गुरुवार, 28 जनवरी 2021

अनजाना बंधन तोड़ गए बालू.../ रतन भूषण

 यादें / एस पी बालासुब्रमण्यम/अनजाना बंधन तोड़ गए बालू...


फ़िल्म और फिल्म संगीत प्रेमी के साथ ही संगीत को महसूस करने वाले को 5 जून 1981 को रिलीज हुई फ़िल्म एक दूजे के लिए के गीतों ने मानो पागल कर दिया था। गीतों के सुरीलापन ने जहां आम लोगों के दिलों में जगह बनाया वहीं युवा पीढ़ी ने गीतों को अपनी प्रेमभावना, अपने दिल से निकली बात मान ली। दरअसल इस फ़िल्म के सभी गीत सुरीले थे, लेकिन तेरे मेरे बीच में कैसा है ये बंधन अनजाना..., सोलह बरस की बाली उमर को सलाम..., हम बने तुम बने एक दूजे के लिए... को युवाओं ने अपना खयाल समझ लिया। वे अपने प्रियतम को इन गीतों को गाकर दिल की बात व्यक्त करते थे। लता मंगेशकर की आवाज तो निराली थी ही, लेकिन मेल सिंगर के रूप में इन गीतों को गाकर नए गायक एस पी बालासुब्रमण्यम ने धूम मचा दिया। अलग अंदाज़ और अनोखी आवाज़ के स्वामी एस पी बालासुब्रमण्यम की गायकी के लोग दीवाने हो गए। आनंद बक्षी के बोल और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का संगीत भी कमाल साबित हुआ।

फ़िल्म एक दूजे के लिये एक दुखान्त प्रेमकहानी है। इसका निर्देशन के बालाचंदर ने किया था। मुख्य कलाकार थे कमल हासन और रति अग्निहोत्री। यह इनकी पहली हिंदी फिल्म थी। यह निर्देशक की अपनी ही एक तेलुगू फ़िल्म की रीमेक थी। फिल्म युवा प्रेम कहानी होने के साथ ही सुरीले गीत-संगीत से सजी होने के कारण सुपर हिट हुई थी। यह फ़िल्म 13 फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए नामांकित हुई और 3 जीतने में सफल रही। गायक एसपी बालसुब्रमण्यम को पहली ही हिन्दी फिल्म में गायकी के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला।

हिंदी फिल्मों में फिल्म एक दूजे के लिए से गीत गाने वाले एस पी बालासुब्रमण्यम अपने लोगों के बीच एसपी या बालू नाम से चर्चित रहे। बालू पहले साउथ की ज्यादातर फिल्मों में कमल हासन की आवाज़ बने। यही वजह थी कि कमल हासन की पहली हिंदी फिल्म एक दूजे के लिए में भी उनकी आवाज़ का ही इस्तेमाल किया गया, लेकिन हिंदी फिल्मों में वे ज्यादातर सलमान खान की आवाज़ बने। मैंने प्यार किया, पत्थर के फूल, मझधार, साजन, हम आपके हैं कौन के गीत लोगों को याद होंगे। उनके गाये कुछ सदाबहार गीत हैं... दिल दीवाना बिन सजना के माने ना..., मेरे रंग में रंगने वाली..., आजा शाम होने आई..., पहला पहला प्यार है..., दीदी तेरा देवर दीवाना..., मुझसे जुदा होकर..., तुमसे जो देखते ही प्यार हुआ..., बहुत प्यार करते हैं तुमको सनम..., देखा है पहली बार साजन की आंखों में प्यार..., रूप सुहाना लगता है चांद पुराना लगता है..., जिएं तो जिएं कैसे बिन आपके..., हम बने तुम बने एक दूजे के लिए..., मेरे जीवनसाथी प्यार किए जा..., तेरे मेरे बीच में कैसा है ये बंधन अनजाना..., सच मेरे यार है बस यही प्यार है..., मैं तुम में समा जाऊं तुम मुझमें..., हम तुमसे प्यार न करते तो..., देखो देखो ये तो कमाल हो गया..., आके तेरी बांहों में हर शाम लगे..., जीना तेरी गली में..., सागर से गहरा है प्यार हमारा..., प्रियतमा ओ मेरी प्रियतमा...।

बॉलीवुड और साउथ इंडियन फिल्म इंडस्ट्री के मशहूर सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम की सेहत पिछले दिनों ज्यादा बिगड़ गई थी। 74 साल के बालू को कोरोना होने के बाद चेन्नई के हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। जब उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई, तो उन्हें आईसीयू में रखा गया। एसपी ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो जारी कर बताया था, कुछ दिनों से मुझे थोड़ी परेशानी हो रही थी। सर्दी और बुखार था। मैं इसे आसान समझ रहा था। जब जांच करवाने के लिए अस्पताल गया तो कोरोना निकला। उन्होंने मुझे घर पर रहने और दवा लेने के लिए कहा, लेकिन मैंने रिस्क लेना सही नहीं समझा। मेरा परिवार भी चिंतित हो गया। मैं अस्पताल में भर्ती हो गया। मैं ठीक हो जाऊंगा। आप सभी का कॉल नहीं रिसीव कर सकता। मेरी चिंता के लिए धन्यवाद। लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था। वे हमसे अपना अनजाना बंधन तोड़ कर आज चले गए।

गायकी की दुनिया में अपने अलग अंदाज के लिए मशहूर एसपी का पूरा नाम श्रीपति पंडितराध्युला बालासुब्रमण्यम था। उन्होंने 16 भारतीय भाषाओं में हजारों गाने गाये। सन 2011 में उन्हें पद्म भूषण से नवाजा गया।

4 जून, 1946 को सिम्हापुरी, नेल्लोर, आंध्र प्रदेश में जन्मे एसपी ने इंजीनियंरिंग की पढ़ाई की थी। इसी दौरान उन्होंने संगीत की भी शिक्षा ली। उनकी 15 दिसंबर, 1966 को रिलीज हुई तेलुगु फिल्म श्री श्री मर्यादा रमन्ना से बतौर गायक अपने करियर की शुरुआत हुई। हिंदी फिल्मों में एसपी ने एक दूजे के लिए, मैंने प्यार किया, पत्थर के फूल, हम आपके हैं कौन, रोजा, सागर, मझधार, प्रेम कैदी, जीना तेरी गली में, वंश, ये तो कमाल हो गया, एक ही भूल, द जेंटिलमैन, रास्ते प्यार के आदि फिल्मों के लिए गीत गाये। करीब 15 साल तक हिंदी फिल्मों से दूर रहने के बाद 2013 में उन्होंने शाहरुख खान की फिल्म चेन्नई एक्सप्रेस के लिए गीत गाया। 

एसपी बेहतरीन गायक, संगीतकार और निर्माता होने के साथ ही अच्छे वाइस ओवर आर्टिस्ट भी थे। उन्होंने कमल हासन, रजनीकांत, सलमान खान, शाहरुख खान, अनिल कपूर, गिरीश कर्नाड और अर्जुन सरजा जैसे एक्टर्स के लिए वॉइस ओवर किया। इतना ही नहीं फिल्म दशावतारम के तेलुगु वर्जन के लिए उन्होंने कमल हासन के 7 किरदारों की आवाज का वॉइस ओवर भी किया। इसमें बूढ़ी औरत वाले किरदार की आवाज भी उन्होंने ही दी थी। अब उनकी मदिर आवाज़ में गाये गीत हमें जब भी सुनाई देंगे, याद आ जायेंगे बालू...

-रतन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...