रविवार, 17 अप्रैल 2022

विधि का विधान*

 प्रस्तुति - रेणु दत्ता / आशा सिन्हा


*श्री राम का विवाह और राज्याभिषेक, दोनों शुभ मुहूर्त देख कर किए गए थे; फिर भी न वैवाहिक जीवन सफल हुआ, न ही राज्याभिषेक!* 


*और जब मुनि वशिष्ठ से इसका उत्तर मांगा गया, तो उन्होंने साफ कह दिया* 


*"सुनहु भरत भावी प्रबल,*

*बिलखि कहेहूं मुनिनाथ।*

*हानि लाभ, जीवन मरण,*

*यश अपयश विधि हाथ।।"*


*अर्थात - जो विधि ने निर्धारित किया है, वही होकर रहेगा!*


*न राम के जीवन को बदला जा सका, न कृष्ण के!*


*न ही महादेव शिव जी सती की मृत्यु को टाल सके, जबकि महामृत्युंजय मंत्र उन्हीं का आवाहन करता है!*


*न गुरु अर्जुन देव जी, और न ही गुरु तेग बहादुर साहब जी, और दश्मेश पिता गुरु गोविन्द सिंह जी, अपने साथ होने वाले विधि के विधान को टाल सके, जबकि आप सब समर्थ थे!*


*रामकृष्ण परमहंस भी अपने कैंसर को न टाल सके!*


*न रावण अपने जीवन को बदल पाया, न ही कंस, जबकि दोनों के पास समस्त शक्तियाँ थी!*


*मानव अपने जन्म के साथ ही जीवन, मरण, यश, अपयश, लाभ, हानि, स्वास्थ्य, बीमारी, देह, रंग, परिवार, समाज, देश-स्थान सब पहले से ही निर्धारित करके आता है!*


*इसलिए सरल रहें, सहज, मन, वचन और कर्म से सद्कर्म में लीन रहें!*



*सदैव प्रभुमय रहें, आनन्दित रहें!* 

🌹🌹🙏 जय श्री हरि🙏🌹🌹

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम जनमेजय होने का मतलब /

  मैं अगस्त 1978 की एक सुबह पांच बजे दिल्ली के अंतर्राज्यीय बस अड्डे पर उतरा था, किसी परम अज्ञानी की तरह, राजधानी में पहली बार,वह भी एकदम अक...