बुधवार, 6 अप्रैल 2022

तब रोक ना पाया मैं आंसू / हरिवंश रॉय बच्चन

 कविवर श्री हरिवंश राय "बच्चन" जी की यह कविता आज अचानक बहुत याद आ रही है ...


तब  रोक  न  पाया  मैं  आँसू !


जिसके  पीछे  पागल  होकर

मैं  दौडा  अपने  जीवन  भर,

जब मृगजल में परिवर्तित हो 

मुझ  पर  मेरा  अरमान  हंसा !

तब  रोक  न  पाया  मैं  आंसू !


जिस में अपने  प्राणों को भर

कर  देना  चाहा  अजर-अमर,

जब विस्मृति के पीछे छिपकर 

मुझ  पर  वह  मेरा  गान हंसा !

तब  रोक  न  पाया  मैं  आंसू !


मेरे    पूजन    आराधन    को

मेरे    सम्पूर्ण    समर्पण   को,

जब  मेरी  दुर्बलता  कह  कर 

मेरा    पूजित   पाषाण   हंसा !

तब  रोक  न   पाया  मैं  आंसू !


साभार : स्वर्गीय श्री हरिवंश राय बच्चन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...