बुधवार, 22 जुलाई 2020

संवाद



युवाओं से #वार्ता के पश्चात #यात्री_मन भविष्य के प्रति अत्यंत आशान्वित हो उठता है ! पूर्व में युवाओं से वार्ता हेतु अत्यंत परिश्रम करना पड़ता था परंतु जब से मैंने #वर्चुअल माध्यमों का प्रयोग प्रारंभ किया है, तब से #साक्षात्कार हेतु भौतिक दूरियों का अवरोध निश्चित समाप्त हो गया है ! बीते लगभग 1 माह में ही समय की उपलब्धता के अनुसार अनेक अवसरों पर युवाओं के साथ #संवाद संभव हो सका ! इनमें #इंफोसिस के #स्पार्क_सीरीज़ में व्याख्यान, #टेडेक्स_बाँकीपुर, #पाटलिपुत्र_हिस्टोरिकल_सोसाईटी, #बिहार_यंग_थिंकर मीट में विचार मंथन, #गया स्थित विद्यालय के छात्रों के साथ साक्षात्कार, #हिमाचल_प्रदेश के छात्रों के साथ #युवा_संवाद, #रोहतास के संस्मरण, #पटना_साईंस_काॅलेज के छात्रों से सफलता के सूत्रों पर चर्चा, #इंडिया_राउंड_अप समेत सभी कार्यक्रमों की स्मृतियाँ मन में निश्चित ही अक्षुण्ण बनी रहेंगी ! मन अत्यंत सकारात्मक है और यह निश्चित रूप से अनुभव कर रहा है कि राष्ट्रहित में भविष्य के प्रति योगदान समर्पित करने का यह एक अच्छा माध्यम है ! भविष्य में भी इस क्रम को गतिमान रखने की अभिलाषा है ! स्मृतिचित्र आज संध्या में #केरल के युवाओं हेतु एक आॅनलाईन साक्षात्कार के पूर्व की है ! #यात्रा गतिमान है !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...