रविवार, 20 जून 2021

बाबूजी और श्मशान / जयनंदन

बाबूजी और शमशान


बाबूजी श्मशान थे

और श्मशान एक तरह से बाबूजी 

दोनों एक-दूसरे के पर्याय

रोज बाबूजी में चितायें जलती थीं

और रोज चिताओं में बाबूजी जलते थे

डरावने अंधेरों की नीरवता में गुम 

श्मशान में

यानी बाबूजी में

अनगिनत कुत्ते और स्यार गुहार मचाते थे

और कुत्ते तथा स्यारों की आवाजों से

श्मशान की

यानी बाबूजी की

पहचान बनती थी

इस तरह बाबूजी में श्मशान था

और श्मशान में बाबूजी


बाबूजी और श्मशान 

 

और श्मशान एक तरह से बाबूजी 

दोनों एक-दूसरे के पर्याय

रोज बाबूजी में चितायें जलती थीं

और रोज चिताओं में बाबूजी जलते थे

डरावने अंधेरों की नीरवता में गुम 

श्मशान में

यानी बाबूजी में

अनगिनत कुत्ते और स्यार गुहार मचाते थे

और कुत्ते तथा स्यारों की आवाजों से

श्मशान की

यानी बाबूजी की

पहचान बनती थी

इस तरह बाबूजी में श्मशान था

और श्मशान में बाबूजी


जयनंदन



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...