गुरुवार, 6 जनवरी 2022

आईआईसी सालाना रेटिंग में टी एम यू मुरादाबाद क़ो मिला फोर स्टार ****

 बिग अचीवमेंट :


टीएमयू को अब आईआईसी रेटिंग में 4 स्टार!


तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के नॉर्दर्न  जोन के टॉप  टेन इंस्टीट्यूशन्स में शुमार 



ख़ास बातें


कुलाधिपति ने टीएमयू आईआईसी के अफसरों को दिया श्रेय


2021 में टीएमयू की झोली में उपलब्धियां ही उपलब्धियां


टीएमयू के इंक्यूबेटर सेंटर को मिली यूपी सरकार से हरी झंडी


आउटकम बेस्ड एजुकेशन श्रेणी में टीएमयू को बेस्ट यूनिवर्सिटी का खिताब


अगले वर्ष हमारी साझा मेहनत और चटक रंग लाएगी : डॉ.  मंजुला



प्रो. श्याम सुंदर भाटिया



इंस्टीट्यूशन्स इंनोवेशन काउंसिल- आईआईसी की 2020-21 की इंनोवेशन रेटिंग में तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी मुरादाबाद की झोली में फोर स्टार आए हैं। यूनिवर्सिटी के लिए यह बड़ी उपलब्धि है।


आईआईसी की टॉप  रैंकिंग पाने के लिए तय एक्टीविटीज में बढ़चढ़ कर शिरकत करनी होती है। मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन इंनोवेशन सेल- एमआईसी सालाना गतिविधियों का कैलेंडर जारी करता है। इनमें से कुछ गतिविधियां अनिवार्य होती हैं, जबकि अंतिम श्रेणी सेल्फ ड्रिविन की है।


यह इंस्टीट्यूट पर निर्भर करता है, वह स्वंय से इंनोवेशन, एंटरप्रेन्योरशिप, स्टार्ट-अप, इंक्यूबेशन में से किस श्रेणी में उल्लेखनीय काम करता है। टीएमयू ने सभी श्रेणियों में सकारात्मक भूमिका निभाई है। टीएमयू आईआईसी के अलावा छह कॉलेज एफओई, सीसीएसआईटी, फार्मेसी कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, नर्सिंग कॉलेज और एग्रीकल्चर कॉलेज में भी आईआईसी सेल गठित हैं, जिनमें एफओई और सीसीएसआईटी की झोली में 4 स्टार एवं अन्य चार कॉलेजों को आईआईसी के 3.5 स्टार आए हैं।


आईआईसी ने पूरे देश को 08 जोन में बांट रखा है। इनमें से एक नॉर्दर्न  जोन है, जिसमें यूपी, उत्तराखंड और बिहार तीन राज्यों के  सेंट्रल, स्टेट  और प्राइवेट यूनिवर्सिटीज, आईआईटी, आईआईआईटी और आईआईएम सरीखे उच्च शिक्षण संस्थान आते हैं। यूपी में तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी टॉप  टेन इंस्टीट्यूशन्स में शुमार है, जिसे सर्वोच्च फोर स्टार रेटिंग मिली है। 

 शिक्षा मंत्रालय के अधीन इंनोवेशन सेल ने देशभर में अपने को आठ जोनों- वेस्टर्न, साउथ वेस्ट, सदर्न, साउथ सेंट्रल, नोर्थ वेस्ट, नॉर्दर्न  जोन, ईस्टर्न और सेंट्रल जोन में बांट रखा है।

इस बार देश भर में किसी को भी फाइव स्टार नहीं मिला है। आईआईसी ने टीएमयू को बेस्ट परफॉर्मिंग इंस्टीट्यूशन्स की श्रेणी में रखा है। टीएमयू के कुलाधिपति श्री सुरेश जैन फोर स्टार को उल्लेखनीय उपलब्धि करार देते हुए कहते हैं, इसका श्रेय आईआईसी सेल के निदेशकों, प्राचार्यों, कॉर्डिनेटर्स के संग-संग स्टुडेंट्स को भी जाता हैं। कहते हैं, सेकेंड वेव के बावजूद टीएमयू ने आईआईसी के फोर स्टार समेत तमाम उपलब्धियां हासिल की हैं। 2020-21 में यूपी गवर्मेंट ने स्टार्ट-अप नीति के तहत टीएमयू इंक्यूबेटर सेंटर को मान्यता दी है। कॉलेज ऑफ  एग्रीकल्चर साइंसेज को आईसीएआर की हरी झंडी मिल चुकी है।


 ओबीई- आउटकम बेस्ड एजुकेशन क्रियान्वयन की श्रेणी में टीएमयू को बेस्ट यूनिवर्सिटी का खिताब मिला है। इसके अलावा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने टीएमयू को 12 बी का स्टेट्स दिया है। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के आईआईसी की प्रेसिडेंट एवम् एसोसिएट डीन डॉ. मंजुला जैन इंनोवेशन, एंटरप्रेन्योरशिप, स्टार्ट-अप और इंक्यूबेशन सेंटर को समय की दरकार बताते हुए बोलीं, हम सबकी साझा मेहनत अगले वर्ष और चटक रंग लाएगी। नतीजतन अब हमारा लक्ष्य फाइव स्टार हासिल करना है।



उल्लेखनीय है, उच्च शिक्षण संस्थानों में नवोन्मेष परिषद- आईआईसी का मुख्य मकसद युवा छात्रों के रचनात्मक कामों, अदभुत कल्पनाओं को प्रोत्साहित, प्रेरित और विकसित करना है। देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में नवाचार की संस्कृति को व्यवस्थित ढंग से प्रोत्साहित करने के लिए तात्कालिक मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 21 नवम्बर, 2018 को अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद- एआईसीटीई में एक ‘नवोन्मेष प्रकोष्ठ’ स्थापित किया था। इसका उद्देश्य देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में नवाचार की संस्कृति को प्रोत्साहित करना है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

रवि अरोड़ा की नजर से....

 आपने कभी देखी / रवि अरोड़ा किसी फिल्म का तो याद नहीं मगर जहां तक साक्षात दर्शन की बात है तो मुझे अभी तक लैंबोर्गिनी कार के दीदार नहीं हुए ।...