गुरुवार, 7 जनवरी 2021

पलकें / संतोष अग्निहोत्री

 _पलकें / संतोष  अग्निहोत्री 


तुम बिन 

बारिश भी सूखी सी🌫


तुम बिन

हवा चले रूठी सी😔


तुम बिन

खुशबू भी फीकी सी🌹


तुम बिन

हँसी भी झूठी सी🙂


तुम बिन

तारे कम हैं चमके⭐


तुम बिन

फूल नहीं हैं महके🌻


तुम बिन

पलकें भी हैं बोझिल😞


तुम बिन

कुछ कहना है मुश्किल🤐


सच्ची..................


❤❤❤❤

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...