मंगलवार, 9 नवंबर 2021

लालच / कृष्ण मेहता

 , :       *🙏🙏*    :


  🔆  *अहसास*  🔆



एक गांव में एक समृद्ध व्यक्ति रहता था. उसके

 पास धातु से बने हुए कई बरतन थे. 

गांव के लोग शादी आदि के अवसरों पर यह बरतन उस से मांग लिया करते थे. 

एक बार एक आदमी ने ये बरतन मांगे.

 वापस करते समय उसने कुछ छोटे बरतन बढा कर दिये.

 

   समृद्ध व्यक्ति ने पूछा- बरतन कैसे बढ गये?


   उसने कहा- मांग कर ले जाने वाले बरतनों में से कुछ गर्भ से थे. उनके छोटे बच्चे हुए हैं.


   समृद्ध व्यक्ति को छोटे बरतनों से लोभ हो गया. 

उसने बरतन लौटाने वाले व्यक्ति को ऐसे देखा, जैसे उसके कहानी पर विश्वास हो गया हो. उसने सारे बरतन रख लिये.


   कुछ दिन बाद वही व्यक्ति फिर से बरतन मांगने आया. 

समृद्ध व्यक्ति ने मुस्कुराते हुए बरतन दे दिये. काफी समय तक बरतन वापस नहीं मिले.

 

   इस पर बरतनों के मालिक ने इसका कारण पूछा.


   बरतन मांग कर ले जाने वाले व्यक्ति ने जवाब दिया- मैं वह बरतन नहीं दे सकता, क्योंकि उनकी मृत्यु हो गयी है.


   समृद्ध व्यक्ति ने पूछा- परंतु बरतन कैसे मर सकते हैं?

 

   उत्तर मिला- यदि बरतन बच्चे दे सकते हैं, तो वे मर भी सकते हैं.

 

   अब उस समृद्ध व्यक्ति को अपनी गलती का अहसास हुआ और वह हाथ मलता रह गया.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हरिवंशराय बच्चन

हरिवंशराय बच्चन  की 114वीं जयंती है.... इलाहाबाद के दिनों में हरिवंश राय बच्चन की सबसे अधिक निकटता शमशेर बहादुर सिंह सिंह,  पंडित नरेन्द्र श...