मंगलवार, 20 सितंबर 2022

हसीन चाँद पे इक घर दिखाई देता है। / आराधना प्रसाद

 श्रीमती आराधना प्रसाद पटना की उन थोड़े-से साहित्यकारों में शामिल हैं जिन्हें हिन्दी-उर्दू, दोनों भाषाओं में समान रूप से पढ़ा और सुना जाता है और जिनकी भाषा इन दोनों भाषाओं के भेद को मिटाती है :


अजीब शाम का मंजर दिखाई देता है

जब आफ़ताब ज़मीं पर दिखाई देता है।

मुझे तो नील गगन के विराट आँगन में 

हसीन चाँद पे इक घर दिखाई देता है।

जिसे तू ढूँढ़ता रहता है इस ज़माने मेंU

मुझे वो खुद ही के अंदर दिखाई देता है।


श्रीमती प्रसाद मेरे कार्यालय आयीं और अपनी सद्यः प्रकाशित पुस्तक 'चाक पर घूमती रही मिट्टी' भेंट की।आराधना जी आपका बहुत बहुत आभार।



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विश्व में हिंदी : संजय जायसवाल

  परिचर्चा ,  बहस  |  2 comments कवि ,  समीक्षक और संस्कृति कर्मी।विद्यासागर  विश्वविद्यालय ,  मेदिनीपुर में सहायक प्रोफेसर। आज  दुनिया के ल...