शुक्रवार, 22 अप्रैल 2022

कुछ तो अपना रहने दे / पवन दीक्षित

 कोई भूमिका नही ... बस ... भाई पवन दीक्षित को पढ़ कर देखिये....


मुझसा लगना रहने दे

कुछ तो अपना रहने दे


अपनी हसरत पूरी कर

मेरा सपना रहने दे


सिर्फ भरम ही टूटेंगे 

छोड़ परखना रहने दे


सच्चा होना काफी है

गंगा जमना रहने दे


सच कहने की हिम्मत कर

यूँ दिल रखना रहने दे


उकता गया ख़ुशी से मन

आज अनमना रहने दे

पवन दीक्षित

2 टिप्‍पणियां:

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...