शुक्रवार, 22 अप्रैल 2022

कुछ तो अपना रहने दे / पवन दीक्षित

 कोई भूमिका नही ... बस ... भाई पवन दीक्षित को पढ़ कर देखिये....


मुझसा लगना रहने दे

कुछ तो अपना रहने दे


अपनी हसरत पूरी कर

मेरा सपना रहने दे


सिर्फ भरम ही टूटेंगे 

छोड़ परखना रहने दे


सच्चा होना काफी है

गंगा जमना रहने दे


सच कहने की हिम्मत कर

यूँ दिल रखना रहने दे


उकता गया ख़ुशी से मन

आज अनमना रहने दे

पवन दीक्षित

1 टिप्पणी:

प्रेमचंद / जयचन्द प्रजापति

 कलम के जादूगर-मुंशी प्रेमचंद्र ++++++++++++++++++ आजादी के पहले भारत की दशा दुर्दशा देखकर सबका कलेजा फट रहा था.दयनीय हालत हमारे देश के समाज...