मंगलवार, 9 नवंबर 2021

अनूठे रचनाकार थे भारत यायवर / अनूप शुक्ला

 आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी रचनावली (पन्द्रह खंड) और फणीश्वरनाथ रेणु रचनावली (पाँच खंड) के संपादक , नामवर सिंह और रेणु के जीवनीकार , पूर्व और पश्चिम के साहित्य के गहन अध्येता , अप्रतिम शोधकर्ता तथा गजब के पढ़ाकू और लिक्खाड़ , हिन्दी के वरिष्ठ साहित्यकार  #भारत_यायावर नहीं रहे ....

             जब तक दिल्ली नहीं छूटी थी , भारत यायावर से प्रायः ही मुलाकातें होती रहती थीं .... और साहित्य की लंबी लंबी , लगभग अंतहीन चर्चाएँ भी .... वह दिल्लीवासी नहीं थे , लेकिन लेखन - प्रकाशन के नाते दिल्ली से इतना जुड़े थे - या कहें कि इतना अधिक आते-जाते थे - कि लंबे समय तक , बहुतों की तरह हम भी यही समझते रहे कि वह जमनापार बसने वाले लेखकों में से ही एक हैं ....

           भारत यायावर अपने लेखन में जितने गंभीर थे , मित्रों के बीच उतने ही अनौपचारिक , जिंदादिल , सहज और लोकप्रिय .... अभी कुछ दिन पहले ही उनके द्वारा लिखी तथा रजा पुस्तकमाला  के अंतर्गत प्रकाशित #रेणु_एक_जीवनी का #पहला_खंड प्राप्त हुआ था .... दूसरे खंड पर वह काम कर रहे थे .... 

              अब #दूसरा_खंड तो चाहे मिल भी जाए , लेकिन भारत यायावर कभी , कहीं नहीं मिलेंगे .... न अक्षर में , न आई.टी.ओ. में , न मंडी हाउस में , न किसी गोष्ठी में , न ज्ञान प्रकाश विवेक के दफ्तर में और न ब्रजमोहन की दुकान पर ....

               अत्यन्त परिश्रमी और अपनी तरह के अनूठे रचनाकार भारत यायावर .... #अलविदा ....


                                    #अनूप_शुक्ल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

तलाक के बाद फिर से

 पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता ...