बुधवार, 14 सितंबर 2022

हिंदी एक वैज्ञानिक भाषा है

 हिंदी एक वैज्ञानिक भाषा है और कोई भी अक्षर वैसा क्यूँ है उसके पीछे कुछ कारण है , 

अंग्रेजी भाषा में ये बात देखने में नहीं आती |

______________________


क, ख, ग, घ, ङ- कंठव्य कहे गए हैं, 

क्योंकि इनके उच्चारण के समय ध्वनि कंठ से निकलती है। 

एक बार बोल कर देखिये।


च, छ, ज, झ,ञ- तालव्य कहे गए हैं, 

क्योंकि इनके उच्चारण के समय जीभ तालू से लगती है। 

एक बार बोल कर देखिये।


ट, ठ, ड, ढ , ण- मूर्धन्य कहे गए हैं, 

क्योंकि इनका उच्चारण जीभ के मूर्धा से लगने पर ही सम्भव है।

 एक बार बोल कर देखिये।


त, थ, द, ध, न- दंतीय कहे गए हैं, 

क्योंकि इनके उच्चारण के समय जीभ दांतों से लगती है।

 एक बार बोल कर देखिये।


प, फ, ब, भ, म,- ओष्ठ्य कहे गए हैं, 

क्योंकि इनका उच्चारण होठों के मिलने पर ही होता है। 

एक बार बोल कर देखिये ।

________________________


हम अपनी भाषा पर गर्व करते सही है 

परन्तु लोगो को इसका कारण भी बताईये।

इतनी वैज्ञानिक दुनिया की कोई भाषा नही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मुक्ति

 🥀 *इस कथा को जो पढ़ेगा उसे 84 लाख योनियों से मुक्ति मिल जायेगी*🙏🥀 प्रस्तुति - नवल किशोट प्रसाद  *एक बार की बात है कि यशोदा मैया प्रभु श्...