषित कर दिया था हिंदी फिल्मो के निर्माण से जुड़े टाकीज़ 'रणजीत मूवीटोन स्टूडियो 'के लोकप्रिय सितारों में से नूर मोहम्मद चार्ली अग्रणी थे उस ज़माने में वो पहले ऐसे अभिनेता थे जिन्हे फिल्मो में नायक से ज्यादा मेहनताना मिलता था 

    

ब्रिटिश भारत के रानावव गांव ( पोरबंदर, सौराष्ट ) में एक रूढ़िवादी मेमन मुस्लिम परिवार में 1जुलाई 1911 में जन्मे नूर मोहम्मद चार्ली का असली नाम नूर मोहम्मद हाजी अहमद था वो स्कूल और सार्वजानिक कार्यक्रमो में अक्सर भाग लेते थे यही से उनमे अभिनय सीखने की ललक भी पैदा हुई आंशिक पढाई करने के बाद उन्होंने अपना घर छोड़ दिया और बम्बई में आकर गुजारे के लिए छाता रिपेरिंग का काम करने लगे एक दिन वो किसी काम से अर्देशिर ईरानी की मशहूर इम्पीरियल फिल्म कंपनी गए वहाँ मूक फिल्मो की शूटिंग अक्सर चलती रहती थी बस यह�

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दो सौ पौराणिक कथाएं

बिहारी के दोहे और अर्थ

कौन है हिन्दी की पहली कहानी ?